Ganesh Chaturthi 2018 : जानिए विनायक को क्‍यों लगाया जाता है मोदक का भोग?


Ganesh Chaturthi: जानें भगवान गणेश को क्‍यों लगाया जाता है मोदक का भोग? | गणेश चतुर्थी | Boldsky

नई दिल्ली। 13 सितंबर को गणेश चतुर्थी है,, बुद्धि, ज्ञान और विघ्नविनाशक के रूप में पूजे जाने वाले श्री गणेश जी के स्वागत के लिए इस समय उनके भक्तगण पूरी तरह से तैयार हैं। गणेश जी बेहद मोहिल, बुद्दिमान और ऊर्जवान माने जाते हैं और इसी वजह से इनकी पूजा करने वालों को भी ये गुण हासिल होते हैं। गणेश जी को मिष्ठान पसंद है और इसी वजह से उन्हें मोदक, लड्डू और मालपुए का भोग लगता है लेकिन गणेश चतुर्थी पर खास करके मोदक चढ़ता है, जिसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण भी है।

मोदक का अर्थ होता है 'खुशी'

दरअसल पुराणों में वर्णन है कि मोदक का अर्थ होता है 'खुशी' और गणेश जी बहुत खुश रहने वाले और विनोद प्रिय माने जाते हैं और इसी वजह से उन्हें मोदक का भोग लगाया जाता है, जिससे कि वो खुश रहें और उनकी कृपा भक्तों पर बरसे।

यह भी पढ़ें:Ganesh Chaturthi 2018 : जानिए कैसे जन्म हुआ था गणपति बप्पा का?

गणेश जी का प्रिय भोजन

वैसे इस बारे में एक कथा भी प्रचलित है, कहा जाता है कि एक बार गणेश जी, भगवान परशुराम से, युद्ध कर रहे थे और तभी उनका एक दांत टूट गया था,जिसके बाद से उन्‍हें कुछ भी खाने में परेशानी होने लगी। तभी उनके लिए मोदक तेयार किया गया जिसे आराम से खाया जा सकता था, जो स्वाद में मीठा था, जिसे खाने के बाद मन और तन दोनों प्रसन्न रहते थे तभी से ही ये गणेश जी का प्रिय भोजन बन गया। त

वैसे मोदक केवल एक मिठाई नहीं...

वैसे मोदक केवल एक मिठाई नहीं है बल्कि ये हमें ज्ञान का पाठ भी पढ़ाता है, दरअसल घर का मुख्य व्यक्ति मोदक की तरह ऊपर से सख्त होता है क्योंकि उसकी सख्ती घर तो एकता के सू्त्र में पिरोए रहती है, जबकि उसके मन में हर किसी के प्रति मिठास होती है, जो उसे जानने वाले ही समझ सकते हैं।

यह पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2018: जानिए बप्पा को क्यों कहते हैं गणपति?

Have a great day!
Read more...

English Summary

Happy Ganesh Chaturthi 2018! Our celebrations on Ganesh Chaturthi 2018 won't be complete without a plateful of Lord Ganpati's favourite modaks.