पाक चुनावों की निगरानी का कोई अर्थ नहीं: हिना जिलानी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

Hina Jilaniवाशिंगटन 15 दिसंबर: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकारों की विशेष प्रतिनिधि हिना जिलानी ने अमेरिका से आग्रह किया है कि वे अपने पर्यवेक्षकों को पाकिस्तान में आगामी 8 जनवरी को होने जा रहे चुनावों का निरीक्षण करने की अनुमति न दें क्योंकि यह चुनाव पहने ही पहले ही सुनियोजित ढंग से की गई छेड़छाड़ का शिकार बन चुके हैं.

एक भेंटवार्ता में उन्होंने कहा 'चुनावों का निरीक्षण करने या उन पर नजर रखने का कोई भी लाभ नहीं है, क्योंकि छेड़छाड़ पहले ही की जा चुकी है. विधान की स्वतंत्रता तथा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पहले ही छीनी जा चुकी है. ऐसे में आगामी 8 जनवरी को होने जा रहे चुनावों की प्रामाणिकता बेहद कम हो चुकी है.'

जिलानी, जोकि एक महत्वपूर्ण पाकिस्तानी अधिवक्ता हैं, से विधिनिर्धारकों द्वारा पाकिस्तान में होने जा रहे चुनावों की निगरानी पर उनकी राय पूछे जाने पर उन्होंने उक्त विचार व्यक्त किये.

उन्होंने कहा 'पाकिस्तान के संविधान तथा कानून के मुताबिक न्यायपालिका ही चुनावों पर निगाह रखती है. जब न्यायपालिका को ही प्रामाणिकता तथा लोगों का विश्वास हासिल न हो तो आप कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि चुनाव प्रामाणिक होंगे ?'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.