• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

शर्मनाक! कंधे पर बेटी या 'सिस्टम' का जनाजा, एंबुलेंस नहीं मिली तो खाट पर शव रखकर 35 KM पैदल चला बाप

|

भोपाल, मई 09: मध्य प्रदेश से दिल को झकझोर देने वाली घटना सामने आई है। यहां के सिंगरौली जिले में एम्बुलेंस नहीं मिलने के बाद एक बाप अपनी बेटी का शव खाट पर लेकर करीब 35 किलोमीटर तक पैदल चला। विकास और सुशासन का दावा करने वाले सरकार के नुमाइंदों की यह घटना कई सवाल खड़े कर रही है। सिस्टम की अनदेखी के चलते एक लाचार और बेबस पिता अपने बेटी की लाश को खाट पर इस तरह से ले जाने के लिए मजबूर हुआ है।

cot daughter dead body
    Rajiv Pratap Rudy के दफ्तर में खड़ी एंबुलेंस को लेकर बहस, Pappu Yadav नेउठाए सवाल | वनइंडिया हिंदी

    यह हृदय विदारक घटना निवास पुलिस चौकी की है, जहां गड़ई गांव में एक 16 साल की नाबालिग बेटी धीरुपति ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। घटना की जानकारी जब परिवार के लोगों ने निवास पुलिस को दी, लेकिन पुलिस प्रशासन और अन्य जगहों से कोई मदद नहीं मिली, जिसके बाद मृतका के पिता अपनी बेटी के बेजान शरीर को खाट पर ले जाने के लिए लाचार हुआ और पोस्टमॉर्टम के लिए 35 किमी तक पैदल चला।

    कोरोना में छलनी होती इंसानियत, कोविड पेसेन्‍ट की मौत के बाद लाश से गायब किए 35 हजार रुपए, videoकोरोना में छलनी होती इंसानियत, कोविड पेसेन्‍ट की मौत के बाद लाश से गायब किए 35 हजार रुपए, video

    जानकारी के अनुसार परिजनों की सूचना के बाद भी प्रशासन हरकत में नहीं आया। ना ही पीड़ित को शव वाहन मिलने पर पुलिस ने कोई गंभीरता दिखाई, जिसके बाद सिस्टम के मारे पिता ने अपनी बेटी के शव को खाट पर ले जाने का फैसला किया और 35 किलोमीटर की लंबी दूसरी पैदल ही चला। जिसके बाद पोस्टमार्टम जैसे औपचारिकता को पूरी करने के लिए शव को जैसे-तैसे लेकर अस्पताल पहुंचा।

    English summary
    madhya pradesh no ambulance found father reached hospital on cot daughter dead body
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X