वाराणसी में गठबंधन के बावजूद आमने-सामने आए अपना दल और भाजपा

वाराणसी की विधानसभा सीटों पर अपना दल और भाजपा के बीच बात बनती नहींं दिख रही है। अनुप्रिया पटेल ने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करते हुए रोहनिया और सेवापुरी से पार्टी के चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। भारतीय जनता पार्टी की मुसीबत कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं, एक तरफ जहां पार्टी के वरिष्ठ नेताओ से लेकर समर्थक टिकट बंटवारे पर विरोध कर रहे हैं तो कइयों ने निर्दल चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी हैं। ऐसे में एक नई मुसीबत भारतीय जनता पार्टी को इस विधान सभा चुनाव में देखने को मिलेगा जब उनके ही केन्द्रीय मंत्री की अपनी पार्टी के उम्मीदवारों से इस चुनावी दंगल में बीजेपी के खिलाफ लड़ेंगे। बात हो रही है बीजेपी और अपना दल (सोनेलाल) के गठबंधन की। अपना दल की मुखिया अनुप्रिया पटेल ने चौथी सूची में वाराणसी के रोहनिया, सेवापुरी के साथ ही मिर्जापुर के मड़िहान और चुनार से अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।

कौन होगा वाराणसी में बीजेपी के खिलाफ मैदान में
अनुप्रिया पटेल ने आज की सूची में रोहनिया विधान सभा से उदय सिंह पटेल और सेवापुरी विधान सभा से नील रतन सिंह पटेल को चुनाव मैदान में उतारा है। दरसल रोहनिया और सेवापुरी दोनों ही विधान सभा में निर्णायक वोटिंग पटेल ही करते हैं और रोहनिया तो अपना दल की अपनी सीट मानी जाती हैं अब तक में सिर्फ एक बार के उपचुनाव में अपना दल के हाथ से ये सीट सपा के पाले की गयी हैं, और महेंद्र सिंह पटेल जो सपा के विधायक और लोक निर्माण मंत्री सुरेंद्र पटेल के भाई हैं उन्होंने चुनाव जीता था ।

इसी सीट को लेकर शुरू हुई थी रार
वाराणसी के रोहनिया विधान सभा सीट को लेकर ही बीजेपी और अनुप्रिया में रार शुरू हुई थी, जिसके लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से अनुप्रिया ने अपना विरोध भी जताया था साथ ही बीते दिन अपने वाराणसी दौरे पर भी एयरपोर्ट पर मीडिया से बात चीत में अनुप्रिया से साफ किया था कि इस सीट के लिए पार्टी से कोई भी समझौता किसी भी कीमत पर नहीं किया जायेगा। कहा तो ये भी जाता रहा हैं कि अनुप्रिया का वाराणसी दौरा इसी सीट के लिए हुआ था जिसमे वो अपने पार्टी के नेताओ को आगामी विधान सभा में तैयारी करने का आदेश भी दे कर गयी थी ।

अब होगा दिलचस्प मुकाबला
इस सूची के आने के बाद अब वाराणसी की इन दोनों सीटों पर मुकाबला काफी रोचक होने वाला हैं। रोहनिया में भाजपा को अपने ही केंद्र के गठबंधन मंत्री के उम्मीदवार से सामना करना होगा तो वही सपा और कांग्रेस के गठबंधन प्रत्याशी आनंद मोहन यादव को इस आपसी लड़ाई का फायदा मिल सकता हैं। जबकि सेवापुरी में अपना दल के उम्मीदवार का सामना विधायक और मंत्री रहे सुरेन्द पटेल से करना होगा। 
यूपी: चुनाव से पहले प्रतापगढ़ में हार से बचा भाजपा-अद गठबंधन, पढ़िए क्या हुआ?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
apna dal and bjp alliance trouble in varansi
Please Wait while comments are loading...