• search
अहमदाबाद न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मरने के लिए साबरमती नदी में जा कूदा, 3 दिन भूखा प्यासा झाड़ियों में फंसा रहा, फिर ऐसे लौटा

|

अहमदाबाद। तीन दिनों पहले एक शख्स खुदकुशी करने के लिए साबरमती नदी में जा कूदा। वहां वह नदी की धारा में नहीं बह सका, बल्कि झाड़ियों में फंस गया। झाड़ियों में वह तीन दिनों तक भूखा प्यासा पड़ा रहा। बुधवार को एक मछुआरे की नजर युवक पर पड़ी और उसके बाद स्थानीय लोग दौड़ पड़े। दमकल विभाग को सूचना दी गई। तब उसे सुरक्षित बाहर निकालकर अस्पताल भेजा गया।

42 year old man Jumped Into The sabarmati River, Starved Among The Wild Bushes For 3 Days

संवाददाता ने बताया कि, उक्त शख्स की पहचान 42 साल के त्रिलोकसिंह नकुम के रूप में हुई। प्रथमदृश्या उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने का पता चला है। तीन दिनों पूर्व वह खुदकुशी के इरादे से अहमदाबाद की साबरमती नदी में कूद गया और केशवनगर रेलवे पुल से टॉरेंट पावर तक नदी में जंगली झाड़ियों के बीच फंसता रहा। जब उस पर एक मछुआरे की नजर पडी तो अचानक वह मदद के लिए चिल्लाने लगा।

मामले की सूचना मिलते ही दमकल विभाग की टीम मौके पर पहुंची और काफी मेहनत के बाद उसे सुरक्षित रूप से बाहर निकाला गया। पूछताछ के दौरान उसने अपना नाम बताने के साथ ही खुदकुशी के लिए नदी में छलांग लगाई होने की बात कही। हालांकि, पता पूछे जाने पर वह अलग-अलग जगहों का नाम बताने लगा। उसको अस्पताल भेजा गया।

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर खड़े ट्रक से टकराई कार, उड़े परखच्चे, तीन की मौत

स्थानीय लोगों ने फायर ब्रिगेड को बताया कि, युवक तकरीबन तीन दिनों से वहीं पर था। इस नदी में लोग नारियल, पैसे या अन्य चीजों की तलाश में कूदते हैं, तो कोई मछली पकड़ने के लिए नदी में कूद जाता है। इसलिए यह युवक भी इन सबके लिए ही नदी में कूदा होगा, ऐसा मानकर किसी ने ध्यान नहीं दिया, लेकिन आज जब उसने चिल्लाना शुरू किया तो लोग बचाने पहुंचे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
42 year old man Jumped Into The sabarmati River, Starved Among The Wild Bushes For 3 Days
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X