• search
भुवनेश्वर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन करने में ओडिशा के आदिवासियों की मदद करेगा ICRISAT संस्थान

|

भुवनेश्वर। ओडिशा के 12 जिलों में रहने वाले कमजोर आदिवासी समूहों की स्थिति को सुधारने के लिए ओडिशा सरकार ने अंतरराष्ट्रीय अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय फसल अनुसंधान संस्थान (ICRISAT) के साथ हाथ मिलाया है। यह संस्थान वहां के प्राकृतिक स्रोतों के प्रबंधन को मजबूत करने में अगले तीन सालों तक अपनी भूमिका निभाएगा।

tribal

आईसीआरआईएसएटी पर इन 12 जिलों में रिमोट सेंसिंग और जीआईएस के माध्यम से भूमि उपयोग और भूमि कवर की निगरानी के अलावा जल संचयन, हाइड्रोलॉजिकल मापदंडों की रिकॉर्डिंग और फसल उत्पादकता की निगरानी करने की भी जिम्मेदारी होगी। इस कार्यक्रम के तहत सुंदरगढ़, मयूरभंज, देबागढ़, केंदुझर, अंगुल, नुआपाड़ा, कंधमाल, कालाहांडी, रायगढ़, गजपति, गंजम और मलकानगिरी जिलों को कवर किया जाएगा।

ओडिशा: एसिड अटैक पीड़िता ने दोस्त से की शादी, आशीर्वाद देने के लिए पहुंचे राज्यपाल और शिक्षा मंत्री

यह सहयोग ओडिशा के विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समूहों के सशक्तीकरण और आजीविका सुधार कार्यक्रम का हिस्सा है, जिसे कृषि विकास भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय कोष द्वारा वित्त पोषित किया गया है। इस सहयोग का मुख्य उद्देश्य क्षमता निर्माण और निगरानी के माध्यम से स्थायी एकीकृत प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन को बढ़ावा देना है।

संस्थान वर्षा जल संचयन संरचनाओं को विकसित करने और उन चार जिलों में वर्षा और अन्य हाइड्रोलॉजिकल मापदंडों को रिकॉर्ड करने के लिए गेजिंग (नापने वाले) स्टेशन लगाएगा जहां, झूम और शिफ्टिंग खेती का अभ्यास किया जाता है।

मंगलवार को विकास आयुक्त और अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके जेना ने समझौते पर हस्ताक्षर करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने 3 साल के लिए संस्थान के साथ समझौता किया है इसके तहत 12 अति संवेदनशील आदिवासी जिलों में काम किया जाएगा। इस दौरान ICRISAT के महानिदेश डॉ. जैकलीन ह्यूजेस उपस्थित रहे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ICRISAT to help Odisha tribals manage natural resources
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X