India
  • search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

बिहार में खेला शुरू, प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी बनी RJD, दूसरे पायदान पर पहुंची BJP, क्या पलटेगी बाज़ी ?

|
Google Oneindia News

पटना, 29 जून 2022। बिहार में सियासी खेला शुरू हो चुका है, पिछले कुछ दिनों प्रदेश की सियासी हवा बदली-बदली सी नज़र आ रही है। एक तरफ़ जहां एनडीए में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है,सियासी गलियारों में तो एनडीए गठबंधन टूटने की कयासबाज़ी भी शुरू हो गई है। वहीं बदले हुए सियासी समीकरण में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है। तेजस्वी यादव ने असदउद्दीन ओवौसी को बड़ा झटका देते हुए उनकी पार्टी के 5 में से 4 विधायकों को अपनी पार्टी में शामिल करवा लिया है। इस तरह से अब राष्ट्रीय जनता दल बिहार की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। वहीं भारतीय जनता पार्टी दूसरे पायदान पर पहुंच चुकी है।

बिहार में खेला शुरू, प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी बनी RJD, दूसरे पायदान पर पहुंची BJP
प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी बनी राजद

प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी बनी राजद

बिहार के सियासी गलियारों में यह चर्चा ज़ोरों पर है कि एनडीए गठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है जल्द ही गठबंधन टूट सकता है। वहीं बिहार में मौक़े पर चौका मारने के लिए तेजस्वी यादव ने मास्टरस्ट्रोक खेल दिया है। अब अगर आंकड़े ज़रा से भी पलटे तो बिहार में सत्ता परिवर्तन हो सकता है। आपको बता दें कि 2020 के विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी लेकिन प्रदेश में सरकार नहीं बना पाई थी। जदयू-भाजपा के नेतृत्व में एनडीए गठबंधन की सरकार बनी जिसमें बिहार की दूसरी राजनीतिक पार्टियों ने एनडीए गठबंधन का साथ दिया था। सरकार नहीं बना पाने के बावजूद आरजेडी बिहार में सत्ता पर क़ाबिज़ होने का दम भरते हुए अकसर नज़र आती है। अब तेजस्वी यादव के खेला से विपक्ष में नई जान आई है।

NDA गठबंधन के पास कितनी सीटें ?

NDA गठबंधन के पास कितनी सीटें ?

बिहार में विधानसभा सीटों के आंकड़ों की बात की जाए तो कुल 243 विधानसभा सीटें हैं। कुछ महीने पहले वीआईपी के विधायक भाजपा में शामिल हुए थे जिसके बाद से एनडीए गठबंधन मजबूत हो गई थी। उस वक़्त तो ऐसा समीकरण बन गया था कि जरा सी भी चूक होती तो प्रदेश में सत्ता परिवर्तन हो जाता लेकिन भाजपा ने बिगड़ते समीकरण को बना लिया था। लेकिन एक बार फिर बिहार में सत्ता परिवर्तन की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। मौजूदा आंकड़े की बात की जाए तो एनडीए गठबंधन के पास कुल 126 विधायक हैं। जिनमें भाजपा के पास 77 विधायक, जदयू के पास 45, हम के पास 4 विधायक है।

महागठबंधन के आंकड़ों से क्या होगा खेला ?

महागठबंधन के आंकड़ों से क्या होगा खेला ?

बिहार में अब महागठबंधन के पास कुल 115 विधायक है। जिनमें आरजेड़ी के पास 80 विधायक, कांग्रेस के पास 19 विधायक, लेफ्ट के पास 16 विधायक है। वहीं निदर्लीय 1 विधायक और एआईएमआईएम के पास एक विधायक है। अब अगर आंकड़ों के गणित को समझा जाए कि सत्ता पाने के लिए गठबंधन के पास क्या रास्ते हो सकते हैं। आइए समझते हैं सीटों का गणित। बिहार में जादुई आंकड़ा 122 सीटों का है, ऐसे में देखा जाए तो एनडीए गठबंधन के पास पहले ही 126 विधायक हैं। मतलब जादूई आंकड़े से 4 सीट ज्यादा है। वहीं महागठबंधन के पास 115 ही सीटें हैं, जादूई आंकड़े के लिए 7 सीटों की ज़रूरत होगी। इस ऐतबार से विपक्ष को कम से कम 6 सीटों पर खेला करना पड़ेगा तब ही एनडीए गणित बनाने के बाद भी जादुई आंकड़े से पीछे रहेगी। वहीं महागठबंधन के 7 सीटों की ज़रूरत पूरी हो गई तो सत्ता परिवर्तन हो सकता है।

ये भी पढ़ें: बिहार: छात्रा के साथ मनचले कर रहे थे छेड़खानी, शिक्षक को विरोध करना पड़ा महंगा

Comments
English summary
RJD became largest political party in bihar, AIMIM MLA joined RJD
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X