• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'मेरा प्यार, मेरा गुरूर, मेरी ताकत, मेरी जिंदगी हैं पापा'

By अपर्णा रस्तोगी (रेडियो जॉकी)
|

मै इस दुनिया में आउँ, उनके साथ उनकी उंगली को थाम के चलना सीखूं , ये चाहत थी मेरे पापा की इसलिए मैं कहती हूँ कि 'पापा की परी हूँ मैं।

अक्सर एक माँ अपने बच्चे को लेकर न जाने कितने सपने देखती है पर, मेरी माँ मुझे खुद बताती है ,की मेरे और मेरे पापा का रिश्ता तब से ही जुड़ गया था जब मैं इस दुनिया में आई भी नहीं थी।

उनकी चाहत इतनी बुलंद थी की कभी पूजा में अपना वक़्त न देने वाले मेरे पापा ने एक गुड़िया खरीद के पूजा के मंदिर में रख दी और भगवान से मुझे माँगा, और लीजिये परिणाम ये है की ,आज आप सबसे जिंदगी की अनमोल बातें और अपने पापा के साथ अपने इस प्यारे से रिश्ते को बांटने के लिए मैं हाज़िर हूँ।

स्वाभाव से थोड़े से सख्त लेकिन दिल से उतने ही कोमल है मेरे पापा , दो भाइयों की छोटी बहन, मैं हमेशा से पापा की वो लाडली बच्‍ची रही हूँ जिसे कभी सुबह पढने के लिए नही उठाया गया। हंसी की बात तो ये है की डांट पड़ने के बाद दोनों बड़े भाइयों का गुस्सा पापा पे नही मुझपे होता था , पर फिर भी मैं हमेशा से अपने घर की परी ही रही हूँ।

पापा की बात को काटने से ले के उनको डांटने तक का सारा डिपार्टमेंट मैंने सम्भाल रखा है , पढाई का कठिन निर्णय हो या नौकरी को ले के मेरी मुश्किलें सब में मेरे पापा मेरे साथ होते हैं।

उनकी चाहतें मुझसे बिलकुल वैसे ही हैं, जैसे एक पिता को अपने बेटे से होती है और इस बात का मुझे फक्र है। जरूरत तो नहीं है लेकिन फिर भी मैं पापा आज आपसे कहती हूं 'आई लव यू पापा'।

हर कदम , हर राह हर मंजिल पे आपने मुझे समझाया, सम्भाला और कहा है मैं हूँ न , मुझे और किसी सुपर हीरो की कभी कोई चाहत नहीं रही बचपन से ही मेरा सुपर हीरो मेरे साथ है यानी की मेरे पापा। आज के इस स्‍पेशल फादर्स डे पर मुझे बस इतना कहना है -

मेरी सारी शैतानियों के सच्चे सूरमा मेरे पापा,

मेरी सारी गलतियों के जज मेरे पापा ,

तुम हो तो मैं हूँ मेरे पापा ,

तुम हँसते हो तभी मेरी हस्ती है मेरे पापा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A dad is someone who wants to catch you before you fall but instead picks you up,brushes you off,and lets you try again. Here is a Special Story by oneindia reader Aprana Rastogi on Fathers Day.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X