• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

20 साल से पिंजड़े में बंद था कछुआ, छूटते ही बच्चों के लिए तय किया 37000 KM का सफर

|

नई दिल्ली: कछुआ समुद्र में रहने वाला एक शानदार जीव है। आमतौर पर शांत से दिखने वाले कछुए के शिकार में पिछले कई सालों से तेजी देखी जा रही है, हालांकि सभी देशों में इनके संरक्षण के लिए सरकारें अभियान चला रही हैं। कुछ साल पहले एक कछुए ने समुद्र में 37 हजार किलोमीटर का सफर तय किया था, जिसकी कहानी लोगों के लिए प्रेरणादायक है।

अफ्रीका से पहुंच गया ऑस्ट्रेलिया

अफ्रीका से पहुंच गया ऑस्ट्रेलिया

जीव वैज्ञानिकों के मुताबिक योशी नाम के कछुए ने अपने बच्चों को जन्म देने और उनके पालन पोषण के लिए जगह की तलाश करते हुए 37 हजार किलोमीटर की यात्रा की। उसकी ये यात्रा अफ्रीका से ऑस्ट्रेलिया तक की थी। उन्होंने कहा कि हमें ये देखने की जरूरत है कि आखिर क्यों और कैसे ये जानवर इतनी लंबी यात्रा करते हैं।

शरीर पर लगा सैटलाइट टैग

शरीर पर लगा सैटलाइट टैग

एक रिपोर्ट के मुताबिक योशी नाम के मादा कछुए को घायल हालत में पाया गया था। जिसके बाद जीव प्रेमियों ने उसका इलाज करवाया और स्वस्थ होने तक उसकी निगरानी की। इसी बीच उसके शरीर पर सैटलाइट टैग लगा दिया गया, ताकी उसकी प्रजाति के बारे में और जानकारी हासिल की जा सके। 20 साल की कैद के बाद आखिरकार उसे रिहा कर दिया गया। जिसके बाद उसने अपने घर की तलाश शुरू की। फिर अपनी मंजिल की तलाश में वो चलती गई और आधी दुनिया का चक्कर लगा लिया। 37 हजार किलोमीटर के सफर की कहानी को सुनकर लोगों के होश उड़ गए।

सबसे ज्यादा होती है कछुए की उम्र

सबसे ज्यादा होती है कछुए की उम्र

आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि पृथ्वी पर सबसे ज्यादा जीवित रहने वाले जीवों में कछुआ सबसे ऊपर है। उसकी औसत उम्र 150-200 साल के करीब होती है। प्राचीन धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक, समुद्र मंथन के समय भगवान विष्णु ने 'कच्छप अवतार' (कछुआ के रूप में अवतार) लिया था। ऐसी धारणा है कि भगवान के आशीर्वाद से ही कछुओं की उम्र सबसे अधिक होती है।

क्यों होता है कछुओं का शिकार?

क्यों होता है कछुओं का शिकार?

मौजूदा वक्त में कछुओं का शिकार तेजी से बढ़ता जा रहा है। हालात ऐसे हैं कि पीले कछुए तो तस्करों की वजह से विलुप्ति की कगार पर पहुंच गए हैं। जीव वैज्ञानिकों का मानना है कि कछुओं का शिकार किये जाने के दो मुख्य कारण हैं, पहला इसके मांस को खाने का चलन और दूसरा इनका बढ़ता व्यापार। समाज में एक प्रचलित धारणा कि इनका मांस शरीर की ऊर्जा को बढ़ाता है और शरीर को विभिन्न बीमारियों से दूर रखता है। इसी वजह से तस्करों की नजर इन पर रहती है।

SIKAR : मिठाई विक्रेता को 16.50 लाख रुपए में बेचा मरा हुआ कछुआ, बोले-दूध में डालो, जिंदा हो जाएगाSIKAR : मिठाई विक्रेता को 16.50 लाख रुपए में बेचा मरा हुआ कछुआ, बोले-दूध में डालो, जिंदा हो जाएगा

English summary
Turtle traveled 37 thousand kilometers for home and family
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X