वाराणसी: मंत्रों से बीमारियों को दूर करनेवाली सैकड़ों साल पुरानी किताब मिली!

Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी आधुनिकता के इस दौर में अब हमारे देश में मेडिकल साइंस भी काफी आगे निकल चुका है जहां हर बीमारी का इलाज अब लगभग संभव है। लेकिन आज से सैकड़ों वर्ष पहले बीमारियों का इलाज कैसे होता था? 250 वर्ष पुरानी पाण्डुलिपि मिली है, जिसमें मंत्रो से इलाज के उपाय लिखे हुए हैं। Read Also: बनारस की सड़कों पर 'डॉन' का फरमान देख लोग चौंके!

 

वाराणसी: मंत्रों से बीमारियों को दूर करनेवाली सैकड़ों साल पुरानी किताब मिली!

मेडिकल साइंस काफी तरक्की कर चुका है। इंसान का इलाज अब मशीनें करने लगी हैं, लेकिन अक्सर ये ख्याल आता है कि सैकड़ों साल पहले मरीजों का इलाज कैसे हुआ करता था? इन्हीं रहस्यों को जानने के लिए बीएचयू न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड डॉ. वीएन मिश्रा ने पांडुलिपियों का अध्ययन किया। जिसमें उनको पता चला कि मिर्गी, पागलपन, बच्चों के मियादी बुखार, पोत बढ़ने (हाइड्रोसिल) जैसी बीमारियों का इलाज पांडुलिपी में लिखे मंत्रों के माध्यम से होता था।

वाराणसी: मंत्रों से बीमारियों को दूर करनेवाली सैकड़ों साल पुरानी किताब मिली!

ये पांडुलिपी 250 साल से पुरानी है और इसकी लिखावट की शैली श्लोकों की है। डॉ. मिश्रा बताते है कि विज्ञान इसे नहीं मानता है। लेकिन ये अन्धविश्वास नहीं, बल्कि ये उस समय का तरीका हैं।

वाराणसी: मंत्रों से बीमारियों को दूर करनेवाली सैकड़ों साल पुरानी किताब मिली!
 

कैसे पता चला डॉ मिश्र को पांडुलिपि के बारे में

दरअसल ये पाण्डुलिपि डॉ मिश्रा को कबाड़ से मिली थी। उस वक्त जब इनके घर से तुलसीदास की 400 वर्ष पुरानी पाण्डुलिपि खो गयी थी, उसी को ढूंढने के लिए डॉ मिश्रा देश के जगह-जगह पर कबाड़ में पाण्डुलिपि ढूंढने जाते थे। ऐसे में उन्हें एक स्थान पर ये पाण्डुलिपि मिली, जिसका नाम पंचरतन हैं। डॉ मिश्रा ने इसे अपने पास रख लिया और जब अपने सहयोगी के साथ इस पर रिसर्च किया तो पाया की इस किताब में मंत्र लिखे हुए हैं जो बिमारियों को ठीक करने के लिए लिखे गए हैं। हर बीमारी के अलग अलग मंत्र हैं। बुखार, पोत बढ़ना, मिर्गी, मानसिक बीमारी यहाँ तक की भूतप्रेत के भी भगाने के मंत्र हैं। Read Also: मुंशी प्रेमचंद के गांव में जाकर बुरे फंसते हैं पर्यटक, जानिए कैसे?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
BHU Neurology department head doctor BN Mishra found manuscripts of mantras which deals with the treatment of several diseases.
Please Wait while comments are loading...