इस एक्ट्रेस को मिला नया ऑफर ही बन गया इसकी मौत का राज!

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

इलाहाबाद। भोजपुरी फिल्मों की मशहूर अदाकारा अंजली श्रीवास्तव का शव देर शाम उनके घर इलाहाबाद पंहुचा। शव पहुंचते ही परिजनों और रिस्तेदारों में चीख-पुकार मच गई। मातम के घर पर हजारों लोगों की भीड़ जुट गई। परिजनों को लोग सांत्वना देने का प्रयास करते रहे। परिजनों का आरोप है की उनकी बेटी अंजली ने आत्महत्या नहीं की बल्कि उसकी हत्या कर इसे आत्महत्या का रूप दिया गया है। देर शाम इलाहाबाद के रसूलाबाद गंगा घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। बता दे जो सोमवार को भोजपुरी एक्ट्रेस अंजली श्रीवास्तव की डेडबॉडी उसके मुंबई के जुहू स्थित फ्लैट में पंखे से लटकी मिली थी। सूचना के बाद परिजन मुंबई रवाना हुए। चार्टेड प्लेन से शव को बनारस लाया गया। वहां से सड़क मार्ग के रस्ते शव देर शाम इलाहाबाद के मीरपुर स्थित घर पंहुचा था।

परिजनों ने उठाए सवाल, क्यों नहीं था सीसीटीवी?

परिजनों ने उठाए सवाल, क्यों नहीं था सीसीटीवी?

अंजली के पिता प्रेम प्रकाश श्रीवास्तव ने मीडिया से बात करते हुए बेटी की मौत पर कई सवाल उठाए। उन्होंने इसे आत्महत्या के मामले से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा की किसी सोसाइटी में सीसीटीवी कैमरा कैसे नहीं हो सकता। अंजली की फ्लैट के आसपास से जानबूझकर सीसीटीवी कैमरे निकाले गए हैं। आजकल तो हम छोटे से मॉल या मूवी हॉल जाते हैं, वहां भी लिखा होता है कि आप सीसीटीवी कैमरा की नजर में हैं तो इतनी बड़ी सोसाइटी में कैमरे क्यों नहीं लगे? सबसे आश्चर्य की बात तो ये है की पुलिस ने पोस्टमॉर्टम से पहले फैमिली को इन्फॉर्म करना तक जरूरी नहीं समझा। मेरी बेटी बहुत हिम्मती थी, वह कभी आत्महत्या के लिए सोच भी नहीं सकती।

13 जुलाई को था अंजली का बर्थडे

13 जुलाई को था अंजली का बर्थडे

प्रेम प्रकाश श्रीवास्तव ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा की पुलिस ने रिपोर्ट में लिखा है कि फ्लैट बाहर से बंद था, वो ताला तोड़कर अंदर एंटर हुए। उन्हें स्पॉट से कोई ऑब्जेक्शनेबल आइटम नहीं मिला, न कोई सुसाइड नोट बरामद हुआ। ऐसे में वो कैसे कह सकते हैं कि मेरी बेटी ने सुसाइड किया है? पुलिस खुद अंजली की मौत का सच छिपाना चाह रही है। इसलिए वो मौत को सुसाइड का रूप दे रही है। मेरी तो समझ में नहीं आता की आखिर पुलिस कैसे कह सकती है की आत्महत्या हुई है। आखिर पुलिसवाले एमबीबीएस या सर्जन तो है नहीं कि डिसाइड कर लें कि सुसाइड हुआ है? घटना की सीबीआई से जांच कराकर दोषी को कड़ी सजा दी जानी चाहिए। यही हमारी मांग है।

अंजली का 13 जुलाई को बर्थडे था। शनिवार शाम जब फोन पर परिजनों की अंजली से बात हुई थी तो अंजली ने कहा था की 13 जुलाई को अपनी बर्थडे पार्टी वो इलाहाबाद आकर रिश्तेदारों के साथ मनाएगी। अंजली की बहन रूही और जूही ने बताया कि फोन पर अंजली ने बताया की उसने बर्थडे पार्टी के लिए अपने खातिर सफेद साड़ी, सफेद पर्स, जूती खरीदी है। फिर रविवार को उससे बात नहीं हो सकी। लेकिन जब सोमवार को अंजलि से बात करने के लिए फोन किया तो कॉल नहीं रिसीव हुई।

डेलीसोप में काम करने वाली थी

डेलीसोप में काम करने वाली थी

पुलिस की जांच पड़ताल की जानकारी देते हुए पिता प्रेम ने बताया की पुलिस ने अंजली के मोबाइल कॉल डिटेल में एक नंबर को संदिग्ध माना है। जिस पर वो देर तक बात करती रहती थी। घटना वाले रोज भी वो कई घंटे तक उस शख्स से बात करती रही। पुलिस का कहना है कि ये शख्स सी-ग्रेड की फिल्मों का प्रोड्यूसर है। जबकी एक अन्य व्यक्ति भी पुलिस के रडार पर हैं। माना जा रहा कि उनमें से किसी एक शख्स का अभिनेत्री की मौत से ताल्लुक जरूर है। प्रेम श्रीवास्तव ने मीडिया से बताया कि अंजली की एक दोस्त ने भोजपुरी फिल्मों की बजाए अब सीरियल में काम करने को कहा था और वो यही चाहती थी। उसे कुछ ऑफर भी मिले थे। कहीं इसी दौरान वो किसी जाल में तो नहीं फंस गई थी?

पापा को देने वाली थी सरप्राइज, कर दिया सबको शॉक

पापा को देने वाली थी सरप्राइज, कर दिया सबको शॉक

अंजली इलाहाबाद के मीरापुर से सटे शास्त्री नगर मुहल्ले में रहने वाली थी। पिता प्रेम श्रीवास्तव जिला अदालत से बतौर पेशकार रिटायर है। तीन बेटियों में सबसे छोटी थी अंजली उर्फ लवी। अंजली की दो बड़ी बहन रूही और जूही हैं। बचपन से ही वो स्कूल के कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती थी। इलाहाबाद के एसएस खन्ना डिग्री कॉलेज से बीए करने के बाद अंजली का रुझान फिल्मों की तरफ बढ़ा। उसने कुछ एलबम में काम किए। फिर उसे भोजपुरी फिल्मों में काम मिलने लगा और वो मुंबई चली गई। उसने कई भोजपुरी फिल्मों में बतौर अभिनेत्री काम किया। उसकी आखिरी फिल्म थी- 'केहू त दिल में बा'।

सब कुछ सही चल रहा था। अंजली को डेलीसोप में काम के लिए ऑफर था। जबकि ज़ी मीडिया के साथ भी उसका कोई कॉन्ट्रैक्ट होने वाला था। अंजली की मां शीला बताती हैं की लवी शादी समारोह में शामिल होने के लिए 17 फरवरी को इलाहाबाद आई तो करीब दो महीने यहीं रही। वो 29 अप्रैल को मुंबई वापस गई थी। उसके बुलाने पर मैं भी 9 मई को उसके पास मुंबई गई थी। 6 जून को मेरी शादी की सालगिरह थी। लवी ने ही मुझे जबरन पांच मई को ट्रेन से ये कहकर इलाहाबाद भेजा कि पापा को सरप्राइज देना चाहती है। लेकिन ऐसा सरप्राइज मिला की हमारी सारी खुशियां और खुद लवी हमसे दूर चली गई।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The offer of this actress became the secret of his death!
Please Wait while comments are loading...