• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कॉल गर्ल्‍स और समलैंगिकों का शोरूम बना फेसबुक

By अंकुर कुमार श्रीवास्‍तव
|

Facebook turns as showroom for call girls and homosexual
बैंगलुरू। हर मर्ज की दवा बन चुका है फेसबुक। अगर हम कहें कि फेसबुक‍ इनसाइक्‍लोपीडिया की तरह काम कर रहा है तो कोई अतिश्‍याक्ति नहीं होगी। अगर आप यह जानना चाहते हैं कि कोई ट्रेन कहां से कितने बजे चलेगी तो फेसबुक आपके सामने हाजिर है। इतना ही नहीं अगर आपको ट्रैफिक पुलिस से कोई शिकायत हो या फिर आपने किसी को ट्रैफिक नियमों का उलंघन करते देखा हो और आप उसकी शिकायत करना चाहते हैं तो बड़े आसानी से आप फेसबुक की शरण में जा सकते हैं। फेसबुक को लेकर ए‍क नया ट्रेंड भी सामने आ गया है। अब तो डायरेक्‍टर भी अपनी फिल्‍म की हिरोइन का चयन फेसबुक के माध्‍यम से करने लगे हैं।

ऐसे में अगर कोई चीज काम की हो तो उसका गलत इस्‍तमाल होना लाज़मी है और ऐसा करने वालों की कमी भी नहीं है। हाल ही में हुए एक सर्वे की मानें तो फेसबुक का इस्‍तमाल कॉल गर्ल्‍स बहुत तेजी से करने लगी हैं। कॉल गर्ल्‍स इस सोशल नेटवर्किंग साइट का इस्‍तमाल ग्रा‍हकों को लुभाने के लिये कर रही हैं। सर्वे की मुताबिक 83 प्रतिशत कॉल गर्ल्‍स का फेसबुक अकाउंट हैं और यह सिर्फ हाई सोसायटी ग्राहकों को फंसाने के लिये बनाया गया है।

ग्राहकों को आकर्षित करने के लिये कॉल गर्ल्‍स अपनी सेक्‍सी फोटो भी अपडेट करती है। कॉल गर्ल्‍स इस स्‍टाइल में मैसेज लिखती है कि पढ़ते ही कोई भी उनका मकसद समझ जायेगा। असल में फेसबुक के जरिये कॉल गर्ल्‍स को बेहद आसानी से ग्राहक मिल जाते हैं और पकड़े जाने का डर भी नहीं रहता। जिस्‍म के धंधे में लिप्‍त युवतियों के लिये फेसबुक‍ ए‍क और नजरिये से फायदेमंद है।

फेसबुक के जरिये ग्राहक ढूंढ कर वह दलालों से छुटकारा पा जाती है। मतलब सारा पैसा अपनी जेब में। यह तो रही कॉल गर्ल्‍स की बात। इसके अलावा फेसबुक और ट्विटर पर समलैंगिक और दूसरे तरह के समुदायों ने अपना अलग नेटवर्क बना रखा है और इसने नैतिकता के ठेकेदारों से लेकर सियासत की बागडोर संभाले नेताओं को राजनीति का मौका दे दिया है।

फेसबुक पर सियासी दांवपेंच

फेसबुक पर फैले कॉल गर्ल्‍स के व्‍यापक नेटवर्क संसद में चर्चा की मुद्दा बन गया। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने फेसबुक पर सीधा निशाना साधते हुए कहा कि फेसबुक के माध्‍यम से भारत देश चारो तरफ नग्‍न हो रहा है। उन्‍होंने कहा कि फेसबुक के माध्‍यम से देश की संस्‍कृति को नष्‍ट किया जा रहा है। लालू ने कहा कि अबतक तो इन सोशल नेटवर्क साइटों के चलते आतंकी खतरे ही मानें जाते थे मगर अब देश की संस्‍कृति पर खतरा मडराने लगा है।

ऐसे में अब य‍ही सवाल उठता है कि क्‍या संचार क्रांति का वरदान कहे जाने वाला फेसबुक और ट्विटर अभिशाप बनता जा रहा है? क्‍या संचार क्रांति के इस अभिशाप का तोड़ खोजा जाना जरुरी है? इस संबंध में आपकी क्‍या राय है हमें जरुर बताइएगा। अपनी राय को हम तक पहुंचाने के लिये नीचे दिये गये कमेंट बाक्‍स में अपनी उपस्थिति दर्ज करायें। आपके बहुमुल्‍य राय का हमें इंतजार रहेगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Facebook is turning out to be an encyclopedia of information. Several businesses are marketing their products through this social networking site. A recent study has revealed that 83 percent of call girls have a face book account. These call girls are now soliciting customers through Facebook. Facebook has helped call girls avoid pimps and are now enjoying more revenues.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X