• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

चुनाव देता है नेताओं को मानसिक तनाव

By नारायण बारेठ
|
पार्टी के दफ़्तर के बाहर टिकट पाने वालों का लंबी लाइन लगी होती है
प्रेम प्रसंग और व्यापर मे नुक़सान जैसे मामलों में तनाव पैदा होने पर तो लोग मनोचिकित्सों के पास जाते रहते हैं. लेकिन अब चुनाव भी मानसिक तनाव का कारण बन कर उभरा है.

जयपुर में सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज अस्पताल के मनो-चिकित्सकों ने इस पर अध्ययन कर बताया है कि चुनावी प्रक्रिया में लगे लोगों को कई बार मानसिक तनाव का सामना करना पड़ता है.

डॉक्टर कहते हैं कि जितना छोटा चुनाव, तनाव उतना ही बड़ा. टिकट पाने से निराश कई बार लोग अवसाद का शिकार हो जाते हैं और डॉक्टरों से मदद लेते है.

राजस्थान विधानसभा क्षेत्र-200 मतदान- 4 दिसंबर मतगणना- 8 दिसंबर

सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज में मनोचिकित्सा विभाग के अध्यक्ष डॉ शिव गौतम ने बीबीसी को बताया, "इस अध्ययन में पता लगा कि न केवल उम्मीदवार और टिकट के आवेदक, बल्कि उनके परिजन, रिश्तेदार, समर्थक और चुनाव कराने वाले कर्मचारी भी इस तनाव के शिकार होते हैं."

डॉ गौतम ने इस शोध में पाया कि चुनाव में अपेक्षित परिणाम नहीं मिलने और चुनाव के दौरान अत्यधिक काम करने वाले लोग अक्सर कम सो पाते हैं और नशे का सहारा भी लेते हैं, इससे तनाव और अवसाद पैदा होता है.

तरीक़े

मनोचिकित्सक ऐसे लोगो को अब तनाव से बचने के तरीक़े भी बता रहे हैं. डॉ गौतम कहते है, "मादक पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए और कम से कम छह घंटे की नींद ज़रूर लेनी चाहिए."

जयपुर के किशन शर्मा छोटू भारत की सबसे पुरानी राजनैतिक पार्टी कांग्रेस के सदस्य है. टिकट के लिए बहुतेरे प्रयास किए मगर ख़ाली हाथ लौटना पड़ा.

किशन शर्मा कहते हैं, "जब हम अपने समर्थकों के साथ कई-कई दिन नेताओं के चक्कर काटते हैं तो भावनात्मक तौर पर जुड़ जाते हैं. जब टिकट नहीं मिलता है तो निराशा होती है. मेरे साथ यही हुआ और मुझे डॉक्टरों के पास जाना पड़ा और दवा लेनी पड़ी."

अतर सिंह गुर्जर ख़ुद भारतीय जनता पार्टी के सदस्य है. वे कहते हैं, "टिकट हासिल करने की पूरी प्रक्रिया ही तनाव भरी है. इस स्थिति में अच्छे नेता की हालत भिखारी जैसी हो जाती है और उसे तनाव दूर करने के लिए इधर-उधर जाना पड़ता है."

बाड़मेर के पोकरराम को ख़ुद के लिए टिकट नही चाहिए. पर वे अपने साथियों के संग जयपुर आए और विधायक तगाराम के लिए गुहार करते मिले. कहने लगे हमें तनाव हो रहा है हमारे नेता को टिकट नही मिलने से. मैं क्या हम सभी को ही तनाव हो रहा है.

सहारा

भारत मे चुनाव के दौरान अब कार्यकर्ता तार्किक बहस या बौद्धिक संबोधनों की बजाय उत्तेजक नारों का सहारा लेते देखे गए हैं.

जब हम अपने समर्थकों के साथ कई-कई दिन नेताओं के चक्कर काटते हैं तो भावनात्मक तौर पर जुड़ जाते हैं. जब टिकट नहीं मिलता है तो निराशा होती है. मेरे साथ यही हुआ और मुझे डॉक्टरों के पास जाना पड़ा और दवा लेनी पड़ी
डॉ गौतम कहते हैं, "ये देखा गया है कि पंचायत जैसे छोटे चुनावों में लोगों में तनाव ज़्यादा होता है. क्योंकि वहाँ लोग बहुत से व्यक्तिगत मुद्दों को बीच में लाते हैं और दुश्मनी भी निकलते हैं."

विधानसभा चुनावों मे उससे कम तनाव और लोकसभा चुनावो में और भी कम तनाव होता है. यूँ तो सिसायत कभी जातीय और कभी संप्रदायिक तनाव से अपनी राजनैतिक पूंजी जमा करती देखी गई है. पर अब सियासत मे लगे लोग ख़ुद भी इसका शिकार होने लगे है.

और ये सब इसलिए होता है कि हर उम्मीदवार जनसेवा करना चाहता है. जनसेवा का संकल्प गाँधी को दीन दुखियारों तक ले गया और वे मोहनदास से साबरमती के संत बन गए. पर ये नए भारत की सियासत है. इसमें नेता जन सेवा के लिए तनाव झेलने को भी तैयार है.

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X

Loksabha Results

PartyLWT
BJP+3400340
CONG+88088
OTH1100110

Arunachal Pradesh

PartyLWT
BJP13013
CONG000
OTH202

Sikkim

PartyLWT
SDF606
SKM505
OTH000

Odisha

PartyLWT
BJD72072
BJP21021
OTH909

Andhra Pradesh

PartyLWT
YSRCP1490149
TDP25025
OTH101

-
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more