India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

वैज्ञानिकों ने ढूढ़ निकाला धरती जैसा हरियाली से भरा दूसरा ग्रह, जानिए वहां क्‍या हम पहुंच पाएंगे?

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली, 19 मई: दुनिया भर के वैज्ञ‍ानिक आए दिन नई- नई खोज करते रहते हैं। आए दिन विशालकाय अंतरिक्ष की दुनिया के रहस्‍यों का खुलासा करते रहते हैं और हमें वो आश्‍चर्यचकित करते रहते हैं। अब वैज्ञानिकों ने धरती के जैसा एक ग्रह ढूढ़ निकाला है जहां मनुष्‍य के जिंदा रहने के लिए आवश्‍यक चीजें मौजूद हैं।

ये धरती जैसा ही है ग्रह है और बेहद करीब है

ये धरती जैसा ही है ग्रह है और बेहद करीब है

जिन वैज्ञानिकों ने इस ग्रह की खोज की है उनका कहना है कि अपने अपेक्षाकृत करीब एक एक्सोप्लैनेट पाया है जो संभवतः एक दिन मनुष्यों के लिए एक वैकल्पिक घर के रूप में काम कर सकता है क्‍यों कि ये धरती जैसा ही है और धरती से अधिक दूर नहीं है।

इस ग्रह को खगोलविदों ने दिया है ये नाम

इस ग्रह को खगोलविदों ने दिया है ये नाम

Scientists Discover Earth Like Exoplanet ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है ये धरती से बहुत दूरी पर नहीं है। खगोलविदों ने 'प्रॉक्सिमा डी' नाम दिया है। इसे हमारे सूर्य के निकटतम पड़ोसी तारे प्रॉक्सिमा सेंटॉरी की परिक्रमा करते हुए पाया गया।

वैज्ञानिकों ने किया खुलासा-क्‍यों पहुंचना होगा असंभव?

वैज्ञानिकों ने किया खुलासा-क्‍यों पहुंचना होगा असंभव?

यह खबर रोमांचक है ये ग्रह अभी चार प्रकाश-वर्ष से अधिक दूर है, इसका मतलब है कि आज उपलब्ध सबसे उन्नत तकनीक के साथ मनुष्यों को वहां यात्रा करने में कम से कम 800 साल लगेंगे।

जानिए प्रकाश वर्ष क्‍या होता है

जानिए प्रकाश वर्ष क्‍या होता है

जिस प्रकाश वर्ष की वजह से जहां इस धरती जैसे ग्रह पर वैज्ञानिकों का जा पाना असंभव है वो प्रकाश वर्ष वो दूरी होती है, जिसके माध्‍यम से तारे से दूसरे ग्रह तक प्रकाश के पहुंचने का समय मापा जाता है। एक सेकेंड में प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर होती है। ऐसे में 4 प्रकाश वर्ष की दूरी बहुत ज्‍यादा हो जाती है।

अगर ये हुआ तो प्रॉक्सिमा डी तक भी हम पहुंच जाएंगे

अगर ये हुआ तो प्रॉक्सिमा डी तक भी हम पहुंच जाएंगे

हालांकि, भविष्य के इंसानों को एक दिन बाहरी अंतरिक्ष के माध्यम से प्रकाश की गति से यात्रा करने की कला पर विजय प्राप्त करनी चाहिए, प्रॉक्सिमा डी तक भी हम पहुंच जाएंगे। यूरोपियन सदर्न ऑब्जर्वेटरी (ESO)ने इस साल की शुरुआत में इस खोज की घोषणा की, Proxima d, Proxima Centauri सौर मंडल में पाया जाने वाला तीसरा ग्रह बन गया।

 दिलचस्प नई दुनिया से भरे हुए हैं

दिलचस्प नई दुनिया से भरे हुए हैं

ईएसओ प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पुर्तगाल में इंस्टिट्यूट डी एस्ट्रोफिसिका ई सिएनियास डो एस्पाको के एक शोधकर्ता जोआओ फारिया ने कहा खोज से पता चलता है कि हमारे निकटतम तारकीय पड़ोसी आगे के अध्ययन और भविष्य की खोज की पहुंच के भीतर दिलचस्प नई दुनिया से भरे हुए हैं। एक्सोप्लैनेट, जो पृथ्वी के आकार का लगभग एक चौथाई है और केवल पांच दिनों में अपने तारे के चारों ओर एक पूर्ण कक्षा पूरी करता है, माना जाता है कि वह अपने सौर मंडल के रहने योग्य क्षेत्र में है।

जानें राखी सावंत से कितने छोटे हैं उनके नए प्रेमी आदिल दुर्रानी, एक्‍ट्रेस ने रिलेशन को लेकर किए कई खुलासेजानें राखी सावंत से कितने छोटे हैं उनके नए प्रेमी आदिल दुर्रानी, एक्‍ट्रेस ने रिलेशन को लेकर किए कई खुलासे

Comments
English summary
Scientists have found another planet full of greenery like Earth, know whether we will be able to reach there?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X