• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Fact Check:क्या सरकार रिकॉर्ड कर रही है आपकी WhatsApp कॉल-मैसेज, 3 रेड टिक का क्या है मतलब, जानें सच

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 28 मई: इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप को लेकर एक के बाद एक फेक न्यूज सामने आ रही है। व्हाट्सएप पर फेक न्यूज फैलाकर और शेयर कर ये दावा किया जा रहा है कि मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप ने नया टिक सिस्टम पेश किया है। जिसमें एक रेड टिक और तीन रेड टिक और दो ब्लू टिक को लेकर दावे किए जा रहे हैं। दावा किया गया है कि "दो ब्लू टिक और एक रेड टिक का मतलब है, सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है, जबकि तीन रेड टिक का मतलब होगा कि सरकार ने आपके खिलाफ अदालती कार्यवाही शुरू कर दी है। तीन ब्लू टिक का मतलब है कि सरकार ने नोट ले लिया है। एक ब्लू और दो रेड टिक का मतलब है कि सरकार आपके डाटा को स्क्रीन कर रही है।'' ये भी दावा किया जा रहा है कि सरकार आपकी व्हाट्सएप कॉल और मैसेज को रिकॉर्ड कर रही है। आपको ऐसे मैसेज से घबराने की जरूरत नहीं है, ये एक फेक और गलत खबर है।

    Fact Check: WhatsApp पर 3 Red Ticks को लेकर किया गया दावा सही है? | वनइंडिया हिंदी

    WhatsApp

    WhatsApp को लेकर और क्या-क्या दावे किए जा रहे हैं?

    -यह फेक मैसेज व्हाट्सएप पर लोगों को ''फारवर्ड मेनी टाइम्स'' लेबल के साथ मिल रहा है। जिसमें दावा किया जा रहा है 26 मई के बाद नए आईटी नियन लागू होने बाद व्हाट्सएप ने नए कम्युनिकेशन नियमों को लागू किया है।

    -मैसेज में दावा किया जा रहा है कि व्हाट्सएप के नए नियमों के तहत सरकार सभी कॉल रिकॉर्ड करेगी और सोशल मीडिया अकाउंट्स पर भी भारत सरकार की नजर होगी। कहा जा रहा है कि अगर कोई भी व्हाट्सएप यूजर कोई गलत जानकारी शेयर करता है या सरकार, किसी धार्मिक मुद्दे पर गलत बोलता है, तो उसकी गिरफ्तारी भी हो सकती है।

    - दावा ये भी किया जा रहा है कि व्हाट्सएप यूजर के डिवाइस (फोन या लैपटॉप) आईटी मंत्रालय प्रणाली से जुड़ी होंगी। इसको लेकर ही व्हाट्सएप ने एक न्यू टिक सिस्सट लागू किया है, जो यूजर्स को ये बताएगा कि सरकार उसके व्हाट्सएप पर नजर रख रही है या नहीं।

    जानकर ऐसे समय साझा किए जा रहे हैं फेक न्यूज

    ये फेक मैसजे का दावा ऐसे समय में शेयर किया जा रहा है जब फेसबुक के स्वामित्व वाला ऐप व्हाट्सएप भारत सरकार के नए आईटी नियमों को लेकर कोर्ट में गया है। जिसमें एक ट्रेसबिलिटी क्लॉज शामिल है। जबकि ट्रेसबिलिटी नियमों को चुनौती दी जा रही है। ऐसे में आप सभी व्हाट्सएप यूजर को ये बात ध्यान देना चाहिए कि व्हाट्सएप एक निजी और एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड है, जिसका मतलब होता है कि कोई भी तीसरा पक्ष आपके मैसेज और कॉल के बारे में नहीं जान सकता है। चाहे वो फिर व्हाट्सएप या सरकार ही क्यों ना हो।

    ये भी पढ़ें- सरकार की नई नीतियों के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा- यूजर्स की प्राइवेसी खतरे मेंये भी पढ़ें- सरकार की नई नीतियों के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp, कहा- यूजर्स की प्राइवेसी खतरे में

    जानें व्हाट्सएप को लेकर किए जा रहे इन दावों का सच

    व्हाट्सएप पर तेजी से शेयर किए जा रहे इस फेक न्यूज को लेकर भारत सरकार लोगों को सच बताया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि सरकार इस तरह किसी के भी मैसेज और कॉल की रिकॉर्डिंग नहीं कर रही है। पीआईबी फैक्ट चेक ने यूजर्स को चेतावनी देते हुए इसका फैक्ट चेक कर इन दावों को गलत कहा है।

    पीआईबी फैक्ट चेक ने ट्वीट किया, ''एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार द्वारा अब 'नए संचार नियम' के तहत सोशल मीडिया और फोन कॉल की निगरानी रखी जाएगी। जबकि यह दावा फर्जी है। भारत सरकार द्वारा ऐसा कोई नियम लागू नहीं किया गया है। ऐसे किसी भी फर्जी और अस्पष्ट सूचना को फॉरवर्ड ना करें।''

    Fact Check

    दावा

    दावा- सरकार आपकी व्हाट्सएप कॉल और मैसेज को रिकॉर्ड कर रही है।

    नतीजा

    सच- ये दावा फर्जी है। ऐसे मैसेज से घबराने की जरूरत नहीं है, ये एक फेक और गलत खबर है।

    Rating

    False
    फैक्ट चेक करने के लिए हमें factcheck@one.in पर मेल करें

    English summary
    Fact Check: No government is not recording your WhatsApp calls, messages truth behind Three red ticks on WhatsApp
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X