• search
आगरा न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

MBBS परीक्षा में हाईटेक हुआ नकल करने का तरीका, ताबीज और कान में ब्लूटूथ लगाकर नकल करते 10 पकड़े

|

आगरा। टेक्नोलॉजी के जमाने में नकल करना भी आसान हो गया है। इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब डॉक्टरी की परीक्षा देने पहुंचे छात्र इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से नकल करते हुए पकड़े गए। बता दें कि किसी ने कान के अंदर डिवाइस लगाई थी तो किसी ने गले में ताबीज के रूप में ब्लूटूथ लगाया हुआ था। इतन ही नहीं, एमबीबीएस के छात्रों ने कक्ष निरीक्षक और उड़न दस्ते की नजरों से बचने के लिए ब्लूटूथ डिवाइस अपनी त्वचा के रंग की मंगवाई थी।

    MBBS परीक्षा में हाईटेक हुआ नकल करने का तरीका, ताबीज और कान में ब्लूटूथ लगाकर नकल करते 10 पकड़े

    10 MBBS students caught copying in hi-tech mode

    एक घंटे तक पता ही नहीं चला की कौन कर रहा है नकल

    आगरा के डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के खंदारी परिसर स्थित फार्मेसी विभाग में सुबह की पाली में फार्मेसी विभाग में एमबीबीएस फाइनल प्रोफेशन (पार्ट-वन) नेत्र विज्ञान की परीक्षा चल रही थी। कक्ष निरीक्षक जयवीर सिंह को लग रहा था कि आवाज तो आ रही है लेकिन यह मालूम नहीं चल रहा था कि कौन बोल रहा है। छात्र आपस में कोई बातचीत नहीं कर रहे थे। यही वजह रही कि एक घंटे तक नकल का पता ही नहीं चला। मुंह पर मास्क होने के कारण यह भी पता नहीं चल रहा था कि कौन बात कर रहा है और कौन नहीं। नकलची छात्रों ने परीक्षा शुरू होने के आधा घंटा बाद ही नकल शुरू कर दी थी।

    त्वचा के रंग की मंगवाई थी ब्लूटूथ डिवाइस

    एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि सभी छात्रों से गहनता से पूछताछ हुई है। इसमें पता चला है कि इन छात्रों ने हाईटेक नकल का इंतजाम सीनियर साथियों के साथ मिलकर किया। ये छात्र एमबीबीएस अंतिम वर्ष (पार्ट वन) के हैं। इन्होंने सीनियर से मदद मांगी थी। तरीका इन्होंने ही उन्हें बताया था। उनके राजी हो जाने के बाद ही इन्होंने ऑनलाइन चीन निर्मित डिवाइस मंगाई। जो छात्रों ने अपनी अपनी त्वचा के रंग के हिसाब से मंगाई थी। ऑनलाइन ऑर्डर देने से पहले बेवसाइट पर डिवाइस देखी गई थी। अपनी त्वचा के रंग से मिलान के बाद ही ऑर्डर दिए गए थे।

    10 छात्र पकड़े गए

    जांच करने पर 10 छात्र नकल करते हुए पकड़े गए। छात्रों के कानों और जूतों में छोटी ब्लूटूथ डिवाइस लगी हुई थी। कुछ छात्रों के गले के ताबीज में भी डिवाइस लगी हुई थी। इस डिवाइस की मदद से संस्थान के बाहर से बोल कर नकल कराई जा रही थी। नकलचियों के पकड़े जाने की सूचना तुरंत कुलपति प्रो. अशोक मित्त और कुलसचिव डा. अंजनी कुमार मिश्रा को दी गई। दोनों मौके पर पहुंचे। पुलिस को भी सूचना दी गई। नकलचियों की कापी सील कर दी गई है और उनसे पूछताछ की जा रही है। बताया जा रहा है कि छात्र प्राइवेट मेडिकल कालेज के हैं।

    मेरठ में स्मार्ट वॉच से नकल करते पकड़े गए मेडिकल के छात्र

    वहीं, मेरठ-सहारनपुर मंडल के 15 से अधिक केंद्रों पर जारी एमबीबीएस, बीएएमएस और बीयूएमएस की परीक्षाओं में विश्वविद्यालय ने मेडिकल के 20 छात्रों को स्मार्ट वॉच से नकल करते हुए पकड़ा है। इन स्टूडेंट ने महंगी स्मार्ट वॉच को सौ मीटर के दायरे में रखे अपने मोबाइल से कनेक्ट कर रखा था। पेपर में ये वॉच कंप्यूटर स्क्रीन की तरह प्रयुक्त हो रही थी। विवि ने पकड़े गए सभी मेडिकल छात्रों की स्मार्ट वॉच और मोबाइल फोन जब्त करते हुए सील कर दिए हैं।

    ये भी पढ़ें:- पुलिस स्मृति दिवस-2020: कानपुर शूटआउट में शहीद हुए थे पुलिसकर्मी, सीएम योगी ने परिवार को किया सम्मानित

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    10 MBBS students caught copying in hi-tech mode
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X