• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

यूके के एक कैथलिक स्कूल में बोली जाती हैं 31 भाषाएं

By Belal Jafri
|

london school
आप भारत के किसी भी स्कूल में चले जाइये और वहां जाकर आप बोली जाने वाली भाषाओं पर गौर करिए। शायद आपको हिंदी अंग्रजी के अलावा 6 या 7 भाषाएं और मिल जाएं और इन भाषाओं में भी आपको क्षेत्रीय भाषा ज्यादा सुनाई देगी। लेकिन अगर हम आपको ये बताएं की यूके में एक ऐसा स्कूल है जहाँ उर्दू, गुजराती, तमिल, सेथली, पंजाबी भाषाओं संग एक ही समय पर 31 अलग अलग भाषाएं बोली जाती हैं तो आपको यकीन नहीं होगा।

वहीं अगर हम आपको इस स्कूल में पढने वाले बच्चों की संख्या बताएं तो आपका शक यकीन में बदल जायगा और आप के कंठ से बस एक ही शब्द निकलेगा 'असंभव'। आइये आपको बताते हैं की आखिर पूरा मसला क्या है जिससे आपको ये न लगे की इस खबर के माध्यम से हम आपको भाषाओं के मकड़जाल में फंसा रहे हैं।

अंग्रेजी अखबार डेली मेल में प्रकाशित खबर के मुताबिक यूके के बर्मिंघम में इंग्लिश मार्टेयर कैथलिक स्कूल नाम का एक विद्यालय है जहाँ सिर्फ 414 बच्चे पढ़ते हैं और यहां पढने वाले छात्र अंग्रेजी को दूसरी भाषा मानते हुए 31 अलग अलग भाषाएं बोलते हैं। यहां बोली जाने वाली इतनी सारी भाषाओं के चलते यहां पढ़ाने वाले अध्यापकों की हिदायत दी जाती है की वो विद्यालय परिसर में अंग्रेजी का इस्तेमाल मात्र सहायक भाषाओं के रूप में की करें।

साथ ही आपको बताते चलें की यहां पर इतनी सारी भाषाओं के चलते बच्चों को पढ़ाने के लिए बड्डी सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है मसलन अगर कोई नया गुजराती बच्चा विद्यालय में प्रवेश लेता है तो उसकी भाषा के पुराने छात्र को बुलाकर उसकी मुश्किल को आसान किया जाता है।

डेली मेल के मुताबिक विद्यालय में भारती भाषाओं के अलावा अफ़्रीकांस, अरबी, डच, हिंदको, मीरपुरी, उर्दू, नेपाली, स्पेनिश, फ्रेंच, रशियन, पॉलिश समेत कुल 31 अलग अलग भाषाएं बोली जाती हैं। इस स्कूल की सबसे बड़ी खासियत बताते हुए मेल ने लिखा है कि एक इंग्लिश मार्टेयर कैथलिक स्कूल होते हुए भी यहां पाकिस्तानी छात्रों कि संख्या काफी है क्यूंकि यहां पढने वाले ज्यादातर बच्चे पाकिस्तान के मीरपुर से ताल्लुख रखते हैं।

साथ ही यहां और भाषाओं के अनुपात में उर्दू और मीरपुरी का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। मजे की बात ये है की यूके में होने के बाद भी यहां लोकल छात्रों का शुमार अल्पसंख्यकों में किया जाता है। लंडन स्थित शिक्षा विभाग के आकड़ों कि माने तो यहां के अधिकांश स्कूल अब अंग्रेजी को दूसरी भाषा मानते हुए अपनी क्षेत्रीय या अलग भाषा पर ज्यादा बल दे रहे हैं।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
As per the reports from Daily Mail, A British primary school is virtually a league of nations as the students speak an astonishing 31 different languages, including Bengali, Sylheti, Tamil, Punjabi, Urdu and Gujarati besides English. The 414 students at the English Martyrs' Catholic School in Birmingham speak an incredible 31 languages between them and the pupils who speak English as their first language are in a tiny minority
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more