राजद से लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप को किया गया किनारे, कौन है इसके पीछे मास्टरमांइड?


Tejpratap Yadav - Tejashwi के बीच दरार, RJD Meetings में हिस्सा नहीं ले रहे Tejpratap|वनइंडिया हिंदी

पटना। लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप का क्या राजद से पत्ता साफ हो गया है। पिछले दिनों हुईं घटनाओं से कुछ ऐसे संकेत मिले हैं जिन्हें देखकर समझ में आ रहा है कि पार्टी से उन्हें किनारे कर दिया गया है। पूरी पार्टी पर अकेले छोटे बेटे तेजस्वी का कब्जा है। इस मामले में लालू और उनकी पत्नी राबड़ी देवी की सहमित मानी जा रही है।

बैठक से गायब थे तेजप्रताप यादव

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार, पटना में मंगलवार को आरजेडी नेताओं की हाईलेवल बैठक हुई थी। बैठक में आरजेडी के तमाम छोटे-बड़े नेताओं को बुलाया गया था। लेकिन इस बैठक में लालू-राबड़ी के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव को कोई तवज्जो नहीं दी गई। बैठक में तेजप्रताप यादव कहीं दिखे ही नहीं दिए। ऐसा पहली बार हुआ है कि आरजेडी की किसी बैठक में तेजप्रताप यादव कहीं नजर नहीं आए। वो भी तब जब तेजप्रताप उसी कैंपस में थे जहां बैठक हो रही थी।

तेजस्वी यादव ने कार्यक्रम से बनाई दूरी

तेजप्रताप यादव छात्र राजद का काम देखते हैं। छात्र राजद ने एक सप्ताह पहले ही 11 सितंबर से पटना से लेकर सिताब दियारा तक पदयात्रा करने का ऐलान किया था। कहा ये गया था कि इस यात्रा को तेजस्वी यादव हरी झंडी दिखायेंगे और इसमें शामिल भी होंगे। तयशुदा कार्यक्रम के मुताबिक छात्र राजद नेता बुधवार से यात्रा शुरू करने के लिए लालू-राबड़ी के आवास 10, सर्कुलर रोड के सामने इकट्ठा हुए।

तेजप्रताप ने दिखाई हरी झंडी

तेजस्वी को यात्रा को हरी झंडी दिखानी थी। वे घंटों इंतजार करते रहे। लेकिन तेजस्वी बाहर निकले ही नहीं। हारकर तेजप्रताप यादव ने यात्रा को हरी झंडी दिखाई। पार्टी का कोई सीनियर लीडर इस मौके पर मौजूद नहीं था। सियासी हलके में चर्चा यही है कि तेजप्रताप अब फाइनली राजद से किनारे कर दिये गये हैं। तेजप्रताप अपने बयानों और कारनामों से तेजस्वी के लिए सिरदर्द बनते रहे हैं। तीन दिन पहले मथुरा में SC-ST एक्ट को लेकर उनके बयान से भी पार्टी में खलबली मची थी। इसी बयान ने तेजस्वी यादव को वो मौका दे दिया जिसका इंतजार वे कर रहे थे।

पहले भी देते रहे हैं संकेत

लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप उस तेजी से जगह नहीं बना पाए जिस तेजी से उनके छोटे बेटे तेजस्वी पिता के जेल जाने के बाद आगे बढ़ते गए। कई बार ऐसी खबरें आईं कि राजद के सीनियर नेता तेजप्रताप की बात को नहीं सुनते। इस पर खुद तेजप्रताप ने फेसबुक पोस्ट लिखकर नाराजगी जाहिर की थी। एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने सारा राजपाठ छोड़कर कैलाश जाने की बात भी कहीं थी। बाद में लालू के जन्मदिन पर हुए एक कार्यक्रम में राबड़ी ने कहा था कि उनके दोनों बेटों के बीच किसी प्रकार मतभेद नहीं है। उनकी तरफ से भी यही बात दोहराई गई थी।

Have a great day!
Read more...

English Summary

rjd lalu prasad yadav son Tej Pratap Yadav did side back in his own party