• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महिलाओं के लिए नीतीश बनें 'नेता नं.1'

|

नई दिल्ली। पूरा बिहार नीतीश कुमार का गुणगान कर रहा है, उनकी जीत का जश्न मना रहा है। वहीं आपको जानकर हैरत होगी कि नीतीश का गुणगान करने वालों में से पुरूषों से ज्यादा महिलायें हैं। चुनाव नतीजों पर अगर गौर फरमाया जाये तो उन्हें वोट करने वालों में महिला मतदाताओं की संख्या पुरूषों की अपेक्षा ज्यादा है।

बिहार में छह चरणों में संपन्न हुए चुनाव में महिलाओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया है। निर्वाचन आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक महिलाओं ने 54.85 फीसदी मतदान किया, जबकि पुरुषों ने 50.70 फीसदी मतदान किया। कुल 38 में से नौ जिले ऐसे रहे, जहां महिलाओं ने 60 फीसदी मतदान किया, जबकि अन्य 23 जिलों में महिलाओं ने पुरुषों से अधिक मतदान किया।

पढ़े : अब 'बिहारी' होना गाली नही लगता

पटना की एक गृहणी विभा रानी ने कहा कि बिहार ने लंबे समय के बाद विकास देखा है। चुनाव बिना किसी के डर के संपन्न हुआ है। अब महिलाओं को देर रात तक तक काम करने में डर नहीं लगता है। हम लालू यादव की सरकार को दोबारा नहीं लाना चाहते। एक गैरसरकारी संगठन के साथ काम करने वाली 22 वर्षीय श्रुति ने कहा कि पहले मेरे माता पिता कभी मुझे यहां काम नहीं करने देते। मुझे अपना करियर बनाने के लिए महानगरों में जाना पड़ता। अब स्थिति यहां बेहतर है।

आम धारणा है कि नीतीश कुमार ने महिला सशक्तीकरण की तरफ ध्यान दिया है और वादा निभाया है। 42 वर्षीय संगीता ने कहा कि बिहार में पंचायतों में महिला को 50 फीसदी आरक्षण दिया गया है। शासन में पारदर्शिता आई है। तो शिक्षिका अरूणा का कहना हैं कि नीतीश सरकार ने गरीबों को शिक्षा की सुविधा दी है। परिवहन आसान बनाया है और दूर दराज के क्षेत्रों में भी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई है।

पढ़े : एक नजर नीतीश कुमार के राजनैतिक सफर पर

उन्होंने कहा कि सरकार ने विद्यार्थियों को किताब, पोशाक, आदि देकर प्रोत्साहित किया। सरकार ने छात्राओं को साइकिल भी दिया। उन्होंने कहा कि बिहार में अब हर जगह अतिरिक्त प्राथमिक चिकित्सा केंद्र काम कर रहा है और इन केंद्रों पर चार-पांच डॉक्टरों और नर्सो का रहना अनिवार्य किया है। इन्हीं सब कारणों से नीतीश को महिलाओं का समर्थन मिला है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Reservation in Panchayat bodies, job opportunities, social security and, most importantly, respect -- Bihar"s women got it all with Nitish Kumar as chief minister and were thus more than motivated to vote in large numbers to make sure their favourite leader came back to power.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X