• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नासा: शुक्र ग्रह आग की भट्टी जैसा क्यों, जानने के लिए दो मिशन

By BBC News हिन्दी
Google Oneindia News

शुक्र ग्रह
NASA/JPL-Caltech via REUTERS
शुक्र ग्रह

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने कहा है कि शुक्र ग्रह के वायुमंडल और उसकी भूवैज्ञानिक विशेषताओं की जाँच के लिए दो मिशन भेजे जाएँगे.

नासा ने कहा है कि इन दोनों मिशन के लिए 50-50 करोड़ डॉलर की फंडिंग को मंज़ूरी मिल गई है और ये मिशन साल 2028 और 2030 के बीच लॉन्च होंगे.

मंगल पर नासा के रोवर के 100 दिनों की हैरतअंगेज़ तस्वीरें

चीन की बड़ी कामयाबी, चुरोंग रोवर मंगल पर पहुँचा

नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने कहा है कि इन मिशन के ज़रिए "हमें एक ऐसे ग्रह को समझने का मौक़ा मिलेगा जिस पर हम बीते 30 सालों से जा नहीं सके हैं."

शुक्र ग्रह के लिए भेजा गया आख़िरी अंतरिक्षयान मैगलिन ऑर्बिटर था, जिसे साल 1990 में भेजा गया था. हालाँकि इसके बाद भी कई अंतरिक्ष मिशन रहे, जो शुक्र के नज़दीक से गुज़रे.

बिल नेलसन
REUTERS/Al Drago
बिल नेलसन

इन दो शुक्र मिशन को अधिकारियों की समीक्षा प्रक्रिया के बाद इनके वैज्ञानिक मूल्य और विकास योजना में बेहतरी की संभावना को देखते हुए चुना गया है.

बिल नेल्सन ने कहा, "ये दो साझा मिशन होंगे, जो ये समझने की कोशिश करेंगे कि शुक्र ग्रह क्यों इस तरह की भट्टी-सा बन गया जिसकी सतह पर सीसा तक पिघल सकता है."

नासा की बड़ी कामयाबी, मंगल पर हेलिकॉप्टर उड़ाने में सफल

भव्या लाल जिन्हें नासा ने बनाया कार्यकारी प्रमुख

शुक्र हमारे सौरमंडल में सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने वाला दूसरा ग्रह है. ये सौरमंडल का सबसे अधिक गर्म ग्रह है.

पृथ्वी की तुलना में सूर्य से इसकी नज़दीकी के कारण इसकी सतह पर तापमान 500 सेंटीग्रेड तक रह सकता है, इस तापमान पर सीसा भी पिघल सकता है.

2012 की इस तस्वीर में शुक्र ग्रह सूर्य के चारों ओर चक्कर लगता हुआ
Reuters
2012 की इस तस्वीर में शुक्र ग्रह सूर्य के चारों ओर चक्कर लगता हुआ

मिशन

डीप एटमॉस्फ़ेरिक वीनस इंवेस्टिगेशन ऑफ़ नोबल गैसेस, केमिस्ट्री एंड इमेजिंग नाम का दाडाविन्ची प्लस मिशन शुक्र के वायुमंडल का अध्ययन करेगा और ये पता लगाने की कोशिश करेगा कि ये ग्रह कैसे बना. ये मिशन ये भी पता लागाएगा कि क्या कभी इस ग्रह पर कोई समुद्र भी था.

उम्मीद की जा रही है कि दाविन्ची प्लस मिशन शुक्र की भूवैज्ञानिक विशेषता "टेसरी" की हाई रिज़ेल्यूशन तस्वीरें भेजेगा.

शुक्र ग्रह
NASA/JPL-Caltech via REUTERS
शुक्र ग्रह

लूनर एंड प्लानेटरी इंस्टीट्यूट के अनुसार "टेसरी" शुक्र का सबसे पुराना भूवैज्ञानिक क्षेत्र है और ये ज्वालामुखी के विस्फोट से बने ग्रह के मैदानी क्षेत्र की तुलना में ऊँचाई पर है. वैज्ञानिक मानते हैं कि इस क्षेत्र में ग्रह की सतह पर ज्वालामुखी के लावा की परत नहीं होगी और इस कारण यहाँ महत्वपूर्ण अवशेष मिल सकते हैं.

वैज्ञानिकों के अनुसार टेसरी में जिस तरह की चट्टानें देखी गई हैं, वो पृथ्वी पर पाई जाने वाली चट्टानों के समान हो सकती हैं और इसका अर्थ ये भी हो सकता है कि शुक्र में भी पृथ्वी की तरह टेक्टोनिक प्लेट्स हों.

टेक्टोनिक प्लेट्स की थ्योरी के अनुसार पृथ्वी की बाहरी सतह बड़े-बड़े भूखंडों में बँटी हुई है, जिन्हें प्लेट्स कहते हैं जो धीरे-धीरे खिसकते रहते हैं.

https://twitter.com/nasahqphoto/status/1400210644792643594

वेरिटास मिशन

दूसरी मिशन वीनस एमिसिविटी, रेडियो साइंस, इनसार, टोपोग्राफ़ी एंड स्पैक्ट्रोस्कोपी यानी वेरिटास मिशन है जो शुक्र की एक पूरी तस्वीर बनाने की कोशिश करेगा. इसके ज़रिए ये मिशन ग्रह के भूवैज्ञानिक इतिहास को समझने की कोशिश करेगा और जाँच करेगा कि इसका विकास पृथ्वी से अलग क्यों हुआ.

ग्रह की सतह पर ऊँची-नीची जगहों की तस्वीर बनाने के लिए ये एक तरह के रडार का इस्तेमाल करेगा और ये भी पता लगाएगा कि क्या यहाँ पर अभी भी ज्वालामुखी फटते हैं और भूकंप के झटके आते हैं.

डॉ. स्वाति मोहन: नासा के मंगल मिशन में शामिल भारतीय मूल की महिला

नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने मंगल ग्रह की सतह पर खोज शुरू की

नासा के प्लेनेटरी साइंस विभाग के टॉम वैगनर ने कहा, "ये आश्चर्य की बात है कि हम शुक्र के बारे में कितना कम जानते हैं. लेकिन इन दोनों मिशन से जो नतीजे मिलेंगे उसके बाद हम इस ग्रह के आसमान के बादलों से लेकर इसकी सतह पर मौजूद ज्वालामुखी और उसके भीतर की बातें भी जान सकेंगे."

उन्होंने कहा, "ये इस ग्रह को एक बार फिर खोजने की तरह होगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
nasa announces plans for two new venus missions
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X