• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

गुजरात में शुरू हुई भगवान जगन्नाथ की 135 वीं रथयात्रा

By Belal Jafri
|
lord jagannath yatra
अहमदाबाद। शहर के जमालपुर इलाके में स्थित 400 साल पुराने जगन्नाथ मंदिर से आज सुबह भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा कड़ी सुरक्षा के बीच शुरू हो गई। परंपरा के मुताबिक, मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने रथयात्रा की पहिंद विधि संपन्न की जिसके बाद भगवान जगन्नाथ, भगवान बलदेव और उनकी बहन देवी सुभद्रा की सालाना रथयात्रा शुरू हुई।

पहिंद विधि में भगवान जगन्नाथ के रथ के लिए रास्ते की प्रतीकात्मक तौर पर सफाई की जाती है। दशकों पुरानी परंपरा के अनुसार, मुख्यमंत्री ने मंदिर परिसर से भगवान जगन्नाथ का रथ खुद खींच कर बाहर निकाला। मोदी ने संवाददाताओं से कहा पुरी के बाद अहमदाबाद की रथयात्रा देश में और दुनिया भर में आकर्षण का केंद्र है।हजारों संत इस रथयात्रा में भाग लेने के लिए गुजरात आए हैं।

मोदी ने कहा मैं भगवान जगन्नाथ से प्रार्थना करता हूं कि शांति, एकता और सद्भावना के साथ विकास की नयी उंचाइयां हासिल कर रहा गुजरात उनके आशीर्वाद से और अधिक समृद्ध बने तथा प्रगति करे। मुख्यमंत्री ने कहा रथयात्रा के अवसर पर, मैं भगवान के चरणों में प्रार्थना करता हूं कि इस साल मानसून के दौरान अच्छी बारिश हो। रथयात्रा 14 किमी लंबे मार्ग से गुजरेगी।

कड़ी सुरक्षा के बीच रथयात्रा शहर के संवेदनशील इलाकों कालूपुर, प्रेम दरवाजा, दिल्ली चकला, दरियापुर और शाहपुर से हो कर आगे बढ़ेगी। इस 135 वीं रथयात्रा के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

होमगार्ड्स, एसआरपी और अद्र्धसैनिक बल सहित पुलिस के करीब 20,000 जवान पूरे यात्रा मार्ग पर तैनात किए गए हैं। सुरक्षा के अन्य इंतजाम भी किए गए हैं। पुलिस पहली बार इस यात्रा में जीपीएस और छिपे हुए कैमरों का उपयोग करेगी।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Lord Jagannath Rathyatra, began this morning from the 400-year-old Jagannath temple in Jamalpur area, amidst tight security arrangements. As per tradition, Gujarat Chief Minister Narendra Modi, performed the 'Pahind Vidhi' of Rathyatra (symbolic path cleaning on chariot of Lord Jagannath) after which the annual rathyatra of Lord Jagannath, Lord Baldev and their sister Devi Subhadra began here. State Chief Minister also pulled the chariot of Lord Jagganath out of the temple premises, an age old tradition here.
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more