• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए टीनेजर्स की लाइफ से जुड़े 40 गंभीर सच

By Ajay Mohan
|

बेंगलुरु। हमारे ही भारत में एक समय था जब बच्‍चे 13 वर्ष की आयु में कदम रखते थे, तब उन्‍हें अखबार दिया जाता था, ताकि वो हर रोज़ संपादकीय पढ़ सकें। पिता खुद पुस्‍तकालय जाकर अपने बच्‍चों को सदस्‍यता दिलाते थे, जाकि उनका बच्‍चा अच्‍छी-अच्‍छी किताबें पढ़ सके। जो आगे पढ़ना नहीं जानते थे, उन्‍हें ट्रेनिंग कोर्स कराये जाते थे, ताकि वो आगे चलकर बेरोजगार न रहें। तब टीनेजर को कुछ ऐसे परिभाषित किया जाता था कि आंखों के सामने भविष्‍य के लिये गंभीर बच्‍चे की तस्‍वीर बन जाती थी।

आज टीनेजर की परिभाषा पूरी तरह बदल चुकी है। नई परिभाषा कुछ यह है- 13 से 19 साल की आयु जिसमें बच्‍चे पढ़ाई करते हैं, इधर-उधर से पैसा कमाने की होड़ में लगे रहते हैं, चैटिंग, इंटरनेट ब्राउजिंग, एसएमएस, ट्विटर, फेसबुक, धूम्रपान, शराब, सेक्‍स और बहुत कुछ जिसके लिये ये भविष्‍य का इंतजार नहीं कर सकते। इन सब में जो सबसे गंभीर है, वो है इनका सेक्‍सुअली ऐक्टिव होना। और यहां हम उसी पर चर्चा करेंगे।

हम इस लेख में जिन तथ्‍यों की बात करेंगे, वो प्रतिष्ठित मीडिया संस्‍थान अथवा सर्वेक्षण कंपनियों अथवा संस्‍थान के द्वारा करवाये गये सर्वेक्षण पर आधारित हैं।

यौनजीवन के 50 तथ्‍य | वेश्‍यावृत्ति के 40 रहस्‍य | एक्‍स्‍ट्रामेरिटल अफेयर के 40 सच

100 में 25 लड़कियां सेक्‍सुअली एक्टिव

100 में 25 लड़कियां सेक्‍सुअली एक्टिव

भारतीय पीडिएट्रीशन एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार बड़े शहरों के बड़े स्‍कूलों में 100 में से 25 टीनेज लड़कियां सेक्‍सुअली एक्टिव रहती हैं। 10 फीसदी लड़के स्‍कूल में कम से कम एक बार कंडोम लेकर आये।

पढ़ाई के अलावा खर्च होते हैं 10 घंटे

पढ़ाई के अलावा खर्च होते हैं 10 घंटे

भारतीय पीडिएट्रीशन एसोसिएशन के सर्वेक्षण के अनुसार भारत के टीनेजर्स दिन भर में 10 घंटे पढ़ाई के अलावा किसी अन्‍य चीजों में खर्च करते हैं। ये 10 घंटे इस प्रकार हैं- दो घंटे सोशल नेटवर्किंग साइट, 1.5 घंटे मोबाइल फोन पर बतियाने में, 2.5 घंटे टीवी पर, 1.5 घंटे कंप्‍यूटर गेम्‍स में, 3.5 घंटे अन्‍य कामकाज जैसे घर में किसी से बतियाने, भोजन करने व अन्‍य कार्यों में अपना समय देते हैं।

13 साल की उम्र से पहले पोर्न फिल्‍में

13 साल की उम्र से पहले पोर्न फिल्‍में

इंडिया टुडे के सर्वेक्षण के अनुसार 5 में से एक टीनेजर 13 साल की उम्र से पहले पोर्न फिल्‍में, तस्‍वीरें या वीडियो देख चुके होते हैं। 15 फीसदी बच्‍चे स्‍कूल के टॉयलेट में यौन गतिविधियों को अंजाम देते हैं। 95 फीसदी टीनेजर्स शादी से पहले सेक्‍स को सही मानते हैं।

13 साल की उम्र में जानते हैं कंडोम व पिल्‍स

13 साल की उम्र में जानते हैं कंडोम व पिल्‍स

इंडिया टुडे के सर्वे के अनुसार 98 फीसदी बच्‍चे 13 साल की उम्र तक यह जानते थे कि कंडोम क्‍या होता है और गर्भनिरोधक पिल्‍स का इस्‍तेमाल क्‍यों किया जाता है।

टीनेजर्स में स्‍मोकिंग का चलन

टीनेजर्स में स्‍मोकिंग का चलन

ऐक्‍शन एड के सर्वेक्षण के अनुसार शहरी क्षेत्रों में टीनेजर्स में स्‍मोकिंग का चलन तेजी से बढ़ा है। सर्वे के अनुसार भारत में धूम्रपान करने वाले टीनेजर्स 7 से 10 सिगरेट एक दिन में पी जाते हैं। स्‍मोकिंग करने वाले पांच में से एक टीनेजर 13 से 15 सिगरेट एक दिन में पी जाता है।

उड़ान द्वारा किया गया सर्वे

उड़ान द्वारा किया गया सर्वे

फिल्‍म उड़ान जो टीनेजर्स पर आधारित फिल्‍म है, उसे बनाने से पहले प्रोडक्‍शन कंपनी ने सर्वेमंकी और फेसबुक के माध्‍यम से ऑनलाइन सर्वे करवाया। यह सर्वे दिल्‍ली, मुंबई, अहमदाबाद, बैंगलोर, चंडीगढ़, चेन्‍नई, हैदराबाद और कोलकाता के 1000 से ज्‍यादा इंटरनेट यूजर्स पर किया गया। इस सर्वे में चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आये।

अपनी समस्‍या को अपने माता-पिता से बताने में डर

अपनी समस्‍या को अपने माता-पिता से बताने में डर

3 में से एक बच्‍चा आज भी अपनी समस्‍या को अपने माता-पिता से बताने में डरता है। इस कारण वह तनाव में रहता है। तीन में से एक छात्र है, जो अपनी स्‍ट्रीम बदलना चाहते हैं। 10 में से एक टीनेजर अपने पिता से ज्‍यादा करीब है।

ऑपोजिट सेक्‍स को किस

ऑपोजिट सेक्‍स को किस

5 में से एक छात्र 16 साल का होने से पहले धूम्रपान कर चुका होता है। 2 में से एक टीनेजर 16 साल का होने से पहले बाइक या कार चला चुका होता है। 50 फीसदी टीनेजर अपने ऑपोजिट सेक्‍स के किसी न किसी व्‍यक्ति को एक न एक बार किस कर चुके थे। तीन में से एक छात्र 13 का होने से पहले पोर्न मूवी देख चुका होता है।

पोर्न मूवी

पोर्न मूवी

3 में से एक बच्‍चा 16 साल का होने से पहले पोर्न मूवी देख चुका होता है। 5 में से एक छात्र स्‍कूल के टॉयलेट में गलत काम कर चुके होते हैं।

छोटे शहरों में टीनेजर्स

छोटे शहरों में टीनेजर्स

इंडिया टुडे के सर्वे के अनुसार छोटे शहरों में 12 से 21 साल की उम्र के बच्‍चों में 21 प्रतिशत टीनेजर्स 13 से 16 साल की उम्र में सेक्‍स कर चुके होते हैं। वहीं मेट्रो शहरों में यह संख्‍या 13 फीसदी है। छोटे शहरों की टीनेजर लड़कियों में भी 13 से 19 साल की 42 फीसदी लड़कियां एक सप्‍ताह में दो से तीन बार सेक्‍स कर चुकी होती हैं।

70 फीसदी पुरुष चाहते हैं वर्जिन

70 फीसदी पुरुष चाहते हैं वर्जिन

इंडिया टुडे के सर्वे के अनुसार छोटे शहरों व गांवों के 70 फीसदी पुरुष चाहते हैं कि उनकी पत्‍नी शादी के पहले तक वर्जिन रहे।

टीवी से प्रेरित टीनेजर

टीवी से प्रेरित टीनेजर

चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय कानपुर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण में पता चला कि टीवी के जरिये टीनेजर्स ने सेफ सेक्‍स के बारे में जानकारी प्राप्‍त की और वे यौन संक्रमित रोगों से बचने के उपाये जानते हैं।

सेक्‍स एजुकेशन

सेक्‍स एजुकेशन

चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय कानपुर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण के अनुसार 71.7 फीसदी लड़कियां और 62.5 लड़के सेक्‍स एजुकेशन पर आधारित टीवी कार्यक्रमों व विज्ञापनों के माध्‍यम से सेक्‍सुअल हेल्‍थ के प्रति जागरूक हुए।

सेक्‍स के बारे में ज्ञान

सेक्‍स के बारे में ज्ञान

14 से 24 साल के टीनेजर्स पर चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय कानपुर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण के अुनसार 75 फीसदी लड़के सेक्‍स के बारे में ज्ञान प्राप्‍त करना चाहते हैं। वहीं 48.3 फीसदी लड़के यौन संक्रमित बीमारियों व कंडोम के इस्‍तेमाल के बारे में अच्‍छी तरह जानते हैं।

विश्‍वविद्यालय सर्वेक्षण

विश्‍वविद्यालय सर्वेक्षण

विश्‍वविद्यालय के सर्वेक्षण के अनुसार 59.2 फीसदी लड़के और 50.8 फीसदी लड़कियां एड्स के प्रति जागरूक कार्यक्रमों से प्रभावित हुए।

इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द

इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द

आजाद विश्‍वविद्यालय के सर्वेक्षण में पाया गया कि 99 फीसदी टीनेजर्स लड़के इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द दिन में कम से कम एक बार जरूर खोजते हैं। वहीं 46 फीसदी लड़कियां अकेले में इंटरनेट पर सेक्‍स शब्‍द खोजती हैं।

चैटिंग पर सेक्‍स की बातें

चैटिंग पर सेक्‍स की बातें

चंद्रशेखर आजाद विश्‍वविद्यालय के इस सर्वेक्षण के अनुसार 88.3 फीसदी लड़के और 68.3 फीसदी लड़कियां चैटिंग पर सेक्‍स की बातें डिसकस करना पसंद करते हैं।

चैटिंग के दौरान अपनी यौन इच्‍छा

चैटिंग के दौरान अपनी यौन इच्‍छा

भारतीय टीनेजर्स पर किये गये आजाद विवि के सर्वेक्षण के अनुसार 35.8 फीसदी लड़के और 33.3 लड़कियां चैटिंग के दौरान अपनी यौन इच्‍छाओं को खुल कर रख देते हैं।

पोर्न या सेमी पोर्न मूवी

पोर्न या सेमी पोर्न मूवी

इंटरनेट ऐक्‍सेस प्राप्‍त टीनेजर्स पर सर्वे के अनुसार 90 फीसदी लड़के और 75.8 प्रतिशत लड़कियां यौन इच्‍छाओं के दमन के लिये पोर्न या सेमी पोर्न मूवी या वीडियो देखना पसंद करते हैं। वहीं 77.5 फीसदी लड़के और 50 फीसदी लड़कियां तस्‍वीरें देखना पसंद करती हैं।

यौन इच्‍छाएं जागृत

यौन इच्‍छाएं जागृत

मिसूरी विश्‍वविद्यालय के एक अध्‍ययन के अनुसार 48 फीसरी टीनेजर्स टीवी और फिल्‍मों से प्रेरित होने पर उनके अंदर यौन इच्‍छाएं जागृत होती हैं।

मैथुन के रहस्‍य

मैथुन के रहस्‍य

टाइम मैगजीन के सर्वेक्षण के अनुसार जो लड़के मैथुन करते हैं, उनमें से 52 फीसदी ने कहा कि वो हफ्ते में कम से कम दो बार मैथुन करते हैं। वहीं 23 फीसदी लड़कियों ने कहा कि हफ्ते में दो बार मैथुन करती हैं। और 46 फीसदी लड़कियों ने कहा साल में कभी-कभी ऐसा करती हैं।

हफ्ते में दो बार मैथुन

हफ्ते में दो बार मैथुन

टाइम मैगजीन के सर्वेक्षण के अनुसार जो लड़के मैथुन करते हैं, उनमें से 52 फीसदी ने कहा कि वो हफ्ते में कम से कम दो बार मैथुन करते हैं। वहीं 23 फीसदी लड़कियों ने कहा कि हफ्ते में दो बार मैथुन करती हैं। और 46 फीसदी लड़कियों ने कहा साल में कभी-कभी ऐसा करती हैं।

अमेरिका के टीनेजर्स का हाल

अमेरिका के टीनेजर्स का हाल

यूएस हाईस्‍कूल छात्रों पर 2011 में हुए सर्वे के अनुसार वहां 47.4 फीसदी टीनेजर्स 13 से 19 साल की उम्र में ही संभोग कर चुके होते हैं।

कंडोम का प्रयोग नहीं

कंडोम का प्रयोग नहीं

अमेरिकी सर्वे के अनुसार 39.8% लड़कों ने कंडोम का प्रयोग नहीं किया। वहीं 76.7 फीसदी लड़कियों ने बर्थ कंट्रोल पिल्‍स का प्रयोग उचित नहीं समझा।

 यौन संबंध

यौन संबंध

अमेरिकी सरकार ने अमेरिका के नेशनल सेंटर फॉर हेल्‍थ स्‍टेटिक्‍स के तत्‍वावधान में 40 राज्‍यों में 13 से 24 साल की आयु वर्ग के किशोर-किशोरियों पर सर्वे कराया। सर्वे के अनुसार वहां के 15.3 फीसदी टीनेजर्स चार या चार से अधिक लोगों के साथ यौन संबंध स्‍थापित कर चुके होते हैं।

लड़कियां गर्भवती

लड़कियां गर्भवती

अमेरिका में 2009 में 4 लाख से ज्‍यादा टीनेजर लड़कियां गर्भवती हुईं। इनकी उम्र 15 से 19 साल के बीच थी।

टीन एज में कभी सेक्‍स नहीं किया

टीन एज में कभी सेक्‍स नहीं किया

अमेरिका के नेशनल सेंटर फॉर हेल्‍थ स्‍टेटिक्‍स की रिपोट्र के अनुसार 27 फीसदी टीनेजर लड़के और 29 फीसदी टीनेजर लड़कियों ने कहा कि उन्‍होंने टीन एज में कभी सेक्‍स नहीं किया।

15 से 19 साल की आयु में

15 से 19 साल की आयु में

15 से 19 साल की आयु में 58 फीसदी लड़कियों और 53 फीसदी लड़कों ने कहा कि उन्‍होंने कभी सेक्‍स नहीं किया। वहीं 48.6 लड़कियां और 46.1 लड़के बोले कि किसी न किसी प्रकार से वो यौन गतिविधियों में शामिल रहे। वहीं 20 से 24 साल में 12 फीसदी लड़कियों और 13 फीसदी लड़कों ने कहा कि उन्‍होंने कभी सेक्‍स नहीं किया।

सिर्फ एक पार्टनर

सिर्फ एक पार्टनर

नेशनल सर्वे ऑफ फेमिली ग्रोथ के तत्‍वावधान में 2011 में अमेरिका की संस्‍था एनसीएचएस ने 4600 किशोर-किशोरियों पर सर्वे कराया, जिसमें पाया गया कि 15 से 19 साल की आयु में 40 फीसदी टीनेजर्स ने कहा कि एक साल में कम से कम एक बार उन्‍होंने सेक्‍स किया। वहीं 35 फीसदी लड़कियों और 30 फीसदी लड़कों ने कहा कि उनका सिर्फ एक पार्टनर है।

एक से ज्‍यादा सेक्‍स पार्टनर

एक से ज्‍यादा सेक्‍स पार्टनर

एनसीएचएस की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के इस सर्वे में पाया गया कि 17 फीसदी लड़कियों और 22 फीसदी लड़कों के छह व उससे ज्‍यादा सेक्‍स पार्टनर थे।

एक बार कंडोम का इस्‍तेमाल किया

एक बार कंडोम का इस्‍तेमाल किया

2006 से 2010 के बीच कराये गये अमेरिकी सर्वे के अनुसार 96 फीसदी टीनेजर्स ने कम से कम एक बार कंडोम का इस्‍तेमाल किया। वहीं 57 फीसदी जब कंडोम नहीं इस्‍तेमाल करते, तब स्‍खलित होने से पहले अलग हो जाते, वहीं 56 फीसदी गर्भधारण रोकने के लिये पिल का इस्‍तेमाल करते।

माता-पिता से दूर यानी सेक्‍स

माता-पिता से दूर यानी सेक्‍स

सर्वे में पाया गया कि 35 फीसदी लड़कियां सेक्‍स में इनवॉल्‍व हुईं, जो अपने माता-पिता के साथ नहीं रहती थीं। वहीं अन्‍य किसी अभिभावक के साथ रहने वाली लड़कियों में 54 फीसदी सेक्‍स कर चुकी थीं।

प्रेगनेंसी से बचने के लिये क्‍या किया

प्रेगनेंसी से बचने के लिये क्‍या किया

99 फीसदी लड़कियों ने कहा कि उन्‍होंने संभोग करते वक्‍त कॉन्‍ट्रासेप्टिव का इस्‍तेमाल किया। इनमें 96 फीसदी के पार्टनर ने कंडोम इस्‍तेमाल किया, वहीं 57 फीसदी ने स्‍खलित होने से पहले संभोग रोक दिया, 56 फीसदी ने गर्भनिरोधक गोलियों का सहारा लिया। वहीं 14 फीसदी ने इमर्जेंसी कॉन्‍ट्रासेप्‍शन, जिसे असुरक्षित यौन संबंध के 72 घंटों के भीतर लेना जरूरी होता है लिया।

पहली बार यौन संबंध

पहली बार यौन संबंध

अमेरिका के इस सर्वे के अनुसार पहली बार यौन संबंध स्‍थापित करते वक्‍त 78 फीसदी लड़कियों और 85 फीसदी लड़कों ने कॉन्‍ट्रासेप्टिव का इस्‍तेमाल किया।

एचआईवी के केस

एचआईवी के केस

2011 में अमेरिका में जितने भी नये एचआईवी के केस आये, उनमें 21 फीसदी मरीजों की उम्र 13 से 24 साल के बीच थी। यह खतरनाक संकेत हैं।

एचआईवी के बारे में

एचआईवी के बारे में

अमेरिका में 15 से 19 साल की आयु की लड़कियों में मात्र 43 फीसदी लड़कियां ही एचआईवी या यौन संक्रमित रोगों के बारे में दी जाने वाली काउंसिलिंग अटेंड करती हैं।

59 फीसदी ने बच्‍चे को जन्‍म दिया

59 फीसदी ने बच्‍चे को जन्‍म दिया

15 से 19 साल की आयु की प्रेगनेंट लड़कियों में से 59 फीसदी ने बच्‍चे को जन्‍म दिया, जबकि 26 फीसदी ने अबॉर्शन करवाया और बाकी का मिसकैरेज हो गया। 2 फीसदी टीनेज प्रेगनेंसी पूरी तरह अनियोजित थीं।

13 से 19 साल की आयु में गर्भवती

13 से 19 साल की आयु में गर्भवती

2011 की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में 89 फीसदी टीन बर्थ यानी 13 से 19 साल की आयु में जिन महिलाओं ने बच्‍चों को जन्‍म दिया उनमें 89 फीसदी की शादी नहीं हुई थी।

जब फीमेल पार्टनर प्रेगनेंट हो

जब फीमेल पार्टनर प्रेगनेंट हो

जब फीमेल पार्टनर प्रेगनेंट हो जाती है, तो 47 फीसदी टीनेजर लड़के बहुत अपसेट हुए, जबकि 34 फीसदी लड़के कुछ अपसेट हुए, जबकि 18 फीसदी खुश हुए।

 टीनेजर लड़के 17 से 20 साल की आयु में पिता

टीनेजर लड़के 17 से 20 साल की आयु में पिता

अमेरिका में 2008 में 15 से 19 साल की आयु की 1 लाख 92 हजार लड़कियों ने अबॉर्शन करवाया। इनमें 7 फीसदी नाबालिग थीं। अमेरिका में 2010 में हुए सर्वे के अनुसार 16 फीसदी टीनेजर लड़के 17 से 20 साल की आयु में पिता बन जाते हैं।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a modern India teenager is defined as those belongs to 13 to 19 years of age, work, chat, browse, talk, SMS, Twitter, Facebook, smoke, drink, splurge, do drugs, have sex, get pregnant and those who can't wait for future. Here are 40 reasons behind.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more