• search
आजमगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते की हत्या पर गरमाई राजनीति, पीएल पुनिया, अजय कुमार लल्लू समेत प्रतिनिधिमंडल नजरबंद

|

आजमगढ़। 14 अगस्त को उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के तरवां थाना क्षेत्र के बांसगांव में ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते की हत्या कर दी गई थी। सत्यमेव जयते की हत्या के मामले ने तूल पकड़ तो वहीं इस पर राजनीति भी शुरू हो गई है। कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को ग्राम प्रधान सत्यमेव के परिजनों से मिलने जा रहा था, लेकिन उन्हें बीच रास्ते में रोक दिया गया। साथ ही सर्किट हाउस के अंदर कांग्रेस के बड़े नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है।

    Azamgarh में Pradhan की हत्या के बाद परिवार से मिलने पहुंचे Congress नेताओं को रोका | वनइंडिया हिंदी

    up police detained congress delegation reaches to Azamgarh

    नजरबंद के दौरान कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान कांग्रेसियों और पुलिस में जमकर धक्का-मुक्की हुई। पूरा क्षेत्र पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। मौके पर पीएसी के जवान तैनात कर दिए गए हैं। तो वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, राज्यसभा सदस्य पीएल पुनिया, पूर्व सांसद बृजलाल खाबरी, पूर्व मंत्री आरके चैधरी, अनुसूचित विभाग के अध्यक्ष आलोक पासवान गेट के अंदर घरने पर बैठ गए। वहीं, स्थानीय कांग्रेसी गेट के बाहर धरना देने लगे। इस दौरान दोनों ओर से नारेबाजी शुरू हो गई।

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, राज्यसभा सदस्य पीएल पुनिया, पूर्व सांसद बृजलाल खाबरी, पूर्व मंत्री आरके चौधरी, अनुसूचित विभाग के अध्यक्ष आलोक पासवान बुधवार की रात ही आजमगढ़ सर्किट हाउस पहुंच गए थे। चूंकि कांग्रेस नेताओं का कार्यक्रम पहले से तय था, इसलिए रात में ही प्रशासन ने सारी तैयारी पूरी कर ली थी। सुबह होते ही सर्किट हाउस से लेकर आजमगढ़-लखनऊ हाईवे तक का इलाका छावनी में तब्दील कर दिया गया था। मौके पर पीएसी के जवान भी तैनात कर दिए थे।

    क्या है मामला

    दरअसल, तरवां थाना क्षेत्र के बांस गांव के ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते उर्फ पप्पू राम शुक्रवार 14 अगस्त की शाम को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। घटना से आक्रोशित गांव के लोग बोगरिया में सड़क जाम कर रहे थे। इसी दौरान मची भगदड़ में एक वाहन की चपेट से 12 वर्षीय बालक की मौत हो गई थी। इसके बाद लोगों का आक्रोश बढ़ गया। पुलिस चौकी के पास लोगों ने आगजनी की थी और पुलिस ने हवाई फायरिग की थी। बता दें कि प्रधान की हत्या के मामले में पुलिस ने पत्नी की तहरीर पर 4 लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।

    ये भी पढ़ें:- आजमगढ़ में ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या, सीएम योगी ने किया मुआवजे का ऐलान

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    up police detained congress delegation reaches to Azamgarh
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X