...

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
मौलाना जावेद ने गत बुधवार को पंजाब के मालेर कोटला स्थितमदरसे के मुफ्ती फुजैलउर्रहमान हिलाल उस्मानी द्वारा जारी किये गएफतवे को जायज और वक्त के तकाजे के हिसाब से दिया फतवा करारदिया1 इस फतवे में मुफ्ती फुजैलउर्रहमान ने कहा था कि आतंकवादघृणित अपराध है जिसकी इस्लाम धर्म में कल्पना भी नहीं की गई है

उन्होंने फतवे में कहा है कि इस्लाम में जिस जेहाद की बात की गई हैउसका अर्थ बुराई के खिलाफ जंग करना है

मौलाना अब्दुल्ला जावेद ने कहा कि मजहबएइस्लाम में किसीनिदोष के कत्ल को समूची मानवता की हत्या करार दिया गया है

इस्लाम में जेहाद बिना किसी लालच के अल्लाह की राह में जंग का वहअंतिम पड़ाव है जिसमें जेहाद करने वाला नेक इरादे से अपनी जानकुर्बान करने के लिये खुद को आगे बढ़ाता है1 इसका मकसद पीड़ितोंऔर कमजोर लोगों को जालिमों की गुलामी से निकालना और उन्हेंउनके अधिकार दिलाना है

इस बीच ् दाल उलूम देवबंद के जनसम्पर्क अधिकारी आदिलसिद्दीकी ने आज ैयूनीवार्ता ै को बताया कि पंजाब के मालेर कोटलास्थित मदरसे के मुफ्ती फुजैलउर्रहमान हिलाल उस्मानी का इस संस्था सेकोई वास्ता नहीं है और उनके फतवे को दाल उलूम देवबंद काफतवा नहीं माना जाए

संवाद सुमन लखमी1918वार्ता.

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.