• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'मानव सहित यान भेजने और ऊर्जा क्षेत्र में आगे बढ़ेंगे...'

By पाणिनी आनंद
|
चंद्रयान-1 चंद्रमा की सतह से सौ किलोमीटर ऊपर स्थित रहेगा
चाँद पर भारत का पहला मानवरहित अभियान भेजने पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष जी माधवन नायर के विचार...

ऐसा मानना है भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष जी माधवन नायर का, जो अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में इसे एक अहम उपलब्धी को तौर पर देखते हैं.

सफल प्रक्षेपण के बाद जी माधवन नायर ने अपनी पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा है, "पहले चरण का उद्देश्य था कि चंद्रयान को सफलता के साथ प्रक्षेपित किया जा सके और अपनी पहली कक्षा में स्थपित हो सके. ऐसा हो गया है और हम अपने पहले और सबसे कठिन उद्देश्य में सफल हो गए."

नायर का कहना था, "पिछले दिनों हम लोग कई प्रतिकूल चुनौतियों से जूझ रहे थे - बारिश, बिजली और तेज़ हवा जैसी चुनैतियाँ हमारे सामने रहीं, फिर भी हम चंद्रयान 1 का प्रक्षेपण सफलतापूर्वक कर पाए."

'यह तो शुरुआत है'

इसरो के अध्यक्ष ने बीबीसी को बताया कि प्रक्षेपण के तुरंत बाद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से उनकी बात हुई. बातचीत में प्रधानमंत्री ने वैज्ञानिकों और अन्य लोगों को धन्यवाद दिया और देश के लोगों को इस सफल प्रक्षेपण की बधाई दी.

नायर के अनुसार चंद्रमा की ओर भारत के अभियान की दिशा में चंद्रयान-1 का प्रक्षेपण एक शुरूआत है.

उनका कहना था, "अगले दस वर्षों के भीतर ही भारत अंतरिक्ष में मानव सहित अंतरिक्ष यान का प्रक्षेपण कर पाने में सफल होगा. वर्ष 2009 में आधुनिक तकनीक वाले जीएसएलवी लॉंचर की मदद से चंद्रयान-2 का भी प्रक्षेपण किया जाएगा."

भारत दुनिया का छठा ऐसा देश है जिसे ये उपलब्धी हासिल हुई

जब उनसे पूछा गया कि अंतरिक्ष कार्यक्रम के संदर्भ में भारत की निर्भरता अन्य देशों पर कितनी है, तो अन्होंने कहा, "भारत पूरी तरह से अपने पैर पर खड़े होने लिए के लिए तैयार है और तमाम चुनौतियों के बावजूद हम आधुनकि तकनीक पैदा कर पाने में सफल रहे हैं."

पत्रकारों ने जब ये सवाल उठाया कि ग़रीबी रेखा के नीचे रह रहे करोड़ों लोगों वाले देश में कई करोड़ो की अंतरिक्ष परियोजनाओं की क्या सार्थकता है तो अन्होंने कहा, "अंतरराष्ट्रीय जगत में भारत ही ऐसा देश है जिसका अंतरिक्ष अनुसंधान कार्यक्रम सबसे ज़्यादा आम लोगों के हित में काम कर रहा है."

'80 प्रतिशत आम जनता पर'

नायर ने बताया कि इसरो को मिल रहे अर्थिक अनुदान का 80 प्रतिशत देश के आम लोगों की बेहतरी पर खर्च किया जाता है और इसरो सरकार से मिलने वाले अनुदान की तुलना में 1.5 गुणा देश के लोगों को दे रहा है.

अगले दस वर्षों के भीतर ही भारत अंतरिक्ष में मानव सहित अंतरिक्ष यान का प्रक्षेपण कर पाने में सफल होगा. वर्ष 2009 में आधुनिक तकनीक वाले जीएसएलवी लॉंचर की मदद से चंद्रयान-2 का भी प्रक्षेपण किया जाएगा
एक वरिष्ठ वैज्ञानिक के अनुसार अंतरिक्ष यान में किसी मानव को भेजने के लिए वर्तमान आधारभूत मॉडल में कुछ परिवर्तन करने की ज़रूरत है जैसे आकार, डिज़ाईन और गुणवत्ता में सुधार. उनका कहना था कि ये सुधार क्या होगा इसके अध्ययन का काम पूरा कर लिया गया है और अब इनको योजनाबद्ध तरीक़े से साकार करने की दिशा में काम किया जा रहा है.

बीबीसी की तरफ़ से इसरो के अध्यक्ष माधवन नायर से सवाल किया गया कि दुनिया के कई देश चाँद पर अपनी-अपनी तरह से अनुसंधान कर रहे हैं तो भारत अलग क्या कर रहा है?

नायर का जवाब था, "साठ के दशक में अमरीका में वैज्ञानिक चाँद को जानना चाहते थे कि मिट्टी और जलवायु कैसी है. इसके बाद कुछ और चीज़ों को लेकर शोध होते रहे हैं. हाल के वर्षों में ऊर्जा संकट को देखते हुए चंद्रयान पर हिलियम-3 और अन्य ऊर्जा विकल्पों की खोज के काम में तेज़ी आई है और दुनिया के देशों में इसी की प्रतिस्पर्धा है. ऐसे में भारत का चंद्रयान मिशन सही समय पर कई मायनों में, कई दिशाओं में अच्छा रहेगा. "

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X

Loksabha Results

PartyLWT
BJP+3352355
CONG+28890
OTH29597

Arunachal Pradesh

PartyLWT
BJP33235
JDU077
OTH21012

Sikkim

PartyWT
SKM01717
SDF01515
OTH000

Odisha

PartyLWT
BJD2389112
BJP81624
OTH01010

Andhra Pradesh

PartyLWT
YSRCP0151151
TDP02323
OTH011

-
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more