आरएलडी के लिए प्रचार मैदान में उतर सकते हैं मुलायम सिंह यादव

Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव अपने बेटे अखिलेश यादव व सपा-कांग्रेस गठबंधन पर एक बार फिर से मुलायम हो गए हैं। पहले जहां उन्होंने कांग्रेस-सपा के गठबंधन का विरोध करते हुए इस गठबंधन के लिए प्रचार नहीं करने की बात कही थी तो अब उन्होंने इस गठबंधन और अखिलेश यादव का अपना आशीर्वाद देते हुए कहा है कि वह इसके लिए प्रचार करेंगे। एक तरफ जहां अखिलेश यादव पहले ही कह चुके हैं कि वह इस बार का चुनाव नेताजी के नाम पर ही लड़ेंगे तो दूसरी तरफ राष्ट्रीय लोकदल मुलायम को अपनी पार्टी में लाने की कोशिश कर रही है।

mulayam singh

सपा कांग्रेस के गठबंधन के बाद रालोद को इस गठबंधन से दूर रखा गया जिसके बाद से ही अजीत सिंह तमाम कोशिशों में जुटे हैं कि वह मुलायम सिंह को अपने पाले में ला सके, यही नहीं उन्होंने मुलायम से अपील भी की है कि वह उनकी पार्टी के लिए प्रचार करें। रालोद ने पहले ही मुलायम सिंह यादव की तस्वीरों को अपने प्रचार के पोस्टर में इस्तेमाल करना शुरु कर दिया है। तमाम रालोद के नेता भी मुलायम से गुजारिश कर रहे हैं कि वह उनके लिए प्रचार करें। हालांकि मुलायम सिंह यादव ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं और अभी तक इस प्रकरण पर किसी भी तरह की कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

इसे भी पढ़ें- आगरा: बीजेपी ने पोस्टरों से साधा विरोधियों पर निशाना, आपराधिक घटनाओं को बनाया मुद्दा

आरएलडी पहले ही मुलायम सिंह यादव को अपनी पार्टी का अध्यक्ष और चुनाव चिन्ह देने का प्रस्ताव दे चुकी है। पार्टी के सूत्रों का दावा है कि मुलायम सिंह यादव आरएलडी में आने के संकेत भी दे चुके हैं और मुमकिन है कि आने वाला चुनाव शिवपाल और मुलायम रालोद के चिन्ह पर लड़े। आपको बता दें कि सपा और कांग्रेस के बीच गठबंधन के बाद से ही मुलायम खेमा अखिलेश खेमे के खिलाफ लगातार बयानबाजी कर रहा है। खुद शिवपाल सिंह कह चुके हैं कि वह चुनाव नतीजों के बाद 11 मार्च को नयी पार्टी बनाएंगे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The RLD has already offered Mulayam Singh the party's symbol and post of national president.
Please Wait while comments are loading...