• search
अंबेडकर नगर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मरीजों को बचाते डॉक्टर की दिल्ली में वायरस ने ली जान, घर पर चल रही थी शादी की तैयारी

|

नई दिल्ली। यहां अंबेडकर अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज में जुटा डॉक्टर वायरस की चपेट में आ गया। उसने कई लोगों की जान बचाई, लेकिन कोरोना से खुद नहीं बच सका। इस वायरस ने उसकी जिंदगी छीन ली। अब उक्त युवा डॉक्टर के घर पर मातम पसर गया है। इन दिनों परिजन उसकी शादी की तैयारियों में जुटे हुए थे।

कोरोना ने डॉक्टर की जान ली

कोरोना ने डॉक्टर की जान ली

मृतक की पहचान रेजीडेंट्स डॉक्टर जोगिंदर चौधरी के तौर पर हुई है। उसके पिता किसान हैं, जिनका नाम राजेंन्द्र चौधरी है। राजेंन्द्र चौधरी बेटे की मौत की वजह से टूट से गए हैं। उन्हें गहरा सदमा पहुंचा है। उन्होंने कहा कि,
''हमने बड़े बेटे जोगिंदर सगाई की तारीख पहले ही तय कर दी थी, मगर वो बेटा बीमार पड़ गया। दूसरों को बचाते-बचाते वह संक्रमित हो गया था। तब मैंने सोचा कि जब वो ठीक हो जाएगा, तो शादी कराएंगे। लेकिन अनहोनी को कौन टाल सकता है। वायरस ने मेरे बेटे की जिंदगी छीन ली। वो अंबेडकर अस्पताल के कोरोना वार्ड में तैनात था।'

27 जून को रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

27 जून को रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

पिता राजेंन्द्र चौधरी आगे बोले कि, ''जोगिन्दर ने 6 महीने पहले ही अंबेडकर अस्पताल को ज्वॉइन किया था। जब उसने बताया कि वह कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रहा है, तो मन में हमेशा डर बना रहता था, लेकिन हमें उस पर नाज भी था कि बेटा देश सेवा कर रहा है। मगर, यह कोई नहीं जानता था कि बेटा इतनी जल्दी हमसे विदा ले लेगा। जून में उसकी शादी तय हुई थी। हालांकि, उसी महीने वह कोरोना की चपेट में आ गया। 24 जून से ही उसे बुखार आना शुरू हो गया था। कोविड की जांच की गई तो 27 जून को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई उसके बाद उसे एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती करवा दिया। जहां इलाज चला।''

प्लाज्मा थैरेपी भी कराई

प्लाज्मा थैरेपी भी कराई

''एलएनजेपी अस्पताल में उसे जब आराम नहीं हुआ तो डॉक्टरों ने उसकी प्लाज्मा थैरेपी कराई। मगर, तब भी हालात में कोई सुधार नहीं हुआ। वह लगातार कमजोर होता जा रहा था तो जुलाई में उसे गंगाराम अस्पताल में शिफ्ट करवाया। मगर, वहां भी डॉक्टर उसे नहीं बचा सके।'

गुजरात में कोरोना के नए मरीज मिलने का रिकॉर्ड टूटा, 1 दिन में 1 हजार, कुल 50 हजार पारगुजरात में कोरोना के नए मरीज मिलने का रिकॉर्ड टूटा, 1 दिन में 1 हजार, कुल 50 हजार पार

रोज 50 से 60 हजार की फीस लगी

रोज 50 से 60 हजार की फीस लगी

बेटे के इलाज के लिए अस्पताल को प्रतिदिन 50 से 60 हजार रुपए की फीस चुका रहे थे। उसके लिए बड़ी रकम उसके दोस्तों ने जुटाई थी। जिस अस्पताल में जोगिंदर भर्ती था, वहां डॉक्टर बोल रहे थे कि जोगिंदर धीरे-धीरे ठीक हो जाएगा, लेकिन शनिवार देर रात उसकी मौत हो गई।

कोरोना के लक्षण थे, लेकिन 2 टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आईं, 26 साल के डॉक्टर ने दिल्ली में दम तोड़ाकोरोना के लक्षण थे, लेकिन 2 टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आईं, 26 साल के डॉक्टर ने दिल्ली में दम तोड़ा

English summary
ambedkar hospital doctor joginder chaudhary killed by coronavirus at delhi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X