अखिलेश सरकार की व्यवस्था की खुली पोल, ठेले पर पति को लादने को मजबूर हुई पत्नी

वाहन ने टक्कर मारी जिसके बाद पति घायल हो गया। यूपी सरकार की एंबुलेंस सेवा 108 को कॉल किया तो बताया गया कि वाहन नहीं है।

Subscribe to Oneindia Hindi

हरदोई। उत्तर प्रदेश सरकार की 108 एंबुलेंस सेवा की स्थिति कितनी बदतर है, इसका एक नजारा हरदोई के झबरा पुरवा इलाके में देखने को मिला। यहां घायल पति को हॉस्पिटल ले जाने के लिए एक पत्नी को उसे ठेला पर लादकर ले जाना पड़ा। अखिलेश सरकार स्वास्थ्य सुविधा देने का दावा तो करती है लेकिन हरदोई में इसकी पोल खुल गई। Read Also: हत्यारोपियों ने घर में घुसकर लड़की को पीटा, यूपी पुलिस ने बढ़ाया हौसला!

अखिलेश सरकार की व्यवस्था की खुली पोल, ठेले पर पति को लादने को मजबूर हुई पत्नी

हरदोई जिले के कोतवाली सिटी के अंतर्गत झबरा पुरवा के पास शुक्रवार की सुबह एक वाहन ने मजदूरी करने जा रहे एक युवक को टक्कर मार दी जिससे वहां पर मौजूद तमाम लोगों ने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया। 108 एंबुलेंस पर कई बार फोन किया, पहले तो फोन नहीं लगा और जब लगा तो एंबुलेंस ना होने की बात कही गई जिससे पीड़ित संजय कुमार की पत्नी ने अपने पति को कराहते हुए देख आनन-फानन में एक ठेले पर लादकर जिला हॉस्पिटल के लिए रवाना हो गई।

अखिलेश सरकार की व्यवस्था की खुली पोल, ठेले पर पति को लादने को मजबूर हुई पत्नी

हॉस्पिटल में इलाज के दौरान भी काफी मशक्कत करनी पड़ी तब जाकर इलाज के लिए डॉक्टरों ने मरीज संजय को एडमिट किया। उपचार शुरू किया और संबंधित थाने में संजय के परिजनों ने अज्ञात वाहन के खिलाफ तहरीर दी। सूबे की सरकार भले ही स्वास्थ्य विभाग के लिए बेहतर से बेहतर सुविधाएं मुहैया कराती हो मगर धरातल पर परिस्थितियां कुछ और ही नजर आती है, बद से बदतर स्थिति देखने को मिल रही है। Read also: बसपा प्रत्याशी ने आचार संहिता की उड़ाई खिल्ली, तमाशा देखती रही पुलिस

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Hardoi region, A labour injured in road accident and his wife forced to take him on pull cart.
Please Wait while comments are loading...