• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बिहार चुनाव: जहां-जहां गए राहुल, वहां-वहां हारी कांग्रेस

By ब्रजेन्द्र नाथ सिंह
|

नई दिल्ली। कांग्रेस भले ही अपने युवा महासचिव राहुल गांधी को 'यूथ आइकॉन' के रूप में प्रोजेक्ट करे और देश के हर कोने में उनका जादू चलने का दावा करे लेकिन बिहार विधानसभा के नतीजों ने साफ कर दिया कि राजनीतिक रूप से जागरूक इस प्रदेश में राहुल के लिए करिश्मा दिखाना फिलहाल दूर की कौड़ी है। राहुल इस चुनाव में जहां-जहां प्रचार करने गए कांग्रेस को वहां शिकस्त झेलनी पड़ी।

राहुल ने बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रचार अभियान का मोर्चा खुद संभाला था। पार्टी के स्टार प्रचारक के रूप में उन्होंने छह चरणों में हुए चुनाव के दौरान लगभग 16 सभाएं व रैलियां की लेकिन राहुल इन रैलियों में जुटी भीड़ को पार्टी के उम्मीदवारों के लिए वोट में तब्दील कराने में पूरी तरह असफल हुए।

इस चुनाव में कांग्रेस महज चार सीटों तक ही सिमट कर रह गई। चार में से उसके तीन उम्मीदवार अल्पसंख्यक हैं जबकि एक सीट पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सदानंद सिंह ने कहलगांव से कब्जा जमाया। कांग्रेस का प्रदर्शन विगत विधानसभा चुनाव से भी खराब रहा। गत विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव की 'बैसाखी' के सहारे कांग्रेस 10 सीटें जीतने में कामयाब रही थी लेकिन इस बार अकेले चुनाव लड़ने की राहुल की रणनीति ने सीटों का आंकड़ा डबल करने के पार्टी नेताओं के सपने को चकनाचूर कर दिया।

राहुल ने विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कटिहार, अररिया और सुपौल में सभाएं की। कटिहार में कांग्रेस पांचवें स्थान पर रही। यहां से कांग्रेस प्रत्याशी विनोद कुमार यादव को महज 2570 वोट ही मिल सके। अररिया और सुपौल में कांग्रेस उम्मीदवारों को तीसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा।

Rahul Gandhi
दूसरे चरण में राहुल ने सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर और समस्तीपुर में सभाएं की। सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर में कांग्रेस चौथे स्थान पर रही जबकि समस्तीपुर में उसके उम्मीदवार को 10,938 मत मिला और वह तीसरे स्थान पर रहे।

तीसरे चरण में राहुल ने रामनगर, कुचायकोट और मांझी में पार्टी उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार किया लेकिन यहां के चुनावी नतीजों में उनका यही करिश्मा दिखा कि रामनगर में कांग्रेस दूसरे स्थान पर पहुंच गई तो कुचायकोट से कांग्रेस उम्मीदवार चौथे स्थान पर रहे। मांझी में तो कांग्रेस का और बुरा हाल रहा। कांग्रेस उम्मीदवार यहां पांचवें स्थान पर रहे।

चौथे चरण में राहुल ने बेगूसराय, मुंगेर और भागलपुर में सभाएं की। भागलपुर में कांग्रेस उम्मीदवार अजीत शर्मा ने भाजपा के अश्विनी चौबे को अच्छी टक्कर दी। हालांकि वह चौबे को हराने में नाकामयाब रहे। चौबे को मिले 49,164 मतों के मुकाबले कांग्रेस उम्मीदवार शर्मा को 38,104 मत मिले। बेगूसराय और मुंगेर में कांग्रेस चौथे स्थान पर रही।

राहुल ने पांचवें चरण में राज्य की शेखपुरा और नवादा तथा छठे चरण में सासाराम और औरंगाबाद में चुनावी सभाएं की लेकिन इन क्षेत्रों में भी कांग्रेस को कोई खास सफलता नहीं मिली। सासाराम में तो वह छठे स्थान पर पहुंच गई। लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार सासाराम से ही कांग्रेस की सांसद हैं। औरंगाबाद में कांग्रेस पांचवें स्थान पर रही।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X