• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्‍या 5G नेटवर्क टेस्‍टिंग से फैल रहा है जानलेवा Coronavirus? जानिए वायरल हो रहे मैसेज की सच्‍चाई

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना की दूसरी लहर ने मौत का तांडव मचा रखा है। एक तरफ जहां संक्रमित मरीजों की संख्‍या रिकॉर्ड तोड़ रही है वहीं मृतकों की संख्‍या में भी लगातार इजाफे हो रहे हैं। इस दौरान अफवाहों का बाजार भी गर्म है जिसने हालात को और भी विकट कर दिया है। सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे पोस्‍ट वायरल हो रहे हैं जिनमें ये दावा किया जा रहा है कि कोरोना की दूसरी लहर का कारण 5जी मोबाइल टावरों की टेस्‍टिंग है। अब संचार मंत्रालय की तरफ से आने वाले दूरसंचार विभाग ने इसे लेकर स्‍पष्‍टीकरण दिया है। दूरसंचार मंत्रालय ने कहा है कि वायरल हो रहे ऐसे मैसेज पूरी तरह गलत हैं।

    Fact Check: क्या 5G Network Testing की वजह से फैल रहा जानलेवा Corona| वनइंडिया हिंदी

    क्‍या 5G नेटवर्क टेस्‍टिंग से फैल रहा है जानलेवा Coronavirus? जानिए वायरल हो रहे मैसेज की सच्‍चाई

    विभाग की तरफ से कहा गया है कि इस बात का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि 5जी टेक्नोलॉजी का कोरोना महामारी से कोई संबंध है। इसके अलावा भारत में 5जी टेस्टिंग शुरू भी नहीं हुई है, ऐसे में ये बातें तथ्यहीन हैं कि भारत में कोरोना संक्रमण 5जी ट्रायल की वजह से फैल रहा है। ध्‍यान देने वाली बात ये है कि रेडियो फ्रीक्‍वेंसी फील्‍ड के लिए जो मानक निर्धारित किए गए हैं उससे आम इंसान को नुकसान नहीं होगा। ये मानक इंटरनेशनल कमीशन ऑन नॉन-आयोनाइजिंग रेडिएशन प्रोटेक्शन (आईसीएनआईआरपी) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की ओर से तय की गई है।

    आपको बता दें कि वायरल पोस्‍ट में ये कहा जा रहा है कि रेडिएशन की वजह से घर में हर जगह करंट लगता है। इतना ही नहीं गला सामान्‍य से ज्‍यादा सुखता है। पोस्‍ट में कहा गया है कि 5जी टेस्‍टिंग पर रोक लगा दी जाए तो ही बेहतर होगा। आपको बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति की सांस की बूंदों से फैलता है जब वह छींकता है, बात करता है या थूकता है। इसके अलावा यदि किसी सतह पर संक्रमित इंसान की सांस की बूंदें गिरी हैं तो उसे छूने और फिर नाक, मुंह और आंख छूने से कोरोना फैलता है।

    Fact Check: चाय पीने से नहीं होता कोरोना संक्रमण! जानें वायरल पोस्ट की सच्चाईFact Check: चाय पीने से नहीं होता कोरोना संक्रमण! जानें वायरल पोस्ट की सच्चाई

    Fact Check

    दावा

    False

    नतीजा

    It has come to notice of Department of Telecommunications (DoT) that several misleading messages are being circulated on various social media platforms claiming that the second wave of coronavirus has

    Rating

    False
    फैक्ट चेक करने के लिए हमें factcheck@one.in पर मेल करें

    English summary
    Fact Check: 5G Testing is not the cause for the second wave of coronavirus in India
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X