India
  • search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

देश में गेहूं का उत्पादन पिछले साल के मुकाबले 3% घटा, 2014 के बाद पहली बार गिरावट, जानिए क्यों?

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 20 मई: केंद्रीय कृषि मंत्रालय के गुरुवार (19 मई) को जारी खाद्य उत्पादन के तीसरे अग्रिम अनुमान से पता चलता है इस साल गेहूं का उत्पादन लगभग 3% घटकर 106 मिलियन टन हो जाएगा। देश में गेहूं उत्पादन में 2014-15 के बाद पहली गिरावट देखी जाएगी। केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने कहा कि पिछले साल के 109.59 मिलियन टन के उत्पादन की तुलना में इस साल भारत का गेहूं उत्पादन तीन प्रतिशत गिरकर 106.41 मिलियन टन होने की संभावना है। साल 2020-21 में गेहूं का उत्पादन रिकॉर्ड 109 मिलियन टन हुआ था।

    India wheat production: 3% तक घटा गेहूं उत्पादन, 2014 के बाद बड़ी गिरावट | वनइंडिया हिंदी
    आखिर क्यों गेहूं के उत्पादन आई गिरावट

    आखिर क्यों गेहूं के उत्पादन आई गिरावट

    केंद्रीय केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने गेहूं के उत्पादन में आई गिरावट के पीछे मौसम और बढ़ती गर्मी को जिम्मेदारा बताया है। सरकार ने कहा, कई गेहूं उगाने वाले राज्यों में चिलचिलाती गर्मी ने पैदावार में 20% तक की कटौती की है, जिससे सरकार को लगातार पांच साल की रिकॉर्ड फसल के बाद सर्दियों के अपने अनुमानों को कम करने की संभावना है।

    सरकार के चार तिमाही अनुमानों में से तीसरे ने दिखाया कि गेहूं का उत्पादन इस महीने की शुरुआत में सरकार द्वारा लगाए गए 105 मिलियन टन के अनंतिम अनुमान से 1.41 मिलियन टन अधिक होगा। वहीं गुरुवार के आंकड़ों से पता चलता है कि फरवरी के 111.32 मिलियन टन के अनुमान से उत्पादन अभी भी लगभग 5% कम रहेगा।

    भारत ने हाल ही में गेहूं निर्यात पर लगा दिया था बैन

    भारत ने हाल ही में गेहूं निर्यात पर लगा दिया था बैन

    भारत ने हाल ही में गेहूं निर्यात पर बैन लगा दिया था। भारत ने 13 मई को कहा कि वह "उनकी खाद्य सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने" के लिए एक विदेशी सरकार के अनुरोध पर सरकार द्वारा अनुमोदित अनाज को छोड़कर, अनाज की सभी विदेशी बिक्री को निलंबित कर रहे हैं। बता दें कि यूक्रेन युद्ध के कारण उत्पन्न कमी के कारण दुनिया शिपमेंट के लिए भारत पर निर्भर थी। रूस और यूक्रेन दुनिया के कुल गेहूं निर्यात का लगभग एक तिहाई हिस्सा हैं।

    जानें देश में चावल का कितना होगा उत्पादन

    जानें देश में चावल का कितना होगा उत्पादन

    2021-22 फसल वर्ष (जून से जुलाई) में चावल का उत्पादन 4.2% बढ़कर 129.66 मिलियन टन होने का अनुमान है, जो पिछले वर्ष 124.37 मिलियन टन था। गेहूं के उत्पादन में गिरावट के बावजूद, देश का कुल खाद्यान्न उत्पादन 2021-22 में 314.51 मिलियन टन होने का अनुमान है। जो पिछले साल की तुलना में लगभग 5 फीसदी अधिक हैं। पिछले वर्ष की कटाई के 310.74 मिलियन टन थी, जो एक रिकॉर्ड थी।

    दाल का कैसा होगा उत्पादन

    दाल का कैसा होगा उत्पादन

    दालें एक अन्य प्रमुख वस्तु पिछले वर्ष के 25.46 मिलियन टन के उत्पादन के मुकाबले 8% बढ़कर 27.75 मिलियन टन होने का अनुमान है। हालांकि मोटे अनाज के एक साल पहले की अवधि में 51.32 मिलियन टन से मामूली गिरावट के साथ 50.70 मिलियन टन होने की उम्मीद है।

    ये भी पढ़ें-'काम कीजिए और हर दिन शराब पीजिए...', 113 वर्षीय दुनिया के सबसे बुजुर्ग शख्स ने बताया लंबी उम्र का राजये भी पढ़ें-'काम कीजिए और हर दिन शराब पीजिए...', 113 वर्षीय दुनिया के सबसे बुजुर्ग शख्स ने बताया लंबी उम्र का राज

    नवीनतम आंकड़ों से पता चला है कि गैर-खाद्य फसलों में, कपास का उत्पादन 31.54 मिलियन गांठ (प्रत्येक 170 किलोग्राम) होने का अनुमान है, जो पिछले साल के 35.24 मिलियन गांठों की तुलना में कम है।

    Comments
    English summary
    India wheat production: Centre says Wheat output to dip 3% over last year
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X