• search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

पूर्णिया हथियार तस्करी: आरोपी विजय प्रताप के ठिकानों पर NIA की छापेमारी, कई अहम दस्तावेज लगे हाथ

|

नई दिल्ली: पूर्णिया हथियार तस्करी के मामले में मंगलवार को एनआईए की टीम ने पटना में छापेमारी की। ये छापेमारी मामले में आरोपी विजय प्रताप के ठिकानों और उसकी कंपनी शानमारियो फार्मास्यूटिकल प्राइवेट लिमिटेड पर हुई। इस दौरान एनआईए की टीम ने कई अहम दस्तावेज जब्त किए हैं। जिसकी जांच के बाद इस मामले के अन्य राज भी निकलकर सामने आएंगे।

NIA

दरअसल 7 फरवरी 2019 को पूर्णिया पुलिस ने एक गाड़ी से बड़े पैमाने पर हथियार बरामद किए थे। इस कार्रवाई में तीन लोग पुलिस के हत्थे चढ़े थे, जिसमें सूरज प्रसाद, वी काहोरगम और क्लियरसन काबो शामिल थे। वहीं गाड़ी में से जब ग्रेनेड लॉन्चर, एके-47 और 1800 कारतूस मिले तो सुरक्षा एजेंसियों के होश उड़ गए। शुरू में ये बात सामने आई थी कि हथियार म्यांमार सेना के थे।

कश्मीर में NIA को बड़ी सफलता, आतंकियों को हथियार सप्लाई करने वाला गिरफ्तार

मामले की जांच आगे बढ़ी तो कुछ आतंकी और नक्सली संगठन के तार भी इससे जुड़े मिले। जिस पर केंद्र सरकार ने तुरंत इसकी जांच एनआईए को सौंप दी। एनआईए ने मामले में FIR दर्ज करने के बाद चार लोगों की गिरफ्तारी की, जिसमें त्रिपुरारी सिंह, मुकेश सिंह, निंगखान सनघटम और संतोष सिंह शामिल हैं। इसमें आरोपी निंगखान और विजय प्रताप के बीच हथियारों और पैसों का लेन-देन होता था। जिस वजह से मंगलवार को विजय प्रताप के ठिकानों पर छापेमारी की गई।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
NIA conducted searches Chandra Vijay Pratap residence in Patna in Purnea Arms Case
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X