• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Fact check:क्या गाय का मजाक उड़ाने के चलते अरेस्ट किए गए जर्नालिस्ट और कार्यकर्ता? जानें सच

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, जुलाई 10: एक समाचार रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में दो लोगों को यह कहने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है कि गोमूत्र और गोबर से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता है। मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट में कहा गया है कि राजनेताओं की शिकायत के बाद दोनों को 45 दिनों से बंद रखा गया है। कार्यकर्ता इरेंद्रो लेचोम्बम और पत्रकार किशोरचंद्र को यह कहने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था कि गाय का मलमूत्र कोरोना का इलाज नहीं कर सकता है।

    Fact Check: क्या गाय का मजाक उड़ाने पर Journalist और Activist हुए अरेस्ट ? | वनइंडिया हिंदी
    fact check two men were arrested in India for saying cow urine and cow dung do not cure coronavirus

    इस इलाज का समर्थन करने वाले एक राजनीतिक सदस्य द्वारा पुलिस में शिकायत किए जाने के बाद उन्हें अनिश्चित काल के लिए जेल में डाल दिया गया है। सरकार ने कहा कि यह झूठा दावा है। प्रेस सूचना ब्यूरो ने स्पष्ट किया कि रिपोर्ट भ्रामक है और दोनों को विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उन्हें विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए के तहत गिरफ्तार किया गया था

    लीचोम्बम और पत्रकार किशोर चंद्र वांगखेम को पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था। लीचोम्बम ने एक फेसबुक पोस्ट में बीजेपी के नेता के निधन के बाद लिखा था कि, 'गोबर और गोमूत्र से कोरोना का इलाज नहीं होता है। विज्ञान से ही इलाज संभव है और यह कॉमन सेंस की बात है। प्रोफेसर जी RIP।

    Fact Check: क्या वायरल वीडियो में फुटबॉलर रोनाल्डो मस्जिद में कुरान पढ़ रहे हैं? जानें सचFact Check: क्या वायरल वीडियो में फुटबॉलर रोनाल्डो मस्जिद में कुरान पढ़ रहे हैं? जानें सच

    इस पोस्ट के बाद बीजेपी के नेताओं की शिकायत पर उन्हें और एक पत्रकार किशोर चंद्र वांगखेम को गिरफ्तार कर लिया गया था। इरेंद्रो की तरफ से कहा गया कि ये पोस्ट ऐसे तर्कों की आलोचना करना था जो गोमूत्र और गोबर से कोरोना के इलाज का दावा करते हैं। इस मामले में मणिपुर बीजेपी के उपाध्यक्ष उषाम देबान और महासचिव पी प्रेमानंदा मिताई की शिकायत पर पुलिस ने दोनों को 13 मई की रात को गिरफ्तार कर लिया।

    Fact Check

    दावा

    भारत में दो लोगों को यह कहने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है कि गोमूत्र और गोबर से कोरोना वायरस ठीक नहीं होता है।

    नतीजा

    सरकार ने कहा कि यह झूठा दावा है। प्रेस सूचना ब्यूरो ने स्पष्ट किया कि रिपोर्ट भ्रामक है और दोनों को विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

    Rating

    False
    फैक्ट चेक करने के लिए हमें factcheck@one.in पर मेल करें

    English summary
    fact check two men were arrested in India for saying cow urine and cow dung do not cure coronavirus
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X