• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Visha Madhwani : कौन हैं SDM विशा माधवानी जो 42 लाख के घोटाले में फंसी? 4 बार पास की PSC

|
Google Oneindia News

भोपाल, 17 जून। मध्य प्रदेश में बुरहानपुर जिले के नेपानगर की उपखंड अधिकारी (एसडीएम) रहीं विशा माधवानी फिर सुर्खियों में हैं, क्योंकि 42 लाख रुपए के फर्जीवाड़े मामले में इनकी मुश्किलें बढ़ गई हैं। नेपानगर पुलिस ने विशा माधवानी समेत नौ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

विशा समेत ये हैं नौ आरोपी

विशा समेत ये हैं नौ आरोपी

मध्य प्रदेश में बहुचर्चित 42 लाख के गबन के इस मामले में विशा माधवानी के साथ ही लिपिक पंकज पाटे, बैंक मैनेजर अशोक नागनपुरे, होमगार्ड जवान सचिन वर्मा, बैंककर्मी अनिल पाटीदार, फिराज खान, संजय मावश्कर, इम्तियाज खान व एक अन्य के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है। इनमें पांच आरोपियों को हिरासत में लिया गया है।

आनंद दीक्षित के प्रयासों से फर्जीवाड़ा उजागर

आनंद दीक्षित के प्रयासों से फर्जीवाड़ा उजागर

यह पूरा मामला आरटीआई कार्यकर्ता आनंद दीक्षित के प्रयासों से सामने आया। दीक्षित ने बुरहानपुर जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह को शिकायत कर बताया कि बोरबन तालाब निर्माण में अफसरों ने मिलीभगत करके लाखों रुपए डकारे हैं। जिला कलेक्टर ने एडीएम शैलेंद्र सिंह सोलंकी से पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करवाई। दो​ दिन पहले एडीएम ने अपनी जांच रिपोर्ट जिला कलेक्टर को सौंपी है।

 15 करोड़ बोरबन तालाब योजना का बजट

15 करोड़ बोरबन तालाब योजना का बजट

मीडिया से बातचीत में आनंद दीक्षित बताते हैं कि 2018-2019 में बुरहानपुर जिले में 15 करोड़ रुपए खर्च करके बोरबन तालाब निर्माण करवाया था। आधी राशि निर्माण और आधी राशि मुआवजे पर खर्च की गई। रामेश्वर कल्लू की 15 एकड़ जमीन का उसे मुआवजा मिलना था।

ऐसे निकाले 42 लाख रुपए

ऐसे निकाले 42 लाख रुपए

दीक्षित के आरोप है कि बैंककर्मियों व अधिकारियों की मिलीभगत उसके नाम से जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित खंडवा की तुकईथड़ शाखा में फर्जी खाता खुलवाया गया और 42.11 लाख रुपए लिए। शिकायत मिलने पर एडीएम ने 45 दिन तक पूरे मामले की जांच की।

 विशा माधवानी ​डिप्टी कलेक्टर झाबुआ

विशा माधवानी ​डिप्टी कलेक्टर झाबुआ

बता दें कि 42 लाख के फर्जीवाड़े के दौरान नेपानगर में एडीएम व भूअर्जन अधिकारी के पद पर सेवाएं देने वालीं विशा माधवानी वर्तमान में झाबुआ में डिप्टी कलेक्टर हैं। विशा मूलरूप से देवास की रहने वाली हैं।

चौथे प्रयास में बनीं डिप्टी कलेक्टर

चौथे प्रयास में बनीं डिप्टी कलेक्टर

विशा अपने चौथे प्रयास में डिप्टी कलेक्टर बनने में सफल रही हैं। साल 2015 में इन्होंने मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग परीक्षा में तीसरा स्थान प्राप्त किया था। इससे पहले साल 2012 में जिला संयोजक, साल 2013 में महिला सश​क्तीकरण अधिकारी और साल 2014 में जिला पंजीयक पद पर भी चयनित हो चुकी हैं।

पढ़ें IPS अंकिता शर्मा का वो वायरल लेटर जो UPSC की तैयारी करने वालों के दिल को छू गया, जानिए क्या लिखा?पढ़ें IPS अंकिता शर्मा का वो वायरल लेटर जो UPSC की तैयारी करने वालों के दिल को छू गया, जानिए क्या लिखा?

एसडीएम विशा माधवानी का परिवार

एसडीएम विशा माधवानी का परिवार

बता दें कि विशा माधवानी के एक छोटा भाई व एक बड़ी बहन है। बहन की अहमदाबाद में शादी हो चुकी है जबकि भाई ने इंदौर से लॉ की पढ़ाई की है। मां धारा व पिता मनोहर माधवानी की लाडली विशा अपनी दादी के सबसे करीब है।

पानी में योगा करने वालीं आईएएस नेहा शर्मा ने शेयर की IAS Swati Meena Naik की होटल वाली फेक स्टोरीपानी में योगा करने वालीं आईएएस नेहा शर्मा ने शेयर की IAS Swati Meena Naik की होटल वाली फेक स्टोरी

English summary
Visha Madhwani SDM Nepanagar Pipri Borban pond corruption case to Deputy collector jhabua
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X