यूपी चुनाव-2017- अखिलेश और कांग्रेस की करीबी ने बदला यूपी का समीकरण

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले सपा में कलह के बीच एक बार फिर से जिस तरह से अखिलेश यादव कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर आगे बढ़ते दिख रहे हैं उसने बसपा सुप्रीमो मायावती को एक बार फिर से अपनी रणनीति के बारे में सोचने को मजबूर कर दिया है। इलाहाबाद सहित कई जगहों पर डिंपल यादव और प्रियंका गांधी के पोस्टर एक साथ लगाए गए है उसने ना सिर्फ बसपा बल्कि भाजपा को भी अपनी रणनीति के बारे में फेरबदल करने को मजबूर किया है।

mayawati

अखिलेश के कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर हो रही कोशिशों के बीच भाजपा ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए अब बसपा के साथ करीबी बढ़ांने व सपा और कांग्रेस के साथ होने वाले गठबंधन पर जमकर हमला बोलने का फैसला लिया है। हालांकि कांग्रेस ने अभी तक इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की है कि वह अखिलेश यादव के साथ गठबंधन करने जा रही लेकिन जिस तरह से जमीनी स्तर पर दोनों पार्टियों का गठजोड़ दिख रहा है उससे साफ है कि दोनों पार्टियां इस चुनाव में साथ मैदान में उतरेंगी।

भाजपा के रणनीतिकार ने वनइंडिया को बताया कि सपा और कांग्रेस के गठबंधन का हल्के में नहीं लिया जा सकता है। इस गठबंधन को कमजोर करने के लिए हमें अपनी पूरी ताकत झोंकनी होगी और अपनी रणनीति को उसी लिहाज से आगे करना होगा। भाजपा नेता ने यह भी बात कही है कि पर्दे के पीछे बसपा के साथ भी बातचीत की जा रही है। वहीं कांग्रेस के एक नेता का कहना है कि वह अभी भी सपा के साथ बात कर रही है, इस बात की भी संभावना है कि सपा-कांग्रेस और लोकदल का गठबंधन हो जाए। समाजवादी पार्टी कांग्रेस और लोकदल को 135 सीटें देने के लिए तैयार है। वहीं कांग्रेस के नेता का यह भी कहना है कि वह अखिलेश खेमे से साइकिल छिन जाने के बाद भी कोई खास परेशान नहीं होंगे और यह चिंता का विषय नहीं है। माना जा रहा है कि चुनाव आयोग 17 जनवरी को सपा के चुनाव चिन्ह पर अपना फैसला दे सकती है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
UP elections: WIth SP-Cong inching closer, BJP looks to BSP.BJP leader says there are back channel talk are going on with BSP.
Please Wait while comments are loading...