• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

महाशिवरात्रि विशेष: जानिए पूजा का समय और शिव के 10 अवतारों के बारे में विस्तार से

By Anuj Kumar Shukla
|

पं0 अनुज के शुक्ल। जाग्रति व साधना की महाशिवरात्रि इस बार 04 मार्च दिन सोमवार को पड़ रही है। इस बार की महाशिवरात्रि विशेष फलदायक रहेगी। चॅूकि 04 मार्च को दिन सोमवार है व श्रवण नक्षत्र रहेगा। दिन सोमवार के अधिष्ठाता है चन्द्रमा है और श्रवण नक्षत्र भी चन्द्रमा के अधिकार क्षेत्र में आता है। चन्द्रमा मन का कारक व भगवान शिव के मस्तक पर विराजमान है। अतः जो भी भक्त पूरी श्रद्धा व विश्वास के साथ भगवान शिव की आराधना करेंगे, उन्हें अवश्य मानसिक शक्ति, मानसिक शान्ति व समृद्धि प्राप्त होगी। आईये इसी शुभ अवसर पर जानते हैं भगवान शिव के बारे में विशेष जानकारी। शिवरात्रि के दिन शिव और पार्वती का विवाह हुआ था। यानि आकाश और पृथ्वी का मिलन, शिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव का अंश प्रत्येक शिव लिंग में रात्रि-दिन रहता है। शिवपुराण के अनुसार सृष्टि के निर्माण के समय महाशिवरात्रि की मध्यरात्रि में शिव अपने रूद्र रूप में प्रकट हुये थे। महाशिवरात्रि के दिन मानव शरीर में प्राकृतिक रूप से उर्जा ऊपर की ओर चढ़ती है।

कल्याणकारी शिव के 10 अवतार

कल्याणकारी शिव के 10 अवतार

शक्ति और साधना के प्रतीक शिव के 28 अवतारों का उल्लेख पुराणों में मिलता है, किन्तु उनमें से 10 अवतारों की प्रमुखता से चर्चा होती है। जो निम्न प्रकार से है-

1- महाकाल- शिव का पहला अवतार महाकाल को माना जाता है। इस अवतार की शक्ति माॅ काली है। उज्जैन में महाकाल नाम से ज्योतिर्लिंग प्रसिद्ध है।

2- तारा- शिव का दूसरा अवतार तारा नाम से प्रसिद्ध है। इस अवतार शक्ति की तारा देवी मानी जाती है। यह स्थान पश्चिम बंगाल के बीरभूमि में द्वारिका नदी के पास महाशमशान में स्थित है।

3- बाल भुवनेश्वर- दस महाविद्या में से एक माता भुवनेश्वरी की शक्ति पीठ उत्तरांचल में स्थित है जो शिव के तीसरे अवतार के रूप में प्रसद्धि है।

शिव के 10 रूप

शिव के 10 रूप

4- षोडेश श्री विद्येश- दस महाविद्याओं में तीसरी महाविद्या भगवती षोडशी है, जो त्रिपुरा के उदयपुर के निकट राधाकिशोरपुर गाॅव के माताबाढ़ी पर्वत शिखर पर माता का दाॅया पैर गिरा था। यह स्थान शिव के चैथे अवतार के रूप में प्रसिद्ध है।

5- भैरव- शिव का पाॅचवां रूद्रावतार भैरव सबसे अधिक विख्यात है। जिन्हे काल भैरव कहा जाता है। उज्जैन की शिप्रा नदी तट स्थित भैरव पर्वत पर माॅ भैरवी शक्ति के नाम से प्रचलित है। यहाॅ पर माॅ के ओंठ गिरे थे।

शिव का पीताम्बर स्वरूप

शिव का पीताम्बर स्वरूप

6- छिन्नमस्तक- छिन्नमस्तिका मन्दिर तांत्रिक पीठ के नाम से

विख्यात है। यह झारखण्ड की राजधानी राॅची से 75 किमी दूर रामगढ़ में स्थित है। रूद्र का छठा अवतार छिन्नमस्तक नाम से प्रसिद्ध है।

7- द्यूमवान- धूमावती मन्दिर मध्य प्रदेश के दतिया जिले में स्थित प्रसद्धि शक्ति पीठ पीताम्बरा पीठ के प्रागंण में स्थित है। पूरे भारत में धूमावती के नाम से एकमात्र मन्दिर है। यह शक्ति पीठ रूद्र के सातवें अवतार के रूप में प्रसद्धि है।

बगुलामुखी शिव

बगुलामुखी शिव

8- बगुलामुखी- दस महाविद्याओं में से बगलामुखी के तीन प्रसिद्ध शक्ति पीठ है। 1- हिमाचल में कांगड़ा में बगलामुखी मन्दिर। 2- मध्यप्रदेश के दतिया जिले में बगलामुखी मन्दिर। 3- मध्य प्रदेश के शाजापुर में स्थित बगलामुखी मन्दिर। शिव का आठवा रूद्र अवतार बगलामुख नाम से प्रचलित है।

शिव का मातंग रूप

शिव का मातंग रूप

9- मातंग- शिव के नौंवे अवतार के रूप में मातंग प्रसिद्ध है। मातंगी देवी अर्थात राजमाता दस महाविद्याओं के देवी है और मोहकपुर की मुख्य अधिष्ठा है।

10- कमल- शिव का दसवां अवतार कमल नाम से प्रसद्धि है। इस अवतार की शक्ति माॅ कमला देवी है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Mahashivratri Vishesh: Date, Time, Significance and Shiva 10 Avatar
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X