दोहरा मिसाइल रक्षा कवच परीक्षण जल्द

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

Missile-trialनई दिल्ली, 13 दिसम्बरः वायु मंडल से ऊपर और वायु मंडल के भीतर "दुश्मन की मिसाइल" को मारने का लक्ष्य हासिल करने के बाद भारत ने एक साथ दो मिसाइलों के वार से आक्रमणकारी मिसाइल को नेस्तनाबूद करने का परीक्षण करने की आज घोषणा की.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन "डीआरडीओ" के चीफ कंट्रोलर एवं एयर डिफेंस कार्यक्रम निदेशक डॉ वी के सारस्वत ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में घोषणा की कि 50 मीटर से ऊपर "एक्सो एटमोस्फेरिक" और पृथ्वी से 15 किलोमीटर ऊपर "एंडो एटमोस्फेरिक" मिसाइल प्रतिरोधी परीक्षण जून 2008 में किया जाएगा.

इसमें "दुश्मन की मिसाइल" को पहले वायु मंडल के ऊपर एक मिसाइल टकरा कर नष्ट करेगी और उसके सबसे बड़े टुकड़े को धरती से करीब 15 किलोमीटर की ऊंचाई पर दूसरी मिसाइल पूरी तरह तबाह करेगी.

भारत ने पांच हजार किलोमीटर से अधिक रेंज वाली मिसाइल अग्नि 4 के विकास पर भी काम शुरू कर दिया है और इसका पहला परीक्षण दो साल के भीतर किए जाने की सम्भावना है.

उच्च पदस्थ रक्षा सूत्रों ने बताया कि अग्नि 4 का परीक्षण 2010 तक सम्भव है. सूत्रों ने कहा कि 3000 से अधिक किलोमीटर रेंज वाली अग्नि3 मिसाइल का एक और परीक्षण अगले दो माह के भीतर किया जाएगा.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन "डीआरडीओ" के चीफ कंट्रोलर और एयर डिफेंस कार्यक्रम निदेशक डॉ वी के सारस्वत ने आज यहां अग्नि 4 के परीक्षण के बारे में कोई कयास लगाने से तो इन्कार कर दिया लेकिन उन्होंने माना कि इस मिसाइल का डिजाइन तैयार किया जा रहा है.

अग्नि तीन के परीक्षण के बारे में पूछने पर डॉ सारस्वत ने कहा कि इसके कुछ और परीक्षण करने हैं. उन्होंने कहा कि मिसाइल की विश्वसनीयता के लिए इस तरह के परीक्षण अनिवार्य हैं. उन्होंने कहा कि अग्नि 4 अभी अनावरण के चरण में है और डिजाइन के स्तर पर है. ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता कि मिसाइल का पहला परीक्षण कब होगा.

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.