• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Final Year Exam: अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा होंगी या नहीं, बुधवार को फैसला सुना सकता है सुप्रीम कोर्ट

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की 6 जुलाई को जारी गाइडलाइंस को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला जल्द आने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अपना फैसला बुधवार तक सुना सकता है। इस बात की जानकारी वरिष्ठ अधिवक्ता अलख आलोक श्रीवास्तव ने दी है। उन्होंने कहा कि मामले में कोर्ट ने आज फैसला नहीं सुनाया है, इसलिए अब 25 अगस्त तक फैसला सुनाया जा सकता है। बता दें यूजीसी की गाइडलाइंस को चुनौती देने वाली याचिकाओं में कोविड-19 महामारी को देखते हुए अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा रद्द करने की मांग की गई है।

supreme court, ugc, exams, ugc guidelines 2020, ugc on exams, ugc final year exams, final year exams, ugc guidelines for exams, ugc guidelines for examination, ugc guidelines for examination 2020, ugc final year exam, ugc news on exams, ugc guidelines for university exams, ugc guidelines for university exams 2020, ugc guidelines today, ugc guidelines for exam 2020, ugc on university exams, final year exam news, ugc final year exam news, ugc on final year exams, UGC Guidelines 2020 in Hindi, Supreme Court Decision on UGC Guidelines, UGC Guidelines News Today, SC Verdict on UGC Guidelines in Hindi, Supreme Court Judgement on UGC Guidelines, सुप्रीम कोर्ट, यूजीसी, फाइनल ईयर परीक्षा 2020, फाइनल ईयर परीक्षा, परीक्षा

दरअसल यूजीसी ने अपनी संशोधित गाइडलाइंस में देशभर के सभी विश्विद्यालयों से कहा है कि 30 सितंबर से पहले परीक्षाओं का आयोजन हो जाना चाहिए। जबकि छात्रों का कहना है कि फाइनल ईयर की परीक्षाओं को रद्द करने के बाद छात्रों का रिजल्ट पूर्व के प्रदर्शन के आधार पर जारी होना चाहिए। इस मामले में सुनवाई 18 अगस्त को पूरी हो गई थी और फैसले को सुरक्षित रख लिया गया था। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ती अशोक भूषण, न्यायमूर्ती आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ती एम आर शाह की बेंच ने की है। पिछली सुनवाई में कोर्ट ने सभी पक्षों से अंतिम दलीलें सौंपने को कहा था और इसके लिए तीन दिन का समय दिया गया था।

18 अगस्त की सुनवाई में महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और ओडिशा राज्यों की दलीलों को सुना गया था। इन राज्यों ने परीक्षाओं को रद्द करने का फैसला लिया था। लेकिन यूजीसी का कहना है कि परीक्षाओं को रद्द करने का अधिकार केवल यूजीसी के पास है। इससे पहले यूजीसी ने भी सुप्रीम कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया था। जिसमें उसने कहा था कि फाइनल ईयर की परीक्षाएं 30 सितंबर तक छात्रों का भविष्य संभालने के उद्देश्य से आयोजित कराने का फैसला लिया गया है। ताकि उन्हें आगे की पढ़ाई में परेशानी ना आए।

यूजीसी ने अपने जवाब में राज्य सरकारों के साथ साथ याचिकाकर्ताओं की चिंताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि टर्मिनल वर्ष के दौरान अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए परीक्षाएं आयोजित करके उनके द्वारा किए गए 'विशेष इलेक्टिव पाठ्यक्रमों' के अध्ययन का परीक्षण जरूरी है। बता दें कोर्ट में छात्रों का पक्ष वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी रख रहे हैं। इसी से संबंधित एक अन्य मामले में छात्रों का पक्ष वरिष्ठ वकील श्याम दीवान रख रहे हैं।

ESIC Recruitment 2020: जूनियर और सीनियर रेजिडेंट सहित कई पदों पर भर्ती, जानिए डिटेल

English summary
Final Year Exam 2020 supreme court verdict may come soon know updates
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X