• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पृथ्वी पर जल प्रलय का कारण बनेगा चंद्रमा, NASA की चेतावनी- 2030 के दशक में होगी तबाही

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, जुलाई 14: दुनियाभर के वैज्ञानिक लगातार क्लाइमेट चेंज को लेकर समय-समय पर चेतावनियां और अध्ययन जारी करते रहते हैं। आमतौर पर पृथ्वी पर अचानक मौसम में बदलाव के लिए जलवायु परिवर्तन को जिम्मेदार माना जाता है, जिसके चलते कई देशों को खासकर अमेरिका को बाढ़ जैसी विभीषकाओं का सामना करना पड़ता है। लोगों का मानना है कि, ग्लोबल वॉर्मिंग और जलवायु परिवर्तन इन घटनाओं के लिए जिम्मेदार है लेकिन अब नई स्टडी में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। इसके मुताबिक, इन मौसमी घटनाओं को चंद्रमा के साथ जोड़ा गया है।

2030 के दशक में कई बार आएगी ‘तबाही'

2030 के दशक में कई बार आएगी ‘तबाही'

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा द्वारा किए गए अध्ययन में दावा किया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र के स्तर में बढ़ोत्तरी के साथ चंद्रमा की अपनी कक्षा में डगमगाने के चलते पृथ्वी पर विनाशकारी बाढ़ आ सकती है। 21 जून को जर्नल नेचर क्लाइमेट चेंज में छपी एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। अध्ययन में यह पूर्वानुमान लगाया गया है कि अमेरिकी तटीय इलाकों में 2030 के दशक में उच्च ज्वार के कारण होने वाली बाढ़ की रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी होगी। नासा के एक अध्ययन के अनुसार 2030 के दशक के मध्य तक ये ‘विनाशकारी बाढ़' लगातार और अनियमित रूप से जनजीवन को प्रभावित करेगी

    NASA की स्टडी, 2030 में चांद की हलचल से धरती पर आएगी विनाशकारी बाढ़ । वनइंडिया हिंदी
     कुछ ही महीनों में बड़े पैमाने पर आएगी बाढ़: स्टडी

    कुछ ही महीनों में बड़े पैमाने पर आएगी बाढ़: स्टडी

    लाइव साइंस की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका में तटीय क्षेत्र जो अभी महीने में सिर्फ दो या तीन बाढ़ का सामना करते हैं, जल्द ही एक दर्जन या अधिक का सामना कर सकते हैं। अध्ययन में चेतावनी दी गई है कि ये बाढ़ पूरे साल प्रभावित नहीं करेगी बल्कि कुछ ही महीनों में बड़े पैमाने पर अपना असर दिखाएगी। शोधकर्ताओं ने आगाह किया कि अगर देशों ने अभी से इससे निपटने की योजना शुरू नहीं की तो तटीय बाढ़ से लंबे समय तक मौसम जीवन और आजीविका बुरी तरह प्रभावित होगी।

    चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण में यह बदलाव उसकी कक्षा के डगमगाने से होगा

    चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण में यह बदलाव उसकी कक्षा के डगमगाने से होगा

    अमेरिका के नेशनल ओसियानिक एंड एटमॉस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन के मुताबिक साल 2019 में आटलांटिक और खाड़ी तटों पर बाढ़ के 600 से ज्यादा ऐसे मामले सामने आए थे। वैज्ञानिकों का कहना है कि चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण में यह बदलाव उसकी कक्षा के डगमगाने से होगा। जिसका प्रभाव पृथ्वी पर उच्च ज्वार बढ़ने के रूप में होगा। नासा के एक्सपर्ट बिल नेल्सन ने कहा कि बढ़ती बाढ़ के चलते समुद्र तल के पास के निचले इलाके जोखिम के सबसे नजदीक हैं आने वाले समय में खतरा और ज्यादा बढ़ेगा।

    इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की जासूसी कर रहे हैं एलियंस? NASA की लाइव स्ट्रीमिंग में दिखे 10 UFOइंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की जासूसी कर रहे हैं एलियंस? NASA की लाइव स्ट्रीमिंग में दिखे 10 UFO

    समुद्र के स्तर के साथ चंद्रमा के कंपन का जुड़ना खतरनाक है

    समुद्र के स्तर के साथ चंद्रमा के कंपन का जुड़ना खतरनाक है

    उन्होंने कहा कि, चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण खिंचाव, समुद्र के बढ़ते स्तर और जलवायु परिवर्तन का संयोजन हमारे समुद्र तटों और दुनिया भर में तटीय बाढ़ को बढ़ाता रहेगा। बाढ़ पर चंद्रमा के प्रभाव के बारे में बताते हुए, अध्ययन के प्रमुख लेखक और हवाई विश्वविद्यालय में एक सहायक प्रोफेसर फिल थॉम्पसन ने कहा कि चंद्रमा को कक्षा में अपने चक्कर को पूरा होने में 18.6 साल लगते हैं।उन्होंने कहा कि पृथ्वी पर बढ़ती गर्मी के चलते बढ़ रहे समुद्र के स्तर के साथ चंद्रमा के कंपन का जुड़ना खतरनाक है।

    English summary
    Nasa says Moon's 'wobble' will cause devastating floods in 2030s
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X