यूपी में तमाम दल प्रचार में जुटे तो सपा चुनाव चिन्ह में उलझी

Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का चुनाव आयोग ने बुधवार को ऐलान कर दिया है। एक तरफ जहां तमाम पार्टियां चुनावी प्रचार में की होड़ में लग गई हैं, तो दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी में अभी भी भ्रम की स्थिति बनी हुई है। जिस तरह से पार्टी के भीतर दो गुट बन गए हैं और चुनाव चिन्ह को लेकर संघर्ष चल रहा है और तमाम उम्मीदवार अभी भी इस संशय में हैं कि वह किस विधानसभा क्षेत्र में अपना चुनाव प्रचार करें। पार्टी के भीतर तमाम उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्हें अखिलेश यादव का समर्थन प्राप्त है तो दूसरी तऱफ शिवपाल व मुलायम खेमा पूरी तरह से भ्रम की स्थिति में है। समाजवादी पार्टी के भीतर तमाम ऐसे उम्मीदवार हैं जिन्हें अखिलेश यादव और मुलायम सिंह दोनों का समर्थन प्राप्त है। दोनों गुटों द्वारा जारी की गई लिस्ट में 160 से अधिक ऐसे उम्मीदवार हैं जिन्हें दोनों ही गुटों की लिस्ट में जगह मिली है। लेकिन जिन उम्मीदवारों के नाम दोनों लिस्ट में अलग-अलग हैं, उन्हें इस बात का भय है कि उनका नाम लिस्ट से कट सकता है, ऐेसे में यह उम्मीदवार अपना चुनाव प्रचार का अभियान भी शुरु नहीं कर पा रहे हैं।

यूपी में तमाम दल प्रचार में जुटे तो सपा चुनाव चिन्ह में उलझी

इन उम्मीदवारों के सामने संकट यह भी है कि वह किस चुनाव चिन्ह के साथ चुनावी मैदान में उतरे। चुनाव आयोग ने भी अभी स्थिति को साफ नहीं किया है और दोनों ही गुटों के चुनाव चिन्ह साइकिल पर दावे पर 9 जनवरी तक जवाब मांगा है। ऐसे में चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद सपा के तकरीबन 10 दिन इस बात का फैसला करने में व्यर्थ जाएगा कि किस चुनाव चिन्ह के साथ मैदान में उतरे। कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि अखिलेश यादव ने पार्टी के भीतर मचे घमासान के बीच सुलह के संकेत दिए हैं, आज 190 विधायकों ने अखिलेश यादव से मुलाकात की, जिसमें गायत्री प्रजापति, गजाला लारी भी शामिल हैं जो मुलायम सिंह यादव के समर्थक हैं।
सपा संग्राम पर चुनाव आयोग ने दोनों गुटों से 9 जनवरी तक जवाब मांगा
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
UP assembly elections 2017: Why the SP is a confused a lot ahead of campaign. Candidates are still confused on wht symbol they have to go for campaign.
Please Wait while comments are loading...