गरीबी के चलते बाप नहीं लगवा सका घर में दरवाजा, पड़ोस के दरिंदे ने लूट ली बेटी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

पटना। पंच को परमेश्वर का दर्जा दिया जाता है लेकिन कभी-कभी परमेश्वर बने पंच इंसानियत और मानवता को शर्मसार करने वाला फैसला सुना देते हैं। जिससे लोगों का अब उन पर से विश्वास उठने लगा है। ताजा मामला बिहार के जमुई जिले में सामने आया है जहां एक लड़की के साथ गांव के ही युवक को दुष्कर्म करते रंगे हाथ पकड़ा गया था। जब लड़की के परिवार वाले उसे पुलिस के हाथों सौपने की बात कर रहे थे तभी गांव के कुछ लोग वहां पहुंचे और इस मामले को पंचायत में निपटाने की बात कही।

पकड़ा गया रंगे हाथ, फिर भी नहीं बना दोषी

पकड़ा गया रंगे हाथ, फिर भी नहीं बना दोषी

जब गांव वालों की पंचायत लगी तो भरी पंचायत में पंचों ने पीड़िता को ही दोषी ठहराते हुए 31 हजार जुर्माना देने को कहा। पैसा नहीं देने पर उसे जूते की माला पहनाकर गांव-गांव घुमाने की बात कही। जिसे सुनने के बाद लड़की के परिवार वालों के साथ-साथ गांव के कुछ लोग आक्रोशित हो गए और पंच का विरोध करने लगे लेकिन दबंग पंचों के सामने उन लोगों की एक भी नहीं चली जिसके बाद सभी थाने पहुंचे और इस मामले में आरोपी के साथ-साथ पंच के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

पंचायत की बात कहकर रात को कराया चुप

पंचायत की बात कहकर रात को कराया चुप

जानकारी के मुताबिक बिहार के जमुई जिले के रहने वाली लड़की रात घर में सोई हुई थी तभी पड़ोस का रहने वाला एक युवक उसके घर में घुसा और उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दे रहा था। लड़की की चीख सुनकर आसपास के लोग वहां पहुंचे और आरोपी को रंगे हाथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ लिया और मामले की जानकारी नजदीकी थाने को देने की बात कही लेकिन गांव के कुछ दबंग लोगों ने मामले को पंचायत में रखने की बात कही। जिसके बाद सुबह पंचायत लगी और पंचायत में दुष्कर्म पीड़िता को ही दोषी ठहराते हुए ये कहा गया कि लड़की का करैक्टर ठीक नहीं है। उसने ही लड़के को अपने पास बुलाया था। इसीलिए इसे 31 हजार रुपए जुर्माना होगा वहीं ऐसा नहीं करने पर लड़की को जूते की माला पहनाकर गांव-गांव घुमाने की बात कही।

पंचायत में ठहरा दिया पीड़ित को ही दोषी

पंचायत में ठहरा दिया पीड़ित को ही दोषी

पंचायत के द्वारा सुनाए गए इस फैसले के विरोध में गांव के कुछ लोगों के साथ पीड़िता और उसके पिता थाने पहुंचे और थानेदार को लिखित शिकायत देते हुए आरोप लगाया कि गरीबी के कारण अभी तक घर में दरवाजा नहीं लगा था। जिसका फायदा उठाते हुए पड़ोस का रहने वाला राहुल देर रात हमारे घर में घुसकर और बेटी के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने लगा। जिसे रंगे हाथ पकड़ने के बाद गांव के पंचों द्वारा छुड़ा लिया गया और दुष्कर्मी के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाए हम लोगों को ही जुर्माना सुनाया गया है। ऐसा नहीं करने पर बेटी को गांव वालों के सामने बेइज्जत करने का भी फरमान सुनाया गया है, जिससे हम सभी दहशत में हैं।

Read more:सड़क पर दो बच्चों की मां को दोनों बताने लगे अपनी-अपनी पत्नी और फिर...

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Neighbour raped poor girl, Panchayat save accused
Please Wait while comments are loading...