• search
भुवनेश्वर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

बेहतर परिणामों को देखते हुए मिशन जीविका-II को जल्द शुरू करेगी ओडिशा सरकार

|
Google Oneindia News

भुवनेश्वर, 17 जून। चूंकि रायगढ़ के कल्याणसिंहपुर प्रखंड में 35 एकड़ भूमि में कृषि उत्पादन क्लस्टर (एपीसी) के तहत महिला समूह द्वारा करेले की खेती के सकारात्मक परिणाम मिले हैं। इसलिए राज्य सरकार ने चिन्हित आदिवासी बहुल ब्लॉकों में क्लस्टरों की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए मिशन जीविका-II शुरू करने का निर्णय लिया है। प्रखंड के सुनखंडी और कृषपत्रगुड़ा गांवों की 59 महिला लाभार्थियों का एक समूह, जिन्होंने करेले की खेती की है, उन्हें इस महीने के अंत तक प्रति एकड़ औसतन 80,000 रुपये की आय की उम्मीद है।

Mission Jeevika-II

किसान उत्पादक समूह ORMAS के माध्यम से स्थानीय बाजारों में करेले की बिक्री से औसतन प्रत्येक लाभार्थी पहले ही 25,000 रुपये कमा चुका है। सब्जी का फार्म गेट भाव 30 रुपये प्रति किलो है। गुणवत्तापूर्ण निवेश तक तक समय पर पहुंच सुनिश्चित करके, बेहतर उत्पादन तकनीकों के इस्तेमाल से, प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण सहायता और एक अभिसरण मोड में विपणन सहायता सुनिश्चित करके 969 कृषि-आधारित और गैर-कृषि समूहों के माध्यम से 1.5 लाख से अधिक आदिवासी परिवारों को लाभ पहुंचाया गया है।

यह भी पढ़ें: ओडिशा में कोरोना की नकली दवाओं की जांच के लिए गठित की गई स्पेशल टास्क फोर्स

एसटी और एससी प्रमुख सचिव रंजना चोपड़ा ने कहा, 'मिशन जीविका के एपीसी परियोजना के साथ अभिसरण का उद्देश्य सीमांत किसान समुदायों के बीच जीवंत कृषि समूहों का निर्माण करना है जो अब समृद्ध लाभांश प्राप्त कर रहे हैं। क्लस्टर्स में पेश की गई नई तकनीकों ने उत्पादकता को कई गुना और कटाई को आसान बना दिया है।'

एक आंतरिक प्रभाव आकलन अध्ययन से पता चला है कि सर्वेक्षण के लाभार्थियों द्वारा पिछले साल के रबी सीजन की तुलना में कृषि क्षेत्र में 120 प्रतिशत की वृद्धि और पिछले साल की तुलना में 2019 रबी सीजन के दौरान परियोजना के कारण सिंचाई क्षेत्र में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि, 'हमारा उद्देश्य कोविड-19 महामारी के दौरान आजीविका के निर्वाह के लिए मिशन जीविका कार्यक्रम के तहत तकनीकी सहायता, बीज सहायता और उर्वरक प्रदान करने जैसी विभिन्न पहलों के माध्यम से आदिवासी क्षेत्रों में रोजगार पैदा करना है। सिंचाई क्षेत्र को बढ़ाने और मिश्रित कृषि रणनीतियों पर जोर देने के लिए योजना दिशानिर्देशों को संशोधित किया गया है।'

उन्होंने कहा कि इस बीच, मिशन जीविका-II दिशा-निर्देशों को आजीविका, गैर-कृषि समूहों, विपणन सहायता और क्लस्टर की स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए समुदाय-आधारित संस्थानों को बढ़ावा देने के लिए आधारभूत संरचना बनाकर अपनी गतिविधियों को मजबूत करने के लिए तैयार किया गया है।

English summary
Seeing better results, Odisha government will start Mission Jeevika-II soon
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X