• search
बीकानेर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Premsukh Delu : 6 साल में 12 बार लगी सरकारी नौकरी, पटवारी से IPS बने, अब IAS बनने की दौड़ में

|

Bikaner News, बीकानेर। राजस्थान के बीकानेर जिले की नोखा तहसील के गांव रासीसर के डेलू परिवार में 3 अप्रेल 1988 को एक लड़का पैदा हुआ। नाम रखा प्रेमसुख डेलू (PremSukh Delu) । उस समय में किसी ने नहीं सोचा भी था कि छोटे से गांव का यह लड़का कामयाबी की सीढ़ियां दर सीढ़ियां चढ़ता ही जाएगा।

IPS premsukh Delu ASP amreli gujarat

IPS premsukh Delu ASP amreli gujarat

प्रेमसुख डेलू की सफलता का अंदाजा इससे सहज लगाया जा सकता है कि छह साल में ये 12 बार सरकारी नौकरी लग चुके हैं, जबकि सरकारी नौकरियों के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा के इस दौर में एक बार भी चयन होना आसान बात नहीं है। गुजरात कैडर के आईपीएस प्रेमसुख डेलू (IPS presukh Delu) वर्तमान में अमरेली जिले में एएसपी के पद पर तैनात हैं। इन्होंने वन इंडिया हिंदी (www.hindi.oneindia.com) से खास बातचीत में बयां किया अपने पटवारी से लेकर आईपीएस बनने तक का सफर।

राजस्थान की IPS बेटी सरोज कुमारी ने गुजरात में कर दिखाया कमाल, पूरे देश को इन पर गर्व

सबसे पहले बने पटवारी

सबसे पहले बने पटवारी

प्रेमसुख डेलू बचपन से ही होनहार थे। इनकी सरकारी नौकरी लगने का सिलसिला वर्ष 2010 में शुरू हुआ। सबसे पहली सरकारी नौकरी बीकानेर (Bikaner) जिले में पटवारी के रूप में लगी। दो साल तक बतौर पटवारी के पद पर काम किया, मगर दिल में कुछ बड़ा करने की चाह थी। इसलिए पढ़ाई और मेहनत जारी रखी।

बर्खास्त IPS पंकज चौधरी बोले-'हर माह एक भ्रष्ट-अयोग्य IAS, IPS को करूंगा एक्सपोज'

नौकरी लगती गई, नहीं किया ज्वाइन

नौकरी लगती गई, नहीं किया ज्वाइन

(Premsukh Delu IPS Profile In Hindi) प्रेमसुख डेलू ने पटवारी पद पर रहते हुए कई अन्य प्रतियो​गी परीक्षाएं दी। ग्राम सेवक परीक्षा में राजस्थान में दूसरी रैंक हासिल की, मगर ग्राम सेवक ज्वाइन नहीं किया। क्योंकि उसी दौरान राजस्थान असिस्टेंट जेल परीक्षा का परिणाम आ गया और इसमें प्रेमसुख डेलू ने पूरे राजस्थान में टॉप किया। असिस्टेंट जेलर के रूप में ज्वाइन करते उससे पहले राजस्थान पुलिस में सब इंस्पेक्टर पद पर चयन हो गया।

राजस्थान: MLA नहीं बन सका तो बन गया 'गुंडा', खाकी वर्दी पहनकर सुबह 4 बजे से करता था वसूली

SI की बजाय शिक्षक बने

SI की बजाय शिक्षक बने

प्रेमसुख डेलू ने राजस्थान पुलिस में एसआई के पद पर ज्वादन नहीं किया, क्योंकि उसी दौरान इनका स्कूल व्याख्याता के रूप में चयन हो गया तो पुलिस महकमे की बजाय शिक्षा विभाग की नौकरी को चुना। इसके बाद कॉलेज व्याख्याता, तहसीलदार के रूप में भी सरकारी नौकरी लगी। कई विभागों में 6 साल की अवधि में अनेक बार सरकारी नौकरी लगने के बाद भी प्रेमसुख ने मेहनत जारी रखी और सिविल सेवा परीक्षा 2015 ने 170वाँ रेंक प्राप्त किया है और हिंदी माध्यम के साथ सफल उम्मीदवार में तृतीय स्थान पर रहे है।

राजस्थान : चार जिलों की कमान कलेक्टर पति-पत्नी के हाथ में, बेहद रोचक है इनकी स्टोरी

अब आईएएस बनने का इंतजार

अब आईएएस बनने का इंतजार

फिलहाल गुजरात में बतौर ट्रेनी आईपीएस तैनात प्रेमसुख डेलू का ख्वाब अब भारतीय प्रशासनिक सेवा का अधिकारी बनने का है। यह ख्वाब भी पूरा होने को है। प्रेमसुख डेलू ने आईएएस का साक्षात्मकार दे रखा है। इसमें भी चयन होने की पूरी उम्मीद है। प्रेमसुख डेलू की जिंदगी न केवल राजस्थान बल्कि देशभर के युवाओं के लिए प्रेरणादायक है।

गरीबी इतनी कि आठवीं तक नहीं पहनी पेंट

गरीबी इतनी कि आठवीं तक नहीं पहनी पेंट

(Premsukh Delu Family) प्रेमसुख का बचपन गरीबी में गुजरा और पढ़ाई सरकारी स्कूलों में हुई। गरीबी का आलम यह था कि आठवीं कक्षा तक प्रेमसुख ने कभी पेंट नहीं पहनी थी। नेकर में ही जिंदगी गुजरी। किसान पिता ऊंट गाड़ी चलाते थे। प्रेमसुख कहते हैं कि माता-पिता पढ़े-लिखे नहीं थे, मगर मुझे पढ़ने-लिखने का भरपूत अवसर देकर काबिल बना दिया। चार भाई बहनों में सबसे छोटे हैं। इनका बड़ा भाई पुलिस कांस्टेबल है।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

बीकानेर की जंग, आंकड़ों की जुबानी
स्ट्राइक रेट
INC 56%
BJP 44%
INC won 5 times and BJP won 4 times since 1957 elections

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
premsukh delu ips who cracked 12 govt exams in six years, officer from bikanerrajasthan
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more