सुल्तानपुर: क्या अखिलेश ने अतिआत्मविश्वास में खेला यह दांव, जिससे हार सकती है सपा!

मुस्लिम बाहुल्य इसौली सीट से वोटर्स के विरोध के बावजूद सपा ने विधायक अबरार अहमद को प्रत्याशी घोषित किया है। अबरार अहमद 2012 में सपा लहर के चलते यहां से चुनाव जीते थे लेकिन इस बार उनकी चुनौती कड़ी है।

Subscribe to Oneindia Hindi

सुल्तानपुर। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सीएम अखिलेश यादव खुद के भरोसे 225 और अब कांग्रेस से गठबंधन के बाद 300 सीट जीतने का सपना संजोए बैठे हैं। लेकिन कैंडिडेट चयन में जिस तरह की उन्होंने कोताही बरती है उससे उनके सपने साकार होते नज़र नहीं आ रहे। जैसे की इसौली सीट पर कई योद्धा होने के बावजूद भी सीएम ने इस सीट से फिर उसी कैंडिडेट को चुना है जिसका न सिर्फ पार्टी बल्कि वोटर्स के बीच भी भारी विरोध है। ऐसे में ये सीट सपा के हाथों से जाती दिख रही है।

Read more: शामली: चुनाव में दिखा नेता का पाकिस्तान प्रेम, प्रत्याशी ने खुलेआम देश का उड़ाया मजाक

पिछली बार सपा लहर में मिल गई थी जीत

मुस्लिम बाहुल्य इसौली सीट से वोटर्स के विरोध के बावजूद सपा ने विधायक अबरार अहमद को उम्मीदवार घोषित किया है। अबरार अहमद 2012 में सपा लहर के चलते इस सीट से चुनाव जीते थे। उनकी इस जीत में पहले के घोषित उम्मीदवार शकील अहमद की मेहनत का भी फायदा उन्हें मिला था।

विकास कार्य ठप होना इस बार चुनाव में होगा बड़ा मुद्दा

मौजूदा समय में आलम ये है कि जिले की 5 विधानसभा सीटों में सबसे कम विकास कार्य जिस विधानसभा क्षेत्र में हुआ है वो इसौली विधानसभा क्षेत्र है। वो भी तब जबकि स्टेट में मौजूदा विधायक की ही सरकार रही। लेकिन क्षेत्र का आलम ये है कि मुख्य मार्ग पूरी तरह जर्जर है, पानी और बिजली की किल्लत भी जस की तस बनी हुई है। ऐसे में इसौली की जनता बेहद गुस्से में है और सपा से उम्मीदवार अबरार अहमद के खिलाफ आए दिन विरोध प्रदर्शन कर रही है। दो दिन पहले ही लोगों ने अबरार अहमद का पुतला फूंककर अपना विरोध प्रकट किया था।

बगावत पर उतरे शिवकुमार बढ़ा सकते हैं दिक्कत

एमएलए अबरार के उम्मीदवार घोषित होने के बाद यहां पर रार शुरू हो गई है। जिससे सपा उम्मीदवार की मुश्किल बढ़ गई है। सपा के ही जिला पंचायत अध्यक्ष पति शिवकुमार सिंह बगावत पर उतर आए और चुनाव मैदान में कूद पड़े हैं। उन्होंने बकायदा इसौली विधानसभा के कई गांवों में दौरा कर अपने लिए वोट की मांग की है। जिससे राजनीतिक गलियारे में हलचल मच गई है। 

जीत की गारंटी दे रहे हैं शिवकुमार सिंह

शिवकुमार सिंह चुनाव लड़ने की आस में कई साल से क्षेत्र भ्रमण और लोगों से मिलते-जुलते चले आ रहे हैं। शिवकुमार सिंह का कहना है कि उनके साथ सभी वर्गों के लोग कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं और ऐसे में उनकी जीत पक्की है।

Read more:यूपी दंगल में मां कृष्णा के खिलाफ प्रचार करेंगी बेटी अनुप्रिया पटेल!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Voters protest against SP candidate in Isauli seat Sultanpur
Please Wait while comments are loading...