बनारस की सड़कों पर 'डॉन' का फरमान देख लोग चौंके!

पोस्टर्स में छिपा है स्वच्छता अभियान का संदेश। फिल्मी पोस्टर में दिखाया गया दृश्य तो असली था। लेकिन उस पर जो डायलॉग लिखे थे वे बदले हुए थे।

Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। सड़कों पर जब अचानक सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की ब्लॉक बस्टर फिल्में जैसे दीवार, सिलसिला, शोले, डॉन और शराबी के पोस्टर दिखे तो लोग ठिठक गए। एक बारगी लोग यही समझे कि पुरानी फिल्म भी लगी है या किसी फिल्मी मेले का कोई प्रमोशन का कैंपेन हो रहा है। लेकिन नजदीक जाने पर माजरा बिल्कुल अलग था। ये भी पढ़ें: मुंबई से वाराणसी तक फ्लाइट में सफर कर रही महिला की मौत, पति ने क्रू मेंबर्स पर लगाया इल्जाम

स्वच्छता अभियान के संदेश का नया तरीका

दरअसल, पोस्टर्स में छिपा है स्वच्छता अभियान का संदेश। फिल्मी पोस्टर में दिखाया गया दृश्य तो असली था। लेकिन उस पर जो डॉयलाग लिखे थे वे बदले हुए थे। यह डॉयलाग उस फिल्म के हिट डायलॉग की तर्ज पर बनाया गया था। इन मशहूर फिल्मों के क्लासिक डायलॉग के जरिए काशी नगरी को साफ-सुथरा रखने का संदेश दिया जा रहा है। उदाहरण के तौर पर अमिताभ की सुपरहिट फिल्म दीवार में जब अमिताभ, पीटर और उसके गुंडों के साथ मारपीट कर रहे होतें हैं तो अमिताभ का डायलॉग है-‘पीटर, यह चाबी अपनी जेब में रख लो। अब मैं यह दरवाजा तुम्हारी जेब से चाबी निकालकर ही खोलूंगा।

डायलॉग के जरिए लोगों को जागरुक करना

जबकि काशी की सड़कों पर जो दीवार फिल्म के पोस्टर लगे हैं उसमें लिखा है, ‘पीटर, अगर तुमने दीवार पर पान खाकर थूका, तो तुम्हारा चेहरा मैं लाल कर दूंगा। स्वच्छ भारत अभियान का संदेश लोगों तक पहुंचाने का यह अभिनव तरीका लोगों के बीच काफी हिट हो गया है। उन्हें काफी पसंद भी आ रहा है। ठीक इसी तरह का एक पोस्टर बिग भी की फिल्म डॉन का भी लगाया गया की बनारसी पान खाकर दिमाग का ताला खोलो वरना पान खाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जायेगा।

नगर निगम द्वारा किया जा रहा है सतर्क

यह नगर निगम का अभिनव प्रयोग था। दरअसल, नगर निगम के नगर आयुक्त हरी प्रताप शाही ने बताया कि लगातार वाराणसी को स्वच्छ रखने का जागरूकता अभियान चला रहा है। जिसके मद्देनजर अमिताभ बच्चन के फ़िल्मी पोस्टरों का सहारा लिया गया है। चूंकि अमिताभ बच्चन स्वच्छता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर हैं। इसलिए उनके फ़िल्मी पोस्टरों के डायलॉग के जरिये लोगो को गंदगी न करने के लिए सफाई संदेश दिया जा रहा है। ये भी पढ़े: वाराणसी: मुंशी प्रेमचंद के गांव में जाकर बुरे फंसते हैं पर्यटक, जानिए कैसे?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
municipal corporation is working for swachh bharat abhiyan at varanasi in uttar pradesh.
Please Wait while comments are loading...