मथुरा: कोतवाल समेत चार पुलिसकर्मी सस्पेंड, श्रीकांत-हेमा के खिलाफ लगे नारे

Subscribe to Oneindia Hindi

मथुरा। उत्तर प्रदेश में मथुरा के मुख्य बाजार होलीगेट पर हुए दो सर्राफा व्यापारियों की हत्या और करीब 4 करोड़ की लूट के मामले में दो दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ है। हलांकि एसटीएफ और पुलिस ने इस मामले के खुलासे के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रखा है।

शांत नहीं हो रहा व्यापारियों का गुस्सा

शांत नहीं हो रहा व्यापारियों का गुस्सा

सरेबाजार हुए इस हत्याकांड के जरिये जहाँ विपक्षियो ने योगी सरकार को जमकर घेरा वहीं प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री और प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा को खुद मथुरा आना पड़ा। सरकार के मंत्री से लेकर डीजीपी, आईजी, डीआईजी और एसटीएफ ने इस मामले के खुलासे के लिए डेरा डाल रखा है। लेकिन इस मामले के खुलासे में पुलिस को अब तक मिली नाकामी को देखते हुए व्यापारियों का गुस्सा शांत होने का नाम नही ले रहा है।

कोतवाल समेत चार को किया निलंबित

कोतवाल समेत चार को किया निलंबित

व्यापारियों के बढ़ते दबाव को देख एसएसपी ने चौकी प्रभारी होलीगेट व दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था वहीं अब इस मामले में शहर कोतवाल सुरेंद्र सिंह यादव को सस्पेंड कर दिया है। सी ओ सिटी जगदीश सिंह को निलंबित करने की संस्तुति शासन से कर दी है । इस संबंध में एसी सिटी ने बताया कि मामले के खुलासा जल्द कर दिया जाएगा और कई लोगों को हिरासत में लिया जरूर गया है लेकिन किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। घटना के विरोध में जहाँ बुधवार को व्यापारियों ने बाजार बंद रखा वहीं शाम को आक्रोशित लोगों ने घटना के जल्द खुलासे के लिए केंडल मार्च निकाल जल्द से जल्द न्याय दिलाने की मांग की।

घायल व्यापारियों की हालत में सुधार

घायल व्यापारियों की हालत में सुधार

उधर इस वारदात में घायल हुए दो व्यापारियों की हालत में सुधार है और दो दिन के बाद दोनों को होश आ गया है। कई बार अफवाहों के उड़ने के चलते व्यापारियों के होश में आने के बाद नयति हॉस्पिटल को दोनों का मेडिकल बुलेटिन जारी करना पड़ा।

इंसाफ के लिए भूख हड़ताल पर परिवार

पुलिस हाथ पर हाथ रख कर बैठी रही और घनी आबादी में से बदमाश फरार हो गए। CCTV फुटेज होने के बावजूद पुलिस अभी तक बदमाशों तक नहीं पहुंच पाई है जिससे व्यापारियों में आक्रोश है और व्यापारी लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन पुलिस पूरी खाली हाथ नजर आ रही है जिसके विरोध में मृतक मेघ के परिवार का सब्र का बांध टूट गया और परिवार होली गेट चौराहे पर भूख हड़ताल पर बैठ गया। परिवार का कहना है कि जिस तरह से उनके बेटे की हत्या हुई है, पुलिस की लापरवाही से से ही बदमाश हत्या कर फरार हो गए थे ।

पीड़ित परिवार के भूख हड़ताल पर बैठने की सूचना पर प्रशासन में हड़कंप मच गया और सिटी मजिस्ट्रेट मौके पर पहुंच गए। परिवार को समझाने बुझाने की लाख कोशिश की लेकिन परिवार गिरफ्तारी और अनकाउंटर से पहले कुछ भी मानने को तैयार नहीं है, मेरे परिवार में दहशत का माहौल है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Victim family on hunger strike in Mathura after double murder.
Please Wait while comments are loading...