• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मध्य प्रदेश के प्रत्येक जिले में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए खर्च करने चाहिए 50 करोड़ रुपए

|

भोपाल, 2 मई। मध्य प्रदेश में 52 जिले हैं। सभी में​ जिला स्तर का एक एक सरकारी अस्पताल भी है। ऐसे में मध्य प्रदेश के प्रत्येक जिले में पीएसए ऑक्सीजन प्लांट के लिए 50 करोड़ रुपए का इंवेस्टमेंट किया जा सकता है। किसी जिले में ऑक्सीजन बनाने का कोई प्लांट नहीं है। जबकि कोरोना वायरस की तीसरी लहर भी आने की आशंका है। ऐसे में मध्य प्रदेश सरकार की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि वह ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए तत्काल जरूरी कदम उठाए।

50 crore rupees should be spent for setting up an oxygen plant in each district of Madhya Pradesh

सभी को ऑक्सीजन की नियमित आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार को जारी किए गए पहले के निर्देशों को दोहराते हुए मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि रेमेडिसविर इंजेक्शन के लिए राज्य को उसकी वितरण नीति फिर से देखनी चाहिए।

मध्य प्रदेश में कोविड-19 की दो लाख वैक्सीन से भरा ट्रक सड़क किनारे छोड़ा, कीमत आठ करोड़ रुपएमध्य प्रदेश में कोविड-19 की दो लाख वैक्सीन से भरा ट्रक सड़क किनारे छोड़ा, कीमत आठ करोड़ रुपए

किसी विशेष कोविद -19 रोगी को दवा के रूप में रेमेडिसविर लेने की आवश्यकता है या नहीं, इलाज करने वाले डॉक्टरों के विवेक पर छोड़ दिया जाना चाहिए। हम केवल ऐसे रोगियों को रेमेडिसविर प्रदान करने के आग्रह पर कोई औचित्य नहीं देखते हैं, जो ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं।

English summary
50 crore rupees should be spent for setting up an oxygen plant in each district of Madhya Pradesh
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X