करवा चौथ: निर्जला रहने पर भी चांद की तरह दमकती हैं स्त्रियां

By: डॉ. हंसा वैष्णव
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। आखिर कुछ तो है करवा चौथ के व्रत में जिसमें निर्जला रहने के बाद भी न तो महिलाओं के उत्साह में कोई कमी दिखलाई देती है न ही उनके चेहरे की रौनक गायब होती है और तो और उनका चेहरा चांद की तरह चमकता दिखता है।

करवाचौथ 2016: कहां-कहां कितने बजे दिखेगा चांद?

शायद इसके पीछे कारण है वो प्यार,सर्मपण और त्याग, जिसके दम पर महिलायें उपवास में एकदम तरो -ताजा दिखलाई देती हैं। करवा चौथ के पर्व को वैसे तो देश के पंजाब,उत्तर प्रदेश एवं मध्यप्रदेश का मुख्य त्यौहार मनाया जाता है परन्तु पिछले कुछ बर्षों से सारे देश में महिलायें अति उत्साह के साथ इसे मनाती हैं।

इस साल का करवाचौथ है दिव्य और चमत्कारी, 100 साल बाद महासंयोग

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाये जाने वाले उक्त त्यौहार में सुहागिन महिलायें अपने पति के जीवन के रक्षार्थ, दीर्घायु एवं सुखी जीवन की कामना करते हुये संध्या के समय गौधूली बेला में अर्थात् चन्द्रोदय के पूर्व पूर्ण विधिविधान के साथ प्रथम पू'य भगवान श्री गणेश एवं गौरी,शिव पार्वती तथा चौथ की मुख्य देवी अम्बिका का पूजनार्चन करती हैं।

इस करवाचौथ पर करें..16 श्रृंगार...जानिए महत्व और खास बातें...

पौराणिक कथाओं मे भगवान शिव एवं पार्वती को एक आर्दश युगल बतलाया गया है। करवा चौथ में प्रयोग होने वाले प्रमुख पात्र को करवा कहते हैं। जो प्राय:मिट्टी के कलश नुमा एक लघु घट के समान होता है इसमें सिर्फ एक लम्बी नलकी लगी होती है । कुछ क्षेत्रों में तांबे,पीतल एवं चांदी के घट का प्रयोग भी महिलायें करती हैं परन्तु इनकी संख्या कम है।

करवाचौथ में क्यों होती है चंद्रमा की पूजा?

चन्द्रमा भगवान शिव के मस्तक पर शोभित रहता है इसी कारण उसे अर्क देने का विधान बतलाया गया है। दिन भर व्रत के साथ उक्त पूजन सम्पन्न करने के पश्चात् महिलाएं चांद का पूजन कर उसे करवा से अर्क देते हुये उसे चलनी से निहारने के साथ-साथ पति को निहारती है।

करवाचौथ: हाथों में पूजा की थाली... आई रात सुहागों वाली...

पूजन के साथ वह भगवान भालचंद्र से सुखमय जीवन,पति-प्रेम पारिवारिक सुख समृद्धि एवं पति के उज्जवल भविष्य के साथ लंबी उम्र के लिये प्रार्थना करती है। फिर पति के हाथ से जल का सेवन कर अपना व्रत तोडती है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Karva Chauth festival is just the round the corner! Yes, time and like every year, wives all over are getting excited about the festival.
Please Wait while comments are loading...