• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Fact Check:10 सेकंड सांस रोकने वाले कोरोना से हो जाएंगे मुक्त? जानें सच्चाई?

|
Google Oneindia News

नयी दिल्ली, 25 अप्रैल: कोरोना महामारी के इस विकट समय में सोशल मीडिया कोविड से बचाव, इलाज और टेस्‍ट से संबंधित कई जानकारियां तेजी से वायरल हो रही है। इन्‍हीं मैसेज में एक संदेश है जिसमें ये दावा किया जा रहा है कि अगर आप 10 सेकंड तक अपनी सांस रोक सकते हैं, वो भी बिना किसी दिल्‍कत के उन्हें यह आश्वासन दिया जा सकता है कि उन्हें कोरोनोवायरस संक्रमण नहीं है। आइए जानते है कि अपने द्वारा किया जाने वाले ऐसे कोरोना टेस्‍ट की सच्‍चाई क्या है?

जानें इस दावे की सच्‍चाई

जानें इस दावे की सच्‍चाई

विशेषज्ञों के अनुसार, यह दावा केवल एक मिथक है जो संक्रमित लोगों को भ्रमित कर सकता है। वास्तव में, आपकी सांस को रोकने का कोरोनावायरस से कोई लेना-देना नहीं है और यह वायरस के लिए खुद की जांच करने का कोई तरीका नहीं है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने किया सचेत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने किया सचेत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने कहा, "गलत या अधूरी जानकारी मरीज के इलाज में देरी होने से बड़ी चूक करवा सकती है। किसी भी COVID19 लक्षणों के मामले में चिकित्‍सक की सलाह लें और जांच तुरंत जांच करवाएं।

ये मैसेज हो रहा वायरल

ये मैसेज हो रहा वायरल

10 सेकेंड तक अपनी सांस रोककर कोरोनोवायरस के लिए स्‍वत: टेस्‍ट करने का तरीका लोगों को ईमेल, मैसेज और सोशल मीडिया के माध्यम से साझा किया जा रहा है। कि अगर आप 10 सेकेंड तक बिना किसी दिक्‍कत के अपनी सांस को रोक सकते हैं तो आप कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है।

पिछले साल ही स्‍टैनफोड्र विवि ने स्‍टडी में इसे बताया था Fake कोरोना टेस्‍ट

पिछले साल ही स्‍टैनफोड्र विवि ने स्‍टडी में इसे बताया था Fake कोरोना टेस्‍ट

पिछले साल मार्च में, इसी तरह के पोस्ट ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के अध्ययन में इसे गलत बताया था। पोस्ट में यह भी कहा गया है कि जब तक मरीज अस्पताल पहुंचता है, तब तक कोरोनवायरस 50% फाइब्रोसिस का कारण बनता है। स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने ट्वीट किया, "COVID-19 लक्षणों के बारे में गलत जानकारी और स्टैनफोर्ड को दिए गए झूठे व्यवहार और उपचार सोशल मीडिया और ईमेल फॉरवर्ड में प्रसारित हो रहे हैं।


इस लिंक पर देखें वायरल मैसेज

https://hindi.oneindia.com/photos/big-news-of-april-26-oi61249.html

Fact Check

दावा

असुविधा के बिना 10 सेकंड के लिए सांस लेने में सक्षम होने का मतलब है कि आप COVID-19 से संक्रमित नहीं है।

नतीजा

यह प्रामाणिक पैरामीटर नहीं है। किसी COVID19 लक्षणों के मामले में डॉक्टर की सलाह लें और जांच करवाएं।

Rating

False
फैक्ट चेक करने के लिए हमें factcheck@one.in पर मेल करें

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X