राहुल पर टिकी उम्मीदें

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
अमेठी.सुलतानपुर.14 दिसम्बर .वार्ता. उत्तर प्रदेश के अमेठी कोऔद्योगिक क्षेत्र का दर्जा दिलाने का पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीवगांधी का सपना साकार होने की उम्मीद अब उनके पुत्र व क्षेत्रीय सांसदराहुल गांधी तथा राज्य सरकार के बीच अपेक्षित सहयोग नहीं होने कीवजह से एक बार फिर धूमिल होती नजर आ रही है

करीब दो दशक पूर्व स्व.राजीव गांधी यहां से सांसद और प्रधानमंत्रीबनने के बाद अमेठी को एक औद्योगिक नगरी के रुप में स्थापित करविकसित करना चाहते थे जिसके लिए उनके प्रधानमंत्रित्व काल मेंक्षेत्र में इण्डोगल्फ फर्टिलाइजर्स. भारत हैवी इलेक्टि्रकल्स लिमिटेड.भेल. एग्रो पेपर मिल और आरिफ सीमेन्ट फैक्ट्री समेत लगभग पांच सौऔद्योगिक इकाइयों की स्थापना हुई थी1 इस समय इण्डोगल्फ. भेल व एग्रो पेपर मिल ही अपना अस्तित्वबचाये रख सकी हैं जबकि इस क्षेत्र से करीब 425 छोटे बडे उद्योग बन्दहो चुके हैं तथा उनमें स्थापित अरबों पए मूल्य की मशीनें जंग खा रहीहैं1 कई कारखानों की इमारते खण्डहर में तब्दील हो चुकी है1 औद्योगिकइकाइयों के बंद हो जाने से क्षेत्र के हजारों लोग बेरोजगार हो गए1खेतिहर जमीन के साथ इलाके के किसानों के रोजगार का साधन भी खत्म हो गया1 सं.शिव नंद131

जारी वार्ता

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.